9.2.11

जियो, ऑर्नब और मित्रों

भूल हो गयी मुझसे, जो कबाड़खाने की यह पोस्ट सुन ली। पिछले पाँच दिनों से उसका मूल्य चुका रहा हूँ, 'ओरे नील दोरिया' न जाने कितनी बार सुन चुका हूँ, सम्मोहन है कि बढ़ता ही जा रहा है। शान्त, मधुर स्वर लहरी जब गायिका के कण्ठ से गूँजती है, हृदय की धड़कन उसकी गति में अनुनादित होने लगती है, शरीर प्रयास करना बन्द कर देता है, आँखें बन्द हो जाती हैं, पूरा अस्तित्व डूब जाता है, बस डूब जाता है, न जाने कहाँ, किस विश्व में।

सचेत स्थिति में वापस आता हूँ तो रोचकता बढ़ती है, इण्टरनेट टटोलता हूँ, ऑर्नब और मित्रों से पहचान होती है, तीस-चालीस गाने सुन जाता हूँ, कर्णप्रिय, मधुर, एक विशेष सुखद अनुभव। जीवन के कुछ वर्ष बांग्लाभाषियों के बीच बिताने के कारण, उन गीतों का हल्का हल्का सा अर्थ मन में उतरता है और शेष भर जाता है संगीत, ऊपर तक। संगीत की भाषा शब्दों की भाषा को अपनी गोद में छिपा लेती है, कोमल ममत्वपूर्ण परिवेश, आपका मानसिक स्तर उठता जाता है भाषा, राज्य, देश, विश्व की कृत्रिम परिधियों से परे, जहाँ कोई आवश्यकता नहीं किसी भी माध्यम की, तदात्म्य स्थापित हो जाता है ईश्वर की मौलिक कृतियों से।

ऑर्नब और मित्रों की सांस्कृतिक शिक्षा शान्तिनिकेतन में हुयी, रबीन्द्र संगीत का स्पष्ट और व्यापक प्रभाव उनके गीतों में व्याप्त है। बांग्ला सामाजिक परिवेश का संगीत प्रेम और संगीत शिक्षा के लिये शान्तिनिकेतन का परिवेश। मैकाले की शिक्षा पद्धति से मन उचटना और शान्तिनिकेतन की स्थापना। गुरुदेव का प्रयोग देश, संस्कृति और समाज के प्रति। साहित्य, संगीत, कला की उन्नत साधना और तीनों में एकल सिद्धहस्तता, शैलीगत। गुरुदेव की तीनों विधाओं में उपस्थिति, जहाँ एक ओर वहाँ की सांस्कृतिक विरासत का अभिन्न अंग है, वहीं दूसरी ओर विश्व-पटल पर बांग्ला-गौरव का सशक्त हस्ताक्षर भी है।

कई वर्ष पहले जब रबीन्द्र संगीत से साक्षात्कार हुआ, बिना प्रश्नोत्तरी के डूब गया स्वरों के मधुर सागर में। लोकसंगीत, बाउल परम्परा, वैष्णव संगीत और शास्त्रीय संगीत के अतिरिक्त विशेषज्ञों का मत है कि कार्नटिक संगीत के स्वर दिख जाते हैं रबीन्द्र संगीत में। संगीत की एक अलग विधा का जन्म किसी सरस्वती-पुत्र, प्रयोगवादी और सृजनशील का ही कार्य हो सकता है। गुरुदेव के 150वें जन्मवर्ष के उपलक्ष्य में भारतीय रेलवे ने इस वर्ष संस्कृति एक्सप्रेस चलाकर कला के प्रति अपनी कृतज्ञता ज्ञापित की है।

वैसे तो संगीत का यह उत्कृष्ट निरूपण सकल विश्व की धरोहर है पर एक भारतीय का सीना और चौड़ा हो जाता, विशेषकर उस समय जब हमारी शिक्षा पद्धति हमारी सांस्कृतिक और बौद्धिक उपलब्धियों को हीन मानने लगी है। मुझे तो रह रह कर यह संगीत श्रेष्ठतम लग रहा है, वर्तमान में, भले ही इसे पूर्वनियत पश्चिमी मानकों पर विशेष न पाया जाये, ग्रैमी व ऑस्कर के लिये।

आप भी डूबिये, पर जब बाहर निकलियेगा, अवश्य बतायें कि हृदय के किन किन कक्षों को अनुनादित कर गया यह गीत?


पुनः सुन लें, नीली नदी के प्रति व्यक्त भाव


↵ Use original player
YouTube
← Replay
X
i

69 comments:

  1. बहुत सुंदर गीत ...... कमाल की कशिश है..... ऐसे गीत अस्तित्व के डूब जाने के लिए ही होते है.... ऑर्नब और उनके मित्रों के बारे में जानकर बहुत अच्छा लगा .... एक भारतीय हूँ सो गर्व तो महसूस हो ही रहा है......
    -----------------
    ऐसा ही एक गीत काफी समय पहले नर्मदा नदी के प्रति व्यक्त भावों से संजोया गया था .....आज तक उससे सम्मोहित हूँ...... अनगिनत बार सुन चुकी हूँ.... आप शायद सुन चुके होंगें ...अगर नहीं तो एक बार इसे भी सुनें .... उम्मीद है आपको अच्छा लगेगा.....

    http://www.youtube.com/watch?v=89D-4-ztyIM&feature=related

    ReplyDelete
  2. मधुर संगीत सुनवाया आपने ....बांगला न जानते हुए भी स्वर और धुन का आनंद लिया ! आभार आपका

    ReplyDelete
  3. बांग्ला भाषियो को संगीत के प्रति रूचि का एक उदाहरण मैने तब देखा मेरे पडोसी एक डाक्टर और उनका पूरा परिवार संगीत के प्रति इतना समर्पित है कि रोज़ ही सब मिल कर रवीन्द्र संगीत का गायन करते है

    ReplyDelete
  4. भावातीत ..दिक् काल से कहीं दूर ले जाता गीत संगीत !
    इस संगीतमय प्रस्तुति और जानकारी के लिए आभार !

    ReplyDelete
  5. आह!! डूब गये!

    ReplyDelete
  6. बंगला साहित्‍य और संगीत तो अद्भुत है, इस का सानी नहीं। आभार।

    ReplyDelete
  7. संगीत का जादू. ओ नोदी रे कोथाय तोमार देश ओ नोदी कोथाय तोमार देश.

    ReplyDelete
  8. khboobsurat geet! madhur sangeet!

    ReplyDelete
  9. बोल तो समझ नही आये पर संगीत बहुत कर्ण प्रिय है

    ReplyDelete
  10. सर जी लगता है आजकल आप कोलकता का लुफ्त उठा रहे है ,भांड (मिटटी का वर्तन ) पर चाय की चुस्कियां लेते लेते ! :) वैसे बंगाली बहुत ज्यादा तो नहीं आती लेकिन समझ लगभग लेता हूँ क्योंकि अपने ज्यादातर कुलीग बंगाली ही है ! वाकई मधुर गीत है, थोड़ा उदासी भरा भी !

    ReplyDelete
  11. बंगाली परिवार संगीत,नृत्य,साहित्य एवं माछेर मुंडी की चाहत हमेशा रखते हैं।

    आभार

    ReplyDelete
  12. aap apni prastooti se geet ko aur samohak bana dala hai........

    pranam.

    ReplyDelete
  13. इस सुंदर गीत की ध्वनि आत्मा को छूती है ....
    इस संगीतमय प्रस्तुति के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  14. वाह ...बहुत ही सुन्‍दर पोस्‍ट और इस मधुर गीत की प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  15. वाह, इस गीत में तो अद्भुत आकर्षण है- मन, हृदय और आत्मा की गहराइयों को झंकृत कर गया यह।
    बाउल संगीत के हृदयस्पर्शी स्वर और पश्चिमी वाद्य यंत्रों की सुसंगति इसे विशिष्ट बना रही है।
    यह गीत प्रमाणित करता है कि संगीत देश,जाति और भाषा से निर्बंध है।
    इस गीत को सुनने का अवसर प्रदान करने के लिए आपका आभार, प्रवीण जी।

    ReplyDelete
  16. इस मधुर संगीत कों सुनवाने के लिए आपका ह्रदय से आभार।

    ReplyDelete
  17. आज आपका ब्लॉग देखा.मधुर संगीत....अच्छा लगा यहाँ आना.वसन्तोत्सव की बधाईयाँ.

    ReplyDelete
  18. रवीन्द्र संगीत की मधुरता मन मोह लेती है...

    ReplyDelete
  19. कविगुरु रवीन्द्र नाथ टैगोर को शत-शत नमन।
    उनका यह गीत मेरे लिए सूत्र वाक्य है -

    यदि तोर डाक शुने केऊ न आसे
    तबे एकला चलो रे।

    एकला चलो, एकला चलो, एकला चलो रे!
    यदि केऊ कथा ना कोय, ओरे, ओरे, ओ अभागा,
    यदि सबाई थाके मुख फिराय, सबाई करे भय-
    तबे परान खुले
    ओ, तुई मुख फूटे तोर मनेर कथा एकला बोलो रे!

    यदि सबाई फिरे जाय, ओरे, ओरे, ओ अभागा,
    यदि गहन पथे जाबार काले केऊ फिरे न जाय-
    तबे पथेर काँटा
    ओ, तुई रक्तमाला चरन तले एकला दलो रे!

    यदि आलो ना घरे, ओरे, ओरे, ओ अभागा-
    यदि झड़ बादले आधार राते दुयार देय धरे-
    तबे वज्रानले
    आपुन बुकेर पांजर जालियेनिये एकला जलो रे!

    ReplyDelete
  20. सुन्दर....मांझी गीत....

    ReplyDelete
  21. वैसे तो संगीत का यह उत्कृष्ट निरूपण सकल विश्व की धरोहर है पर एक भारतीय का सीना और चौड़ा हो जाता, विशेषकर उस समय जब हमारी शिक्षा पद्धति हमारी सांस्कृतिक और बौद्धिक उपलब्धियों को हीन मानने लगी है।
    bahut achchha laga sir.bengoli aur rabindra nath tagore ki annanth geet hum kabhi nahi bhul sakate.

    ReplyDelete
  22. वाकई बहुत सुमधुर गीत है ..वैसे भी बँगला भाषा की अपनी अलग ही मिठास है.

    ReplyDelete
  23. संगीत का जादू सिर चढ कर ही बोलता है, और सचमुच बोला, भाशा की दीवारों के बावजूद।

    ---------
    समाधि द्वारा सिद्ध ज्ञान।
    प्रकृति की सूक्ष्‍म हलचलों के विशेषज्ञ पशु-पक्षी।

    ReplyDelete
  24. मै अजीत गुप्ता जी की बात से सहमत हूँ बंगला साहित्‍य और संगीत का सानी नहीं। एस डी बर्मन साहब को भी जब सुनते है तो डूब जाते है | आपके इस गीत में भाषा मेरे लिए थोड़ी बाधा जरूर बनी लेकिन गीत में मधुरता है |

    ReplyDelete
  25. किसी और लोक की यात्रा करवाता गीत, बचपन से कालेज तक का समय कोलकाता में बीता है. आपकी पोस्ट पढकर आज फ़िर से वहां पहुंच गया हूं. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  26. बहुत सुंदर गीत ..कवि रविन्द्र नाथ टैगोर का शांति निकेतन और उनकी कवितायेँ ..एक आलौकिक आनंद का एहसास ...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  27. बंगला भाषा में काफी मधुरता है. रविन्द्र संगीत सच एक अमूल्य सांस्कृतिक धरोहर है . संदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  28. वाकई बेहतरीन है। सुनवाने का आभार।

    ReplyDelete
  29. कल है तेदीिवेय्र डे मुबारक हो आपको एक दिन पहले

    _____#####__________####_____
    ____#_____#_#####__#____#____
    ___#__###_##_____##__###_#___
    ___#__##___________#__##_#___
    ___#_____________________#___
    ____#__#___##___##___#_##____
    _____##____##___##____#______
    ______#_______________#______
    ______#______###_____________
    ______#_____#_###_____#______
    ______#______###______#______
    _______#__##_____##__#_______
    _____###____#####____###_____
    ___##___#___________#___##___
    __#______####___####______#__
    _#___________###___________#_
    #__#______________#______#__#
    #___#__###_________###__#___#
    #___###_______________###___#
    _#__#__#_____________#__#__#_
    __##__####____#____##_#__##__
    _____#____#_______#____#_____
    ____#______#_____#______#____
    ____#______#_____#______#____
    ____#______#_____#______#____
    ____##____###___###____#_____
    _____##################____

    Happy Teddy Vear Day

    ReplyDelete
  30. net मुर्दानी हालत में है...इसलिए अभी aapka likha padha bhar है...

    yah tanik swasth हो le तो sunne aati hun...

    ReplyDelete
  31. इस मधुर संगीत कों सुनवाने के लिए आपका ह्रदय से आभार।

    ReplyDelete
  32. संगीतमय प्रस्तुति और जानकारी के लिए आभार !

    ReplyDelete
  33. बंगाल की मिट्टी ने सिखायाहै कि यह एक परम्परा है, एक जीवन शैली!!

    ReplyDelete
  34. बहुत सुंदर संगीत ओर गीत भी,बगंला समझ तो नही आती लेकिन इस गीत का मर्म समझ मे आ गया, धन्यवाद

    ReplyDelete
  35. जाल में कुछ दिक्कत है.. बाद में देख-सुन पाऊंगा.

    ReplyDelete
  36. वास्तव में, गीत में बंगाल के जादू जैसा सम्मोहन है.कुछ चीजे दिमाग से समझने के बजाय दिल से महसूस करने के लिए होती है.यह गीत उन्ही में से एक है.आभार.

    ReplyDelete
  37. रविन्द्र संगीत तो बात ही क्या है ...शान्तिनिकेतन ने एक से एक प्रतिभाशाली कलाकार दिए हैं ..गुरुदेव की छाया तले गुण निखर ही आते हैं ...

    मनोज जी द्वारा प्रेषित गुरुदेव का लिखा गया गीत
    यदि तोर डाक शुने केऊ न आसे
    तबे एकला चलो रे।
    जाने कितनों की प्रेरणा है !

    ReplyDelete
  38. निस्संदेह बेहतरीन विधा है।

    ReplyDelete
  39. sunder geet k liye badhai sweekar karen

    ReplyDelete
  40. सच्‍चे दोस्‍त किस्‍मत वालों को मिलते हैं।

    ---------
    ब्‍लॉगवाणी: एक नई शुरूआत।

    ReplyDelete
  41. आँखें भर गयी प्रवीन जी !! बहुत बहुत धन्यवाद ! ..आभार !

    ReplyDelete
  42. is post par kahne ko kafi kuchh hai aaj mere paas magar waqt nahi ,phir tippani me itna kaha bhi nahi jaa sakta ,aeta aamaar desh ,aami bhalo baasi ,main isi shahar ki hoon bangla bhasha mujhe behad pasand hai hamaare yahan sabhi iska upyog karte hai hamare parivaar me kai log shaanti nikentan me apni siksha ko poori kar chuke hai ,wahan ke paridhan mujhe behad pasand hai aur baangla geet ,cinema bhi .yahan geet sunkar apnepan ka ahsaas jaag utha .bahut bahut achchha .

    ReplyDelete
  43. बहुत आनन्ददायक अनुभव रहा ,इस गीत को सुनना .
    आपका आभार !

    ReplyDelete
  44. तन-मन में सरसराहट और मदहोशी भर देता है यह संगीत,अर्थ भले न समझ आ रहे हों,पर भावों को महसूसा जा सकता है !

    ReplyDelete
  45. अच्छे प्रयास और अच्छे कर्म को आज ऑस्कर की जरूरत नहीं बल्कि उसे हर गांव हर गली मोहल्ले में आप जैसे लोगों के द्वारा इसी तरह सम्मानित और प्रोत्साहित किये जाने की जरूरत है........असल सम्मान और सहायता के अभाव में ही हमारी उत्कृष्ट सांस्कृतिक और बौद्धिक धरोहरों के प्रति लोगों का लगाव कम होता जा रहा है.......बाजारवाद को नैतिकता नहीं बल्कि अनैतिकता का आधार चाहिए जबकि इंसानियत को नैतिक सहारे के बिना जिन्दा रखा ही नहीं जा सकता.......? रेलवे ने समय समय पर भारतीय सामाजिक सरोकार और संस्कृति को जिन्दा करने का सार्थक प्रयास हमेसा किया है और कर रहा है .......जरूरत इस बात की है इस देश में सामाजिक कल्याण मंत्रालय और ग्रामीण विकाश मंत्रालय भी ईमानदारी से इस दिशा में कुछ करे....?

    ReplyDelete
  46. खूब भालो प्रवीण जी...
    तुमी जानी न की अमी ये गीत कितनो भालो लागे छे...
    धोन्यवाद...
    और रोबिन्दो शंगीत... आहा अहह हा...

    ReplyDelete
  47. सुंदर गीत और बहुत रोचक जानकारी से भरी पोस्ट

    ReplyDelete
  48. @ डॉ॰ मोनिका शर्मा
    रेवा पर गीत सुना, लहरों की ताल पर सृजित गीत है, आनन्द आ गया। नदियों पर बनाये गीत जलतरंग की तरह बजते हैं।

    @ सतीश सक्सेना
    संगीत स्वयं में एक भाषा है जो बहुधा बड़ी स्पष्ट होती है।

    @ dhiru singh {धीरू सिंह}
    पूरा का पूरा समाज संस्कृति के पक्षों में पूर्ण रुचि लेता है।

    @ Arvind Mishra
    इस लय में तो बस बह जाने का मन करता है।

    @ Udan Tashtari
    बाहर भी आईये नहीं तो लाभ अधिक हो जायेगा।

    ReplyDelete
  49. @ ajit gupta
    यह सदियों का सतत प्रयास है।

    @ Rahul Singh
    सर चढ़कर बोलता है यह जादू बंगाल में।

    @ SEPO
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Deepak Saini
    बोल तो मुझे भी पूरे समझ में नहीं आये पर संगीत से भाव समझ में आ गये।

    @ पी.सी.गोदियाल "परचेत"
    मैं तो बंगलोर में हूँ, इण्टरनेट से आप कहीं भी पहुँच सकते हैं। विरह गीत है यह, नदी के द्वारा संदेश भेजा जा रहा है इसमें।

    ReplyDelete
  50. @ ललित शर्मा
    यही संगीत प्रेम मधुरतम हो रहा है।

    @ Sonal Rastogi
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ सञ्जय झा
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Dr (Miss) Sharad Singh
    संगीत हृदय को छू जाता है।

    @ सदा
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  51. @ mahendra verma
    बाउल संगीत गाँव गाँव में जाकर ऊँचे स्वर में गाया जाता है, बड़ी लयबद्ध रचना होती है यह। सुनने के साथ संस्कृति का ज्ञान होता
    है।

    @ ZEAL
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Meenu Khare
    आपको भी बसन्तोत्सव की बधाईयाँ।

    @ rashmi ravija
    यह अपने आप में एक अनुभव है।

    @ मनोज कुमार
    रबीन्द्रनाथ टैगोर का एकला चलो न जाने कितने उत्साहों का उद्गम है।

    ReplyDelete
  52. @ Dr. shyam gupta 
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ G.N.SHAW
    बहुत बड़ा योगदान है इस एक महान व्यक्तित्व का, कला, संगीत और साहित्य में।

    @ shikha varshney
    आरोह व अवरोह में बस मन अटक जाता है।

    @ Mukesh Kumar Sinha
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ ज़ाकिर अली ‘रजनीश’
    संगीत की भाषा, भाषा के संगीत से अधिक मधुर होती है।

    ReplyDelete
  53. @ नरेश सिह राठौड़
    एस डी बर्मन साहब के गीतों में बांग्ला संगीत की मिठास व्याप्त है।

    @ ताऊ रामपुरिया 
    कोलकाता की याद ताजा हो गया।

    @ : केवल राम :
    सच में एक आलौकिक आनन्द की अनुभूति है यह।

    @ उपेन्द्र ' उपेन '
    एक अमूल्य सांस्कृतिक धरोहर के नाम, यह शाम।

    @ सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  54. @ रंजना
    सुनियेगा, तभी अनुभूति हो सकेगी।

    @ Patali-The-Village
    मुझे जो सुख मिला, उसे बाटना आवश्यक था।

    @ संजय भास्कर 
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ चला बिहारी ब्लॉगर बनने
    संगीत वहाँ की जीवन शैली में जुड़ा हुआ है।

    @ राज भाटिय़ा
    धुन और लय, इस गीत की पीड़ा व्यक्त कर देती है।

    ReplyDelete
  55. @ भारतीय नागरिक - Indian Citizen 
    पर सुनियेगा अवश्य।

    @ संतोष पाण्डेय
    सच कहा आपने, बंगाल के जादू सा सम्मोहन है।

    @ वाणी गीत
    शान्तिनिकेतन का सांस्कृतिक योगदान अतुलनीय है।

    @ satyendra...
    सुनकर ही पता लगता है कितनी मधुरता है इसमें।

    @ amrendra "amar"
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  56. @ usha rai
    शब्द जब संगीत में ढल जाते हैं, भाव प्रधान हो जाते हैं।

    @ ज्योति सिंह
    आपका अनुभव तो निकट का है, आपसे यह आशा रहेगी कि शान्तिनिकेतन पर कोई पोस्ट लिखें।

    @ प्रतिभा सक्सेना
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ संतोष त्रिवेदी
    संगीत स्वयं में सक्षम है, भाव संप्रेषित करने में।

    @ honesty project democracy
    जनमानस में उस संगीत की गूँज ही उसके लिये ऑस्कर है। भारतीय रेलवे ने उस गूँज का देशव्यापी बना दिया है।

    ReplyDelete
  57. @ POOJA...
    आपको यह संगीत अच्छा लगा तो लेखक के सुर को सुर मिल गये। मुझे यह गीत इतना अधिक लगा कि पोस्ट लिखना ही पड़ी।

    @ सुरेन्द्र सिंह " झंझट "
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ anupama's sukrity !
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  58. bahut khub. mujhe bangla ke shabdo ki bahut adhik samajh nahi ha. par geet to karn priye hai. aabhar.sanskritik exp hamre yaha v aai thi par main dekh nahi paya tha.

    ReplyDelete
  59. slow speed ke kaaran sangeet to nahi sn paaya lekin aalekh me tathya aur abhivyakti bahut ahhi lagi/...........

    ReplyDelete
  60. संगीत नादमय होता है। उसके आनन्द के लिये भाषा ज्ञान आवश्यक नहीं। हार्दिक स्तर पर सम्मिलन भाषा की अपेक्षा नहीं रखता। साधुवाद।


    एक निवेदन-
    मैं वृक्ष हूँ। वही वृक्ष, जो मार्ग की शोभा बढ़ाता है, पथिकों को गर्मी से राहत देता है तथा सभी प्राणियों के लिये प्राणवायु का संचार करता है। वर्तमान में हमारे समक्ष अस्तित्व का संकट उपस्थित है। हमारी अनेक प्रजातियाँ लुप्त हो चुकी हैं तथा अनेक लुप्त होने के कगार पर हैं। दैनंदिन हमारी संख्या घटती जा रही है। हम मानवता के अभिन्न मित्र हैं। मात्र मानव ही नहीं अपितु समस्त पर्यावरण प्रत्यक्षतः अथवा परोक्षतः मुझसे सम्बद्ध है। चूंकि आप मानव हैं, इस धरा पर अवस्थित सबसे बुद्धिमान् प्राणी हैं, अतः आपसे विनम्र निवेदन है कि हमारी रक्षा के लिये, हमारी प्रजातियों के संवर्द्धन, पुष्पन, पल्लवन एवं संरक्षण के लिये एक कदम बढ़ायें। वृक्षारोपण करें। प्रत्येक मांगलिक अवसर यथा जन्मदिन, विवाह, सन्तानप्राप्ति आदि पर एक वृक्ष अवश्य रोपें तथा उसकी देखभाल करें। एक-एक पग से मार्ग बनता है, एक-एक वृक्ष से वन, एक-एक बिन्दु से सागर, अतः आपका एक कदम हमारे संरक्षण के लिये अति महत्त्वपूर्ण है।

    ReplyDelete
  61. @ musaffir
    हमारी सांस्कृतिक धरोहर अति वृहद है, केवल उस पर गर्व होने लगे, आनन्ग गंगा बह जायेगी।

    @ CS Devendra K Sharma "Man without Brain"
    संगीत सुन लेने से यही आनन्द द्विगणित हो जायेगा।

    @ वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर
    सच कहा आपने, संगीत की कोई भाषा नहीं होती। वृक्ष संरक्षण पर सार्थक संदेश।

    ReplyDelete
  62. डूबना तो है, लेकिन अभी नहीं, घर जाने के बाद...ऑफिस में सुन नहीं सकता हूँ न :)

    ReplyDelete
  63. @ abhi
    डूबकर बाहर निकलियेगा तब बताइये कि कैसा लगा?

    ReplyDelete
  64. avashya pravin ji ,prayas karoongi .shukriya aapka dil se .

    ReplyDelete
  65. @ ज्योति सिंह
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  66. @ ज्योति सिंह
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete