15.1.11

टाटों पर पैबन्द लगे हैं

सुख की चाह, राह जीवन की, रुद्ध कंठ है, छंद बँधे हैं।
रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

सुख की राह एक होती तो, वही दिशा हम सबकी होती,
सूत्र एक होता यदि सुख का, मन की माला वही पिरोती,
अति सुख में दुख उपजे नित ही, दुखधारा, मन पाथर सा,
अतिशय दुख, स्तब्ध दिख रहा, असुँअन मोती त्यक्त बहा,
क्या पाये, क्या तज दे जीवन, हर चौखट पर द्वन्द सजे हैं।
रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

हमने सबको दोष दिये हैं, गुण का बोझ उठाये फिरते,
पापों का आनन्द समेटे, आदर्शों के तम में घिरते,
मूर्त सहजता घुट घुट मरती, जीवन के विष-नियम तले,
लांछन अन्यायों का सहता, ईश्वर पा अस्तित्व जले,
पूर्ण विश्व अपनी रचना है, उसने बस प्रारम्भ रचे हैं।
रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

ईश्वर से मानव जीवन पा, हमें लगा सब कुछ ले आये,
मुक्त उड़ानें, अनबँध विचरण, हमने अपने गगन बनाये,
नहीं पता था, दसों दिशायें, अनुशासन के तीर चलेंगे,
प्रत्यक्षों से बिखरे दाने, मर्यादा के जाल बिछेंगे,
चारों ओर दिख रही कारा, हर पग में अनुबन्ध लगे हैं।
रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

नहीं पूर्ण आमन्त्रित करती, संयम की कल्पित परिभाषा,
हितकर्मों में बीच मार्ग ही, जग जाती संचित प्रत्याशा,
नेति नेति कर्मों में रचकर जीवन को खो बैठे हम,
नित, समाजकृत महाभँवर में, टूट गये कितने ही क्रम,
स्वप्न सदा ही अलसाये हैं, नहीं कभी स्वच्छन्द जगे हैं
रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

मध्यमार्ग श्रेयस्कर होता, पर हम भी तो बुद्ध नहीं,
आर पार की कर लेने दो, पर जीना अब रुद्ध नहीं,
इस जीवन को ध्वंस कर रहे, परलोकों की सोच रहे,
आशाओं के पंखों पर कीलें हम लाकर ठोंक रहे,
स्वयं देख दर्पण अब हँस लो, रोम रोम में व्यंग पगे हैं
रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

जीवन-नद, कब से तट बैठे, छूकर जल अनुभव करते,
गहराई की समझ समेटे, अपने से डर कर रहते,
डुबा सके तो, भँवर डुबा ले, पर कूदेंगे जीवन में,
लहरों से विचलित क्यों होना, लाख थपेड़े हों उनमें,
जीवन को जीने का आश्रय, जीवित को रस रंग सजे हैं,
रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

91 comments:

  1. एक सम्पूर्ण कविता। जीवन की समग्र झाँकी। बहुत ही उम्दा। हमें लग रहा है कि आपसे इसे माँग लिया जाए और "बवाल" भाई के साहित्य गान में शामिल कर दिया जावे ताकि यह जन जन के हृदयों तक पहुँच सके। बहुत बहुत आभार इस रचना के लिए।

    ReplyDelete
  2. यथार्थ को चित्रित करती शानदार रचना bhagatpura3

    ReplyDelete
  3. "क्या पाये, क्या तज दे जीवन,
    हर चौखट पर द्वन्द सजे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे,
    टाटों पर पैबन्द लगे हैं। "


    गुड मार्निंग !
    मानवीय गुण दोषों का बेहतरीन विश्लेषण है इस सरल प्रवाह कविता में ! आनंद आ गया प्रवीण भाई ! आपके कवि ह्रदय को प्रणाम !

    ReplyDelete
  4. वाह, लगा कि अंत में कवि का नाम मिलेगा जिसकी यह रचना है.''रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।'' बढि़या टेक.

    ReplyDelete
  5. हमने सबको दोष दिये हैं, गुण का बोझ उठाये फिरते,
    पापों का आनन्द समेटे, आदर्शों के तम में घिरते,//
    प्रवीण भाई .....
    इतनी सुंदर रचना हाल के दिनों में नहीं पढ़ी गई न लिखी गई

    ReplyDelete
  6. एक समग्र सम्पूरण कविता -एक एक शब्द पुनः पुनरपि पढ़ डाला ....अनबंध विचरण को अनबंध संचरण करके पढने पर ज्यादा सहजता लगी ...
    टाट पर रेशम का पैबंद हो तो वह भी कितना सुन्दर लगता है -सियनि सुहावन टाट पटोरे ....

    ReplyDelete
  7. जीवन के यथार्थ का जीवंत चित्रण करती सशक्त कविता .......

    ReplyDelete
  8. "टाटों पर पैबन्द लगे हैं"
    सूक्ष्म पर बेहद प्रभावशाली कविता...सुंदर अभिव्यक्ति.....प्रस्तुति के लिए आभार जी

    ReplyDelete
  9. डुबा सके तो, भँवर डुबा ले, पर कूदेंगे जीवन में,
    लहरों से विचलित क्यों होना, लाख थपेड़े हों उनमें,

    दिनकर की याद दिला दी आपकी लेखनी के जादू ने। • इस ऊबड़-खाबड़ गद्य कविता समय में आपने अपनी भाषा का माधुर्य और गीतात्मकता को बचाए रखा है। • आपकी आवाज़ संघर्ष की जमीन से फूटती आवाज़ है। सपनों को देखने वाली आंखों की चमक और तपिश भी बनी हुई है। क्रूर और आततायी समय में आपके सच्चे मन की आवाज़ है यह कविता। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    फ़ुरसत में … आचार्य जानकीवल्लभ शास्त्री जी के साथ (दूसरा भाग)

    ReplyDelete
  10. इस जीवन को ध्वंस कर रहे, परलोकों की सोच रहे,
    आशाओं के पंखों पर कीलें हम लाकर ठोंक रहे,
    स्वयं देख दर्पण अब हँस लो, रोम रोम में व्यंग पगे हैं
    रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

    बहुत खूब, यही तो है आज की सच्चाई !

    ReplyDelete
  11. बहुत ही गहरे भाव हैं रचना में .... आभार

    ReplyDelete
  12. बहुत ही भावपूर्ण कविता......बिल्कुल सच्चाई बयां करती हुई.

    ReplyDelete
  13. जीवन के यथार्थ का जीवंत चित्रण करती सशक्त कविता| हार्दिक शुभकामनाएं|

    ReplyDelete
  14. बहुत ही गहन भाव लिये हुये सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  15. जीवन के सच का उद्घाटन और 'न पलायनम्' का संदेश कविता की जान है !

    ReplyDelete
  16. जिजीविषा ,संकल्प और उहापोहो से प्रेरित श्रेष्ठ रचना , उत्कृष्ट शब्द संयोजन और भाव मन को छू गए .

    ReplyDelete
  17. बहुत श्रेष्‍ठ गीत बन पड़ा है। बधाई।

    ReplyDelete
  18. यथार्थ का चित्रण करती एक खूबसूरत रचना।

    ReplyDelete
  19. प्रवीण भाई आपके ब्लॉग का नाम बहुत ही प्रभावित करता है - "न दैन्यं न पलायनम" न किसी को कुछ देना बाकी है, न किसी से डर के भागने की ज़रूरत है| बहुत ही अच्छा शीर्षक चुना है आपने अपने ब्लॉग के लिए|

    टाटों के पैबन्द............ वाकई अत्यधिक प्रभावशाली प्रस्तुति है बन्धुवर| बधाई स्वीकार करें|

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर , सादगी से भरपूर , एक अत्यंत उम्दा रचना! शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  21. जब मैं नव ग्रन्थ विलोक्ता हूँ , लगता मित्र पुराना ! यही महसूस होता रहा इस कविता में.

    ReplyDelete
  22. सुख की चाह, राह जीवन की, रुद्ध कंठ है, छंद बँधे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

    sach kaha Satish sir ne!! manivya gun-avguno pe kitni pyari rachna hai ye....sach me achchha laga, aapko follow kar ke..:)

    ReplyDelete
  23. सुख की चाह, राह जीवन की, रुद्ध कंठ है, छंद बँधे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

    बहुत भाव पूर्ण सटीक प्रस्तुति..जीवन के यथार्थ को बड़ी गहराई से चित्रित किया है..

    ReplyDelete
  24. सुख की चाह, राह जीवन की, रुद्ध कंठ है, छंद बँधे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।
    waah , kya baat hai !

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर रचना जी, धन्यवाद

    ReplyDelete
  26. सुंदर विचार श्रंखला को इस तरह पद्यबद्ध करना आसान नहीं। बधाई!

    ReplyDelete
  27. ह्म्म्म्म्म....आपकी बारी है अब ....रिकार्ड किजिये इसे...

    ReplyDelete
  28. बहुत आनन्द आया पढ़कर.

    ReplyDelete
  29. बहुत ही सशक्त रचना लिखी है आपने!

    ReplyDelete
  30. आदरणीय प्रवीण पाण्डेय जी
    सादर प्रणाम
    जीवन सन्दर्भों को उद्घाटित करती हुई .....एक उत्तम रचना ...शुक्रिया आपका

    ReplyDelete
  31. वाकई आपने इस कवि‍ता को काफी समय दि‍या है।

    ReplyDelete
  32. टाटों पर पैबंद लगे हैं, एकदम जबरदस्त।

    ReplyDelete
  33. टाटों पर पैबन्द लगे हैं

    अरे पाण्डेय जी, यही तो माडर्न ड्रेस है :)

    ReplyDelete
  34. टाट और पैबंद से झाँकता जीवन का फलसफा!!

    ReplyDelete
  35. मध्यमार्ग श्रेयस्कर होता, पर हम भी तो बुद्ध नहीं,
    आर पार की कर लेने दो, पर जीना अब रुद्ध नहीं,

    वाह, प्रवीण जी, अति उत्तम।
    पंक्ति-पंक्ति में जीवन दर्शन साकार हो रहा है।
    आपकी काव्य प्रतिभा को नमन।

    ReplyDelete
  36. क्या बात है क्या बात है क्या बात है ...भाव ,शब्द ,प्रवाह...सबकुछ बहुत सुन्दर. है ..सम्पूर्ण कविता ..कई बार पढ़ा.

    ReplyDelete
  37. पंक्ति-पंक्ति में जीवन दर्शन
    अक्षर-अक्षर जीवन दर्शन
    अति सुख में भी जीवन दर्शन
    अतिशय दुख में जीवन दर्शन
    लहरों से विचलित क्यों होना
    लाख थपेड़े हों जीवन मे
    पूर्ण विश्व अपनी रचना है
    क्या पाये, क्या तज दे जीवन

    ReplyDelete
  38. .
    .
    .
    सुन्दर, अतिसुन्दर...
    डूब कर बार बार पढ़ने योग्य...


    आभार!



    ...

    ReplyDelete
  39. kavita men bhi yah praveenta aakhir kahan se paye bhai.bhavo ka madhury sath me chintan ki gahrai.

    ReplyDelete
  40. रेशम की तुम बात कर रहे , तटों पर पैबंद लगे हैं ...
    बहुत सुन्दर शब्दों का प्रयोग व्यंग्य ,तंज़ को भी मधुर बना रहा है !

    ReplyDelete
  41. बेहतरीन एवं प्रशंसनीय प्रस्तुति ।
    हिन्दी को ऐसे ही सृजन की उम्मीद ।
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  42. ... umdaa ... laajawaab !!

    ReplyDelete
  43. सुन्दर सार्थक रचना
    आभार।

    ReplyDelete
  44. कहावतें यूँ ही नहीं बनतीं। 'छन्‍द' शिकार हो रहा था - अनदेखी का, उपेक्षा का। 'बारह बरस में तो घूरे के भी दिन फिरते हैं' वाली कहावत याद हो आई यह कविता पढकर। लग रहा है - छन्‍द की वापसी हो रही है। यह कविता उसी की आहट है।

    'यह मेरी लिखी कविता है' यह बताने के लिए अपना नाम लिखना जरूरी नहीं होता - यह भी नमूना पेश कर रही है यह कविता।

    ReplyDelete
  45. "पूर्ण विश्व अपनी रचना है,उसने तो प्रारंभ रचे हैं'....पंक्तियाँ संपूर्ण रचना का सार कह देती हैं !
    अद्भुत शब्द-संयोजन......अवाक हूँ !

    ReplyDelete
  46. सुख की चाह, राह जीवन की, रुद्ध कंठ है, छंद बँधे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।
    जीवन के यथार्थ को सुन्दर शब्दों मे उतारा है। बहुत भावमय और सुन्दर रचना है। बधाई।

    ReplyDelete
  47. प्रवीण जी
    मुग्ध हूँ आपकी इस सुन्दर रचना पर |मानव मन की सारी परतो को बेहद खूबसूरती के साथ एक ही माला में पिरोया है और यह रंग बिरंगी माला बहुत ही ह्रदय के पास महसूस हुई |
    दो बार पढने के बाद भी मन अभी भरा नहीं है शायद और कोई मोती मिल जाय?

    ReplyDelete
  48. praveen ji
    bahut kushalta ke saath aapne manav-man ke jivan ki sampurn jivan ka vishleshhan kar diya hai .bahut bahut badhi
    ek bahutbdhiya aur sateek post ke liye.
    dhanyvaad
    poonam

    ReplyDelete
  49. क्या कहूं प्रवीन जी ... आज तो आपकी रचना ने निशब्द कर दिया ....केवल एक शब्द ... लाजवाब !!

    ReplyDelete
  50. क्या बात है!!!!!! आज तो माहौल बदल गया है अच्छा लगा ये बदलाव. बहुत जबरदस्त विश्लेषण किया है.मज़ा आ गया.....

    ReplyDelete
  51. jamane ko kuredati kavita.very good sir .आप-बीती-०५ .रमता योगी-बहता पानी

    ReplyDelete
  52. सुख की चाह, राह जीवन की, रुद्ध कंठ है, छंद बँधे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

    सुख की राह एक होती तो, वही दिशा हम सबकी होती,
    सूत्र एक होता यदि सुख का, मन की माला वही पिरोती,
    अति सुख में दुख उपजे नित ही, दुखधारा, मन पाथर सा,
    अतिशय दुख, स्तब्ध दिख रहा, असुँअन मोती त्यक्त बहा,
    क्या पाये, क्या तज दे जीवन, हर चौखट पर द्वन्द सजे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।



    बेहतरीन रचना है...

    ReplyDelete
  53. सुंदर प्रस्तुती.अच्छा लगा पढना.

    ReplyDelete
  54. जीवन के द्वंदों सजीव चित्रण बहुत ही आकर्षक तरीके से किया है .बहुत ही सुंदर रचना है.आप कविता के ओस्कर के हक़दार हैं .शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  55. आज जिन परिस्थितियों में इंसान है उस पर सम्पूर्ण दृष्टि डाली है ..बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  56. इसका ऑडियो भी होता तो...

    ReplyDelete
  57. आज तो कवितामयी व्यंग, मजा आ गया आप के व्यक्तित्व का ये पहलू देख कर्।
    आभार

    ReplyDelete
  58. विचारों के धाराप्रवाह के साथ चलती मंचीय रचना. अच्छी टेक. बधाई.

    ReplyDelete
  59. सत्य को जानना, कौतुहल रखना और उपाय करना..जिजीविषा है.
    ठीक ही नाम है आपके ब्लॉग का, यह धारणा और बलवती हुई.
    एक जबरदस्त रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  60. यथार्थ को चित्रित करती शानदार रचना के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  61. @ लाल और बवाल (जुगलबन्दी)
    आपके साहित्यिक गान के लिये सहर्ष ही प्रस्तुत है यह कविता। टाटों के पैबन्द किससे छिपाना, जीवन का यथार्थ ही यही हो गया है।

    @ Ratan Singh Shekhawat
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ सतीश सक्सेना
    जब दृष्टि में जीवन के यह रूप दिखायी पड़ते हैं और वह भी पूर्ण नग्नता लिये, कविता सहज ही बह जाती है। आप जैसे कवि हृदय को अच्छी लगी, उससे सन्तोष और पुष्ट हो गया।

    @ Rahul Singh
    जब अपना नाम छापने का आत्मविश्वास आ जायेगा तब टाटों में पैबन्द न लगे हों संभवतः।

    @ babanpandey
    हमें वही अच्छा लगता है जिसमें पाप छिपे होते हैं, आदर्शों की राह तो बहुत कठिन है। अपने दुख के सामने सदा ही किसी दूसरे का चेहरा सामने आ जाता है, संभवतः यही वास्तविक जीवन हो गया है हम सबका।

    ReplyDelete
  62. @ Arvind Mishra
    आपकी सलाह सर माथे, पर वहाँ पर भी विचारों का अनबँध विचरण हो गया। अब तो पैबन्द ही लगाने में समय जा रहा है, जहाँ कहीं भी जीवन उधड़ने लगता है।

    @ डॉ॰ मोनिका शर्मा
    बहुत धन्यवाद आपका, पर बहुधा यथार्थ यही हो जाता है, आस रेशम की होती है, पर पैबन्द छिपाना कठिन हो जाता है।।

    @ संजय भास्कर
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ मनोज कुमार
    एक स्वीकरोक्ति है जीवन को सरलता से जी लेने की। आपको उसमें दिनकर की चरण रज दिख जाये तो मेरी दिशा ठीक है और भाग्य अभिभूत। बिना गेयता के भावों को गद्यगीत रहने दिया जाये, कविता न माना जाये। हृदयोद्गारित आभार।

    @ पी.सी.गोदियाल "परचेत"
    औरों पर तो नित ही हँसते हैं, कभी कभी दर्पण देखकर स्वयं पर हँसने का मन करता है। अपनी आशायें औरों पर थोप कर आलस्य के गर्त में समाते जा रहे हमारे व्यक्तित्व, स्वयं पर हँसने के लिये न उकसायें तो क्या करें?

    ReplyDelete
  63. @ महेन्द्र मिश्र
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ उपेन्द्र ' उपेन '
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Patali-The-Village
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ sada
    बहुत धन्यवाद आपका, जीवन को सरलता से व्यक्त करने का प्रयास भर है।

    @ प्रतिभा सक्सेना
    ग़म से अब घबराना कैसा, ग़म सौ बार मिला।

    ReplyDelete
  64. @ ashish
    उहापोहों से विचार, विचार से निर्णयों की श्रंखला, संकल्प से एक राह, यही जीवन का सार है।

    @ ajit gupta
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ वन्दना
    यथार्थ को स्वीकार कर लेती हुयी रचना कहें।

    @ Navin C. Chaturvedi
    ब्लॉग का शीर्षक अर्जुन की गर्जना थी। क्यों पलायन करें? टाटों में पैबन्द स्वीकार कर लेने से उन्हें छिपाने में ऊर्जा व्यय नहीं करनी पड़ती है।

    @ MANOJ KUMAR
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  65. @ गिरधारी खंकरियाल
    मन में वही भाव बार बार घूमते रहते हैं, हर बार नये शब्द मिल जाते हैं।

    @ Mukesh Kumar Sinha
    मन का यथार्थ रखना कुछ तो मानवीय हो ही जायेगा। जीवन का सत्य न चाह कर भी बह जाता ही है।

    @ Kailash C Sharma
    जीवन का स्वप्न रेशम से प्रारम्भ होता है, पैबन्दों पर समाप्त होता है। आशाओं का अम्बार फिर भी है।

    @ ज़ाकिर अली ‘रजनीश’
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ रश्मि प्रभा...
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  66. @ राज भाटिय़ा
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi
    मन की व्यग्रता प्रवाह स्वतः बना देती है।

    @ Archana
    सुर आपको भेजने हैं, गाने का प्रयास कर लूँगा।

    @ भारतीय नागरिक - Indian Citizen
    अहोभाग्य हमारे।

    @ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
    आपकी काव्य प्रतिभा से कुछ सीखने का प्रयास ही कर सकते हैं।

    ReplyDelete
  67. @ : केवल राम :
    जीवन के संदर्भ तो कुछ और ही नियत थे, यथार्थ यह हैं।

    @ Rajey Sha
    अनुभवजन्य किसी भी रचना में समय देना स्वाभाविक ही है।

    @ मो सम कौन ?
    सच है, बड़ी मज़बूती से लगे हैं, पैबंद।

    @ cmpershad
    और हम सब पहने भी हैं।

    @ सम्वेदना के स्वर
    रेशम के ख्वाब और पैबन्दी टाट, इन दोनों के बीच झूलता जीवन।

    ReplyDelete
  68. @ mahendra verma
    अतियों से बचने का हठ भी अति बन गया है अब, इसे भी मध्यमार्ग में लेकर आना है।

    @ shikha varshney
    वास्तविकता को शब्द रूप देकर सजा देने से कितने ही बोझे कम हो जाते हैं, हृदय में।

    @ विनोद शुक्ल-अनामिका प्रकाशन
    न उसे तज पाये, न उसे पूरा पा पाये, लटके रहे त्रिशंकु समान।

    @ प्रवीण शाह
    बहुत धन्यवाद, हम अभी डूबकर बाहर आये हैं, आप मत डूबिये।

    @ santoshpandey
    मन की उत्कट अभिलाषायें, संदोहित विचार श्रंखलायें, धारा बन बस यूँ ही बह निकलती हैं।

    ReplyDelete
  69. @ वाणी गीत
    बहुत धन्यवाद आपका, इस उत्साहवर्धन के लिये।

    @ RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA
    बहुत धन्यवाद आपके उत्साहवर्धन का।

    @ 'उदय'
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ ZEAL
    जीवन की सार्थकता पर भी।

    @ विष्णु बैरागी
    जो सुनने और पढ़ने में अच्छा लगे, उसकी वापसी होगी। गेयता और मधुरता से भी जीवन के चोटिल यथार्थ का वर्णन किया जा सकता है।

    ReplyDelete
  70. @ बैसवारी
    जीवन में अन्य पर और ईश्वर पर दोषारोपण करने से परे अपना भी उत्तरदायित्व समझें, हम अपने जीवन में। जो हम हैं, अपने ही कारण हैं।

    @ निर्मला कपिला
    पैबन्दी यथार्थ भी व्यक्त कर देना श्रेयस्कर है, उसकी पीड़ा उठा कर फिरते रहने से।

    @ शोभना चौरे
    यह भाव सबके मन में मौलिकता से रहते हैं और प्रथम आहट में उभरकर सामने आ जाते हैं, जाने पहचाने भी लगते हैं तब।

    @ JHAROKHA
    बहुत धन्यवाद आपका, कविता में सारे पहलुओं का संयोजन नहीं कर पाया हूँ, चाहकर भी, कई पक्ष छूट गये हैं।

    @ क्षितिजा ....
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  71. @ रचना दीक्षित
    कविता बह जाती है, ठोस गद्य कब तक चलेगा बिना तरलता के।

    @ G.N.SHAW
    बहुत धन्यवाद, यही भाव मौलिक व गूढ़ हैं, हम सबमें।

    @ फ़िरदौस ख़ान
    बहुत धन्यवाद इस संवेदन का।

    @ Meenu Khare
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ sagebob
    द्वन्दों से परे जीवन का सत्य है संभवतः, अतः द्वन्द तो समझने ही होंगे।

    ReplyDelete
  72. @ संगीता स्वरुप ( गीत )
    अपने अन्दर झाँक लेने से सबके बारे में ही कुछ न कुछ दिख जाता है। मानव हैं हम सब, समान मनोभाव भी हैं।

    @ Abhishek Ojha
    अभी यात्रा में हूँ, ऑडियो का प्रयास तो करूँगा ही।

    @ anitakumar
    हम सबका व्यक्तित्व कुछ रंगमयी है, कुछ व्यंगमयी। आत्ममुग्धता के परे बहुत कुछ दिखने भी लगता है।

    @ Bhushan
    बहुत धन्यवाद, विचार यदि भरमाने लगें तो उन्हें सम्हालना कठिन हो जाता है।

    @ Avinash Chandra
    जीवन में घुसकर कुछ समझने और बाटने का प्रयास भर है यह।

    ReplyDelete
  73. @ Mithilesh dubey
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  74. ईश्वर से मानव जीवन पा, हमें लगा सब कुछ ले आये,
    मुक्त उड़ानें, अनबँध विचरण, हमने अपने गगन बनाये,
    नहीं पता था, दसों दिशायें, अनुशासन के तीर चलेंगे,
    प्रत्यक्षों से बिखरे दाने, मर्यादा के जाल बिछेंगे,
    चारों ओर दिख रही कारा, हर पग में अनुबन्ध लगे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं..

    पता नही क्यों पर ये पंक्तियाँ याद आ गयीं .... तुम तो हो इस पार सखी ... उस पर न जाने क्या होगा ....
    बहुत ही मधुर .. लय ... छन्द बध लाजवाब रचना ...

    ReplyDelete
  75. हमने सबको दोष दिये हैं, गुण का बोझ उठाये फिरते,पापों का आनन्द समेटे, आदर्शों के तम में घिरते,मूर्त सहजता घुट घुट मरती, जीवन के विष-नियम तले,लांछन अन्यायों का सहता, ईश्वर पा अस्तित्व जले,पूर्ण विश्व अपनी रचना है, उसने बस प्रारम्भ रचे हैं।रेशम की तुम बात कर रहे, टाटों पर पैबन्द लगे हैं।

    बहुत सहजता से बहुत गहरी बातें लिखीं हैं.
    बहुत बार पढ़ी -
    बहुत अच्छी लगी-
    शुभकामनायें -

    ReplyDelete
  76. टाटों के ही ठाठ होते हैं।

    ReplyDelete
  77. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना आज मंगलवार 18 -01 -2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/2011/01/402.html

    ReplyDelete
  78. आद.प्रवीण जी,
    पहली बार आपकी कविता पढ़ने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है!
    शब्द,शैली और भाव का समन्वय अभूतपूर्व है !
    हर पंक्ति में विचारों की एक आँधी समाहित है !
    साभार,
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  79. @ दिगम्बर नासवा
    बहुत धन्यवाद, जब उड़ानों को हताश करती हो समाज संरचना तब यही स्वर निकलते हैं।

    @ Ankur jain
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ anupama's sukrity !
    हम सबको दोष देते रहते हैं जीवन पर्यन्त पर जो कुछ भी वर्तमान है, वह है हमारे भूतकाल के कारण।

    @ राजेश उत्‍साही
    उसी ठाठ से तो जी रहे हैं।

    @ संगीता स्वरुप ( गीत )
    बहुत धन्यवाद इस शम्मान के लिये।

    ReplyDelete
  80. @ ज्ञानचंद मर्मज्ञ
    बहुत धन्यवाद इस उत्साहवर्धन का। स्वर जैसे भी हैं, जीवन के हैं।

    ReplyDelete
  81. yatharthparak......

    pranam.

    ReplyDelete
  82. बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  83. रचना के अद्वितीय प्रवाहमयता, शब्द शौष्ठव और चिंतन ने ऐसे मन हर लिया है कि उदगार व्यक्त करने में यह अभी सर्वथा अक्षम है...

    क्या कहूँ, शब्द कहाँ से लाऊं प्रशंसा को ????

    ईश्वर आपकी लेखनी को ऐसे ही समृद्धि दें ,प्रखरता दें ..

    रस आह्लाद से भर गया मन ......

    शुभाशीष !!!!

    ऐसे ही लिखते रहें...

    ReplyDelete
  84. 'रेशम की तुम बात कर रहे टाटों के पैबंद लगे हैं '
    बहुत ही प्रभावपूर्ण प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  85. वाह... प्रवीण जी इस रचना को जीवन कहूँ या उसका विश्लेषण... बहुत खूब...

    ReplyDelete
  86. "क्या पाये, क्या तज दे जीवन,
    हर चौखट पर द्वन्द सजे हैं।
    रेशम की तुम बात कर रहे,
    टाटों पर पैबन्द लगे हैं।


    वाह! वाह! वाह!
    इससे अधिक शब्द नहीं हैं मेरे पास!

    ReplyDelete
  87. @ sanjay jha
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ nilesh mathur
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ रंजना
    औरों का जीवन समझ पाना और उस पर लिखना कठिन है। स्वयं का अनुभव यदि समानता लाता है औरों से तो वह अपना सा प्रतीत होता है।
    यथार्थ बताने में हिचक अवश्य होती है किन्तु बताने के बाद मन हल्का भी हो जाता है।

    @ सुरेन्द्र सिंह " झंझट "
    रेशम में टाटों के पैबन्द तो सुने थे पर जब टाटों में ही पैबन्द लगें हों तो क्या कहियेगा?

    ReplyDelete
  88. @ POOJA...
    न यह पूर्ण जीवन है और न विश्लेषण, बस जीवन की अनुभव कथा है।

    @ 'साहिल'
    बहुत बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  89. bahut hi umda rachna hai sir ... kaafi baar padh chuki hoon aur har baar utkrishtataa ka anumaan sahaj hee badh jata hai... badhaai.

    ReplyDelete