25.9.10

जाति क्या है?

बड़ा सरल प्रश्न है। इस पर जब इतना कहा जा चुका है, इस पर जब इतना सहा जा चुका है, तब पूछने का औचित्य? राजनीति में जाना है या समाज को बाटने की एक नयी विधि का श्रेय लेना है? नहीं, तब क्या बौद्धिकता में खुजली हो रही है जो इतना विवादास्पद विषय उठा रहे होयह एक ऐसा शब्द है, जिसे सुन बहुतों की भृकुटियाँ तन जाती हैं पर मेरा वचन है, कुछ भी ऐसा न लिखने का, जिससे किसी को ठेस पहुँचे।

मेरे परम मित्र हैं, श्री लक्ष्मण सिंह। उनके पिताजी न्यायिक सेवा में ऊँचे पदस्थ रहे, घर में सुसंस्कृत संस्कार। सेवा की अनिवार्यताओं के कारण आम समाज से थोड़ा अलग रहा उनका प्रारम्भिक जीवन। युवक होने तक जाति जैसे किसी शब्द के सम्पर्क में नहीं आयी उनकी विचारधारा। उन्हें अटपटा लगना तब प्रारम्भ हुआ, जब जाति जैसी उपाधि के नाम पर समाज की ऊर्जा को कई दिशाओं में भटकते देखा। मेरा अनुभव भले ही कमलपत्रवत न रहा हो पर मुझे भी सदैव ही जाति के प्रसंग पर चुप रहना श्रेयस्कर लगा है। पता नहीं आज क्यों लिखने की ऊर्जा जुटा पा रहा हूँ?
  
कोई भी ऐसी विचारधारा जिसमें बाटने के बीज छिपे हों, लक्ष्मण सिंह जैसे व्यक्तियों को दुख देगी।

तब क्या विविधतायें न हों जगत में?

विविधतायें हों, उनकी नग्नता न हो। विविधतायें भी शालीन स्वरूप धरे रह सकती हैं।

समृद्धि के समय विविधतायें बाग में खिले हुये पुष्पों की भाँति होती हैं, सबका अपना महत्व, सबकी अपनी प्रसन्नता। जब संसाधन कम पड़ते हैं और विपत्ति आती है, तब यही अन्तर शूल की भाँति हृदय में चुभने लगता है। किसी की उपलब्धि को उसको दी हुयी उपाधि से जोड़कर देखा जाने लगता है, उसी उपाधि को अपने कष्ट का कारण बनाकर विचार प्रक्रिया में रोपित कर दिया जाता है। अपने दुख का कारण अपने भीतर न ढूढ़कर दूसरे की उपाधियों में ढूढ़ने का प्रयत्न होने लगता है। समूह बनने लगते हैं, उनकी स्तुतियाँ होने लगती हैं, अपना तुच्छ भी उनके श्रेष्ठ से श्रेष्ठतर लगता है।

जो भी पौराणिक कारण हो पर हर समूह की अपनी स्वस्थ परम्परायें होती हैं और अपने हिस्से की दुर्बलतायें। विकासशील समूह अपनी दुर्बलताओं की निर्मम बलि देकर आगे बढ़ते जाते हैं और मानसिक, बौद्धिक व आर्थिक रूप से सुदृढ़ होते जाते हैं। जो उन्मत्त रहते हैं अपने इतिहास के महानाद से, उन्हे भविष्य की पदचाप नहीं सुनाई पड़ती है और समय के चक्र में उनके क्षरित शब्द ही गूँजते रहते हैं।

हमें यदि आपस में लड़ने का बहाना चाहिये तो दसियों कारण उपस्थित हैं। भाई भाई पर घात लगाये बैठे हैं। लड़ाके शेर मेमनों को किसी न किसी विधि से लील ही जायेंगे। हमें यदि अपनी विविधता संरक्षित रखनी है तो आपत्ति काल में उसे सुरक्षित रख, कौरव व पाण्डव न बन, 105 बन खड़े हों। होना यह चाहिये कि विपत्ति के समय हमें अपनी समानतायें उभारनी चाहिये, विपत्ति से जूझने के लिये। जब देश डूबा हो, समाज रुग्ण हो, तब भी हमें यदि अपने समूह का गुणगान करने का समय मिल जाये तो आश्चर्य होना चाहिये। जीत के बाद जब विजयोत्सव मनेगा, तब अपनी परम्पराओं के अनुसार आनन्द मनायेंगे हम सब, अपने अपने इष्ट पूजेंगे हम सब।

उद्गार एक कविता के माध्यम से बहा है,

नर-नारी की मान-प्रतिष्ठा, पाने नित अधिकार लड़ रही,
भाषा लड़ती, वर्ण लड़ रहे, बुद्धि विषमता ओर बढ़ रही ।
देश, प्रदेश, विशेष लड़ रहे, भौहें सकल प्रकार चढ़ रहीं,
नयी, पुरातन पीढ़ी, पृथक विचार, घरों के द्वार लड़ रही ।

धर्म लड़े, बन हठी खड़े हैं, उस पर भी अब जाति लड़ी है,
देखो तो किस तरह मनुज की, लोलुपता हर भाँति लड़ी है ।।

91 comments:

  1. बहुत सटीक बात की है पाण्डेय साहब।
    वयं पंचाधिकमशतकम, आज के समय में बैस्ट अवेलेबल ओप्शन है।

    ReplyDelete
  2. धर्म लड़े, बन हठी खड़े हैं, उस पर भी अब जाति लड़ी है,
    देखो तो किस तरह मनुज की, लोलुपता हर भाँति लड़ी है ।।
    सही कहा । यह समय कठिन है जब देश की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है । शत्रू ताक में है कि कब वार करे । और तो और प्रकृति भी क्रुध्द है । आइये इन सबका मुकाबला एक जुट हो कर करें ।

    ReplyDelete
  3. बहुत ताज़ा विचार और शैली.

    ReplyDelete
  4. हम संग हैं तो बाग बाग है,
    तब यह बन क्यों जले आग है

    -विचारणीय बात तो है मगर ...

    ReplyDelete
  5. जाति जैसी उपाधि के नाम पर समाज की ऊर्जा को कई दिशाओं में भटकते देखा।
    विविधता जब विवशता बन जाये तो विविधिता के औचित्य पर सवाल उठने शुरू हो ही जाते हैं.
    आपकी शैली अलग सी है और ..

    ReplyDelete
  6. हम तो गांव में इसी जातिय विविधता से सजी बगिया में पैदा हुए थे जहाँ सभी जातियों के लोग आपस में ऐसे ही घुलमिलकर रहते थे जैसे बगिया में विविध फूल , जिनके बीच में न कोई कडवाहट ,न कोई स्पर्धा पर धीरे धीरे हाय रे वोट की राजनीती ,जिसने सभी जातियों को यह अहसास करा दिया कि दूसरी जाति तुम्हारी विरोधी है | और लोगों ने बिना ये सोचे कि वो दूसरी जाति उसकी विरोधी कैसे बन गई ,राजनेताओं की बात मान ली |

    ReplyDelete
  7. आना भी नहीं चाहिए जाति जैसे अटपटे शब्द के संपर्क में किसी को ....

    ReplyDelete
  8. .... बेहतरीन अभिव्यक्ति !!!

    ReplyDelete
  9. विचारणीय पोस्ट, उत्तम छंदबद्ध हृदयोद्गार के साथ. हांलांकि आप बहुत खुलकर फिर भी कुछ न कह सके.

    ReplyDelete
  10. बहुत आवश्यक, सामयिक और विचारणीय लेख , कविता बहुत अछि लगी ! शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  11. इसका शीर्षक होना था लड़ाकू मानव :)

    ReplyDelete
  12. जातियां तो समाज में हमेशा बनती ही रहती हैं जैसे अब एक नयी जाति बन गयी है ब्‍लागर, पत्रकार, साहि‍त्‍कार, नेता आदि। आपने इस बार बात को गोल-गोल घुमा दिया है।

    ReplyDelete
  13. जाति आज के समाज में आसानी से नहीं जाती है... हमारे ऑफिस में एक बार किसी के काम को तकनीकी कारन से मना कर देने पर उस आदमी का आरोप हमरे ऊपर यही था कि अमुक जाति का होने के कारन यह काम मना कर दिया गया है. वो तो अच्छा था कि उसी की जाति के लोगों ने उसको फटकार दिया कि उनके (हमरे) बारे में ई बात बर्दास नहीं किया जाएगा, नहींत बबाल हो जाता.
    संदेस स्पस्ट है और कविता उत्कृस्ट!!

    ReplyDelete
  14. आज का ज्वलंत मुद्दा.. बहुत अच्छा लिखा है प्रवीणजी. आप ही की तरह मुझे भी जाति पर चुप रहना ठेक लगता है.

    कविता अच्छी है.

    ReplyDelete
  15. सही बात यही है कि यदि हमें लड़ना ही है तो सैकड़ों बहाने हैं , जाति भी उनमे से एक है ..
    लेख सुन्दर
    कविता अतिसुन्दर ...
    और फूलों की बगिया , फूलों के शहर से महा सुन्दर ...!

    ReplyDelete
  16. जाति का क्या कहिये, निदा फाजली साहब ने तो सब आदमी को एक ही जात पे ला दिया :
    हर तरफ हर जगह, बेशुमार आदमी,
    फिर भी तन्हाइयों का शिकार आदमी !
    लिखते रहिये ..

    ReplyDelete
  17. जातिगत विद्वेष समाज का कुष्ठ.
    स्फुलिंग, इस विद्रूप जड़ता का , कही और प्रखर ना हो जाये

    ReplyDelete
  18. बहुत बढिया विचार
    कौरव-पाण्डव की बजाय 105 बनकर खडे हों।
    बेहतरीन लगी यह पोस्ट
    अपने बारे में इतना ही कह सकता हूँ कि शायद ही किसी से उसका पूरा नाम जानने की कोशिश की होगी।
    कई बार ट्रेन में (पहले स्कूल में भी) एक दूसरे का टिफिन खाते हैं। हमारे ग्रुप में से हमें किसी का पूरा नाम नहीं मालूम है।

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  19. "हर समूह की अपनी स्वस्थ परम्परायें होती हैं और अपने हिस्से की दुर्बलतायें।"

    यह बात बहुत अच्छी लगी जी

    प्रणाम

    ReplyDelete
  20. जाति के बहाने मानवीय भावों की सुंदर मींमासा की है आपने। बधाई।
    --------
    प्यार का तावीज..
    सर्प दंश से कैसे बचा जा सकता है?

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  23. सही में समय आ गया है कि हम हममे अपनी समानताएं पहचाने.

    ReplyDelete
  24. यह प्रश्न तो हर बुद्धिजीवी को एक बार परेशान जरूर करता है...
    सुन्दर शब्दों में व्यक्त ह्रदय के उदगार...अच्छी कविता
    .

    ReplyDelete
  25. सचमुच आप सौम्यता निभाने में सफल रहे...

    मेरा मन इस विषय पर इतना उग्र हो जाता है कि शब्दों पर नियंत्रण नहीं रह पाता...इसलिए कहने से बचती हूँ...

    समाज में जो जाति की बात करे उसे भी झकझोर कर पूछने को जी करता है कि जाति विशेष का कौन सा धर्म/नियत कर्म निभा रहे हैं आप....
    और आरक्षनासुर को तो सीधे सीधे माँ दुर्गा के त्रिशूल से बेध देने को जी छटपटा उठता है...
    दोनों ही स्थिति समाज के अधोपतन का कारण है...

    सुन्दर भाषा में कल्याणकारी सन्देश दिया है आपने...

    यूँ वर्तमान का सच तो यही है कि रोटी की जद्दोजहद में फंसी आम जनता इससे किनारा किये जा रही है...लेकिन यह जितना ही इस मुद्दे को भूलना चाहती है, विभिन्न उपायों से राजनेता उनके दिमाग में यह ठूंसने को तत्पर रहते हैं...

    ReplyDelete
  26. सटीक विश्लेषण...एक समसामयिक विषय को भी आवाज़ दी..साधुवाद.

    ReplyDelete
  27. आपने बहुत सौम्यता से इस विषय को उठाया है ...
    कितने लोंग हैं जो जाति से ऊपर उठ पाए हैं ..बस अनेकता में एकता लाने का प्रयास करना चाहिए ...बाग तभी सुन्दर लगता है जहाँ अनेक तरह के फूल अपनी अपनी सुगंध फैला रहे हों ...कविता कि पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगीं

    ReplyDelete
  28. आप बहुत सौम्य हैं. एकदम सच्चा, हीरे सा दिल है आपका. इसलिए आपने जाति को भी समाज की विविधताओं में से एक माना है. एक हद तक ये बात सही भी है. भारत में जितनी जातियाँ हैं, उन सबकी अपनी संस्कृति है. बहुत सी बातें हैं, जो उन्हें अन्य जातियों से अलग करती हैं. पर जाति, विविधता नहीं है क्योंकि उसमें उच्चावच है. एक पदसोपानीय व्यवस्था के तहत एक जाति को पायदान पर सबसे ऊपर और एक को सबसे नीचे "अछूत" बना दिया गया. समाज पर उसका असर इतना गहरा हुआ कि अब जबकि काफी कुछ बदल चुका है, उसका प्रभाव नहीं जा रहा है. हमारे पूर्वजों ने जो व्यवस्था बनायी उसका परिणाम आज की पीढ़ी आरक्षण के नाम पर झेल रही है. "विपरीत भेदभाव" के सिद्धांत के तहत ये जाने कब तक झेलना पड़ेगा. राजनीति ने इस मुद्दे को इतना उलझा दिया है कि इसका सुलझना लगभग असंभव दिख रहा है.
    आपके मित्र की ही तरह और भी बहुत लोग हैं जिन्हें इस मुद्दे से ठेस पहुँचती है, पर क्या किया जाए ? ये समाज का सच है. अच्छा है कि इसका सामना किया जाए.

    ReplyDelete
  29. मेरे दोस्तों में ये मुझे पता भी नहीं की कौन किस जाति का है..और नाही मैंने जानना चाह....
    एक बार एक दो बड़े लोग ही ऐसा सवाल पूछ चुके हैं की "फलाना कौन से जाति से है" तो मुझे गुस्सा आ जाता है...

    कविता बेहतरीन है.. और पोस्ट भी वैसी ही सुन्दर...

    ReplyDelete
  30. सुन्दर लेख , विविधता में एकता को दर्शाता बाग़ ! तुम्ही तुम हो तो क्या तुम हो......!

    ReplyDelete
  31. क्या प्रवीण जी इत्ता सीरीयस होकर लिखेंगे तो फ़िर कैसे चलेगा , हमसे पूछते तो हम कहते ,

    जाति ..वो टायटल है जिसपर संभावना व्यक्त की जा सकती है कि ..प्रकाश झा ..जल्दी ही राजनीति पार्ट टू का अनाउंसमेंट कर सकते हैं ...और पार्ट थ्री में ..आरक्षण ..।

    खैर मजाक से इतर सच कहूं तो मुझे लगता है कि अब समय आ गया है , जब इंसान के पहचान सिर्फ़ उसका नाम और काम हो , और कुछ नहीं ..कोई सरनेम परनेम नहीं । मगर यहां तो सरकार खुद ही आवेदन पत्र पर लिखवाती है ...धर्म , जाति ...हो सकता है आगे जाकर ये भी पूछा जाए ..बजरंग बली , राम चंद्र जी , शंकर भगवान , या साईं बाबा ....टिक करिए

    ReplyDelete
  32. जाति क्या है? कभी किसी ने इन गोरो से पुछा है जिन के पिछे सभी दुम हिलाते है,हम तब तक पिछडे ही रहेगे जब तक हम जात पात, ओर धर्म के चक्कर मै आपस मे लडते रहेगे, जिस का जेसा काम है, जितनी उस की शिक्षा है उसी हिसाब से उस की जात है कोई बडा नही कोई छॊटा नही, सब अपना अपना कमा कर खाते है, छॊटी जात का वो है जो दुसरो का हक मार कर खाता है, दुसरो का हक छीनता है, आओ सब मिल कर एक जात बने, ओर देश को आगे ले जाये.
    आप का लेख बहुत अच्छा लगा, काश हम सब ऎसा ही सोचे

    ReplyDelete
  33. Pandey ji hum ,
    bahut accha hai,
    hum to jati ko is tarah sai mante hai jaisa A ke bad B aur b kai bad C aur c kai bad D
    Ab agar A B C D aapas main kehe ki A ko pahele kiyu bulate hai--A hamse uper kiyu hai
    bas Yahi Samaj ki samajh hai---
    baki duniya gol hai

    ReplyDelete
  34. जाति का नाश नहीं हो सकता...

    ReplyDelete
  35. जाती बनाम राजनीति |

    ReplyDelete
  36. After seeing the title, I started reading your post with great trepidation!
    I was relieved after reading it.
    आपका पोस्ट बहुत ही Politically Correct था!

    मेरा अनुभव है कि यह मामला बहुत ही संवेदनशील है और इसपर बेहिचक लिखने से हाहाकार मच सकता है। एक गर्मी से भरी विवाद के लिए यदि कोई तैयार हो तो इस पर नि:संकोच होकर लिखें अन्यथा इस विषय से दूर रहने में ही समझदारी है।

    poorviyaa जी की बात पढ़कर हम आगे सोचने लगे।
    A, B, C, D की बात आगे लेकर चलते हैं।
    1, 2, 3, 4 का क्या?
    क्या 1, 2 se "ऊपर" है? क्या 4, 3 से "नीचे" है?
    क्या "UP", "DOWN" से, और "‘North" "South" से, और "Right", "Left" से श्रेष्ठ है?
    क्या "White" "Black" से और "Big" "Small" से, "Tall" "Short" से अच्छा है?
    ऐसे और भी सवाल पूछ सकते हैं जिसका कोई संतोषजनक जवाब कोई नहीं दे सकता।

    मेरे लिए जाति की कोई importance नहीं है।
    मेरे सबसे अच्छे मित्र सभी जाती के हैं और मैंने उनसे कभी जात जानना नहीं चाही और कभी किसी से पूछा भी नहीं। पर कभी कभी अपने surname से , या अपने रहने, जीने, और बोलने का ढंग से जाति का पता चल जाता है। अब अगली जनगणना में जात पूछी जाएगी। इससे मुझे दु:ख होता है। हम तो इस आशा में रहते थे कि हमारी पीढी में न सही पर भविष्य में कभी जाति पूरी तरह मिट जाएगी। वैसे भी सभी जाति के लोग, हर तरह का काम कर रहे हैं और जात तो अब irrelevant हो गया है। पर लगता है कि मेरा यह सपना पूरा नहीं होगा। कोई बात नहीं। किसी के लिए यह identity का सवाल है जिसे वे खोना नहीं चाहते। तो रहने दीजिए जात को। पर कम से कम यह उँच - नीच की भावना तो मिटे।

    जाते जाते हम एक बात कह देते हैं। यदि आप सोचते हैं कि आप जाति से ऊपर उठ गए हैं तो इसे आजमाने के लिए बस एक ही इम्तेहान है। क्या आप अपनी बेटी की शादी किसी अन्य जाती के लडके से होने देंगे? (बशर्ते और सभी बातें favourable हो). कुछ लोग तो जाति को genes का भंडार मानते हैं और अंतरजातीय विवाह को genes का प्रसूषण मानते हैं। यह mindset क्या कभी बदल सकता है?

    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  37. प्रवीण जी आपके ब्लाग लेखन की शॆली बेहतरीन हॆ..मॆ जितने भी ब्लागो का भ्रमण करता हू उन सबसे अलग आपकी शॆली हॆ..इसके लिये तहे दिल से मॆ आपको धन्यवाद..
    जाति के बारे मे मॆ सिर्फ इतना कहू जाति समाज को जोडता नही बल्कि तोडता हॆ...जाति प्रथा हमारी सामाजिक एकत के लिये कलंक हॆ..जो बदकिस्मती से 30 साल बाद जाति जनगणना के रूप मे फिर से मूर्त रूप लेने जा रहा हॆ...

    ReplyDelete
  38. जिस दिन इंसान जातिगत भेद से ऊपर उठ जायेगा उसी दिन से समाज नये युग की ओर एक कदम बढा देगा।

    ReplyDelete
  39. @ ajit gupta जी ब्‍लागर, पत्रकार, साहि‍त्‍कार, नेता ये सब वर्ग हॆ ना कि जाति...माडर्न भाषा मे कहे तो वर्ग मे इनकमिग ऒर आऊट्गोईग दोनो सुविधा हॆ पर जाति मे केवल इनकमिग हॆ...
    वर्ग मे आज आप ब्लागर हॆ तो क्या हुआ कल आप अपनी इच्छा से दूसरा वर्ग ज्वाइन कर सकती हॆ पर जाति ? आप गुप्ता हॆ क्या आप कोई दूसरी जाति बन सकती हॆ? जाति आप पर थोपी जाति हॆ...जबकि वर्ग आप खुद चुनते हॆ..

    ReplyDelete
  40. जाति न पूछो साधू की.... पर जब साधू ही नहीं तो जाति तो पूछनी ही पडेगी :)

    ReplyDelete
  41. .

    आदरणीय प्रवीण जी,

    शीर्षक देखकर उत्सुकता तो जगी लेकिन पोस्ट समाप्त होने तक आशानुरूप लेख का रुख बदल चुका था।

    जैसा की विश्वनाथ जी ने कहा - " लेख पोलिटिकली करेक्ट है "

    कोई भय का विषय ही नहीं है। पाठक को वही परोसा गया जो वो पढना और सुनना चाहता है।

    " It's better to be safe than sorry "

    आपको आखिर हिम्मत क्यूँ जुटानी पड़ी ? वो कोन से भय थे जो आपके मन-मस्तिष्क को मथ रहे थे , और इतनी हिम्मत के बाद भी , बाहर भी नहीं आये ?

    वैसे प्रवीण जी , आपकी लेखनी इतनी सधी हुई है की , आसानी से कुछ विवादास्पद नहीं लिखा सकेगी आपसे।

    हमारे अन्दर की हिम्मत दिल खोल कर तब बाहर आती है जब हम दो-चार कमज़ोर पाठकों के चले जाने का भय अपने मन से निकाल कर फ़ेंक देते हैं।

    The post would have been hit, had it been written with utmost honesty.

    Regards,

    .

    ReplyDelete
  42. बहुत ही शालीन तरीके से मुद्दे को उठाया है आपने ...अलग अलग रंग के फूलों से ही बगीचा अच्छा लगता है बस उलझकर मुसें नहीं .
    कविता बहुत बहुत अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  43. आपने तो बहुत अच्छी बात लिखी ...


    _________________________
    'पाखी की दुनिया' में- डाटर्स- डे पर इक ड्राइंग !

    ReplyDelete
  44. पुनश्च आपका सुंदर लेख पढ़ कर खुशी हुई. सार्वजनिक रूप से भारत मे अब जाति के ऊपर अब शायद ही चर्चा होती है. यह है भी और हम इसे छुपाना भी चाहते हैं. धर्म के मामले मे भी ऐसी ही बात है. दूसरों को बात बुरी लग सकती है इस लिए हम इसपर चर्चा करने से बचते हैं. कुछ हद तक सेक्स की तरह की हालत है. यह सर्वत्र है भी और इस पर चर्चा करना वर्जित भी. अगर कोई बोले तो बात सनसनीखेज़ हो जाती है- कान खड़े करने वाली.
    यह बंधन टूटे ही तो अच्छा है, मगर तोड़ने की हिम्मत खुद मे नही लगती.

    ReplyDelete
  45. आखिर आप को इस सफाई को क्यों बयां करना पड़ रहा है की जाती जाती का भेद जैसी कोई समस्या है ही नहीं.
    कितनी चतुराई से लेख में आपको यह नकारने के लिए उठानी पड़ी की जाती-भेद से यह देश कराह रहा है को बयां न करना पड़े और सारा दोष उनका है जो उस कराह को चिन्हित करना चाहते है.
    एक घटना याद आ रही है द्वापर में 'सुदामा' नाम के एक के एक गरीब ब्राह्मण बहुत कष्ट झेल रहे तो उनकी पत्नी ने उन्हें याद दिलाया था की आप बताते थे की आप के बालसखा विद्यार्थी काल में कृष्ण नामक कोई राजा के पुत्र थे , सो एक बार आप उनको मिल के आइये न ..............
    देखि सुदामा की दीन दशा
    करुना करिके करुना निधि रोये,
    पानी परात..........
    पता है आपको यही 'सुदामा पांडे'
    कभी पांडे इनके बंशज नहीं बनते.
    पर
    कृष्ण के बन्शजों को क्या क्या नहीं किस किस किनारे से कौन कौन सुना रहे है?
    उनसे पूछिए "जाति क्या है?"

    और उनसे भी जो बिना ज्ञान पाए अंगूठा दे दे रहे है. और आज भी .

    ReplyDelete
  46. हम संग हैं तो बाग बाग है,
    तब यह बन क्यों जले आग है
    ------------------------------
    बस यही नहीं समझ रहे हैं हम......

    ReplyDelete
  47. देखो तो किस तरह मनुज की, लोलुपता हर भाँति लड़ी है ।।
    waah... sateek ,sargarbhit!
    regards,

    ReplyDelete
  48. @ Anjana (Gudia)
    बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  49. @ मो सम कौन ?
    किसी भी व्यक्ति को देख यदि यह लगे कि हम उससे कितना समान हैं तो सम्बन्ध स्थापित हो जाता है। जिस स्तर पर हैं, उससे एक ही स्तर ऊपर सोचे तो दुनिया की आधी समस्यायें हल हो जायेंगी।
    सबसे पहले वयं पंचाधिकमशतकम के आधार पर सबसे बड़ी समस्यायें हल करें। सम्पूर्ण विश्व खडा हो उनके लिये। एक बार कन्धे से कन्धा मिला जूझ लेंगे तो छोटे छोटे अन्तर दिखायी ही नहीं पड़ेंगे। यदि देखना हो तो सेना में देख लें।
    जिनको अन्तरविरोधों की रोटियाँ सेकनी हैं, वे तो आग लगायेंगे ही और बुझने भी नहीं देंगे। निर्भर हम पर करेगा कि किस के लिये जलें।

    ReplyDelete
  50. @ Mrs. Asha Joglekar
    धार्मिक दंगे इस देश को अंग्रेजों की देन हैं। एक भेंट बटे रहने के लिये शाश्वत ताकि कॉमनवेल्थ बचा रहे। 1857 में पूरे समाज को साथ में खड़ा देखने का डर अंग्रेज सहन न कर सके। हमारी दुर्बलतायें हमारी थी पर उस पर राजनीति क्यों?
    हर वो अन्तर ढूढ़े गये जिन पर बाटा जा सके हम सबको। बहुत सफल भी हुये वे।
    आज उन्ही अंग्रेजों की मानसिक सन्तानें कई और विधियाँ ढूढ़ ढूढ़ कर ला रहीं हैं समाज को जलाने की।

    कुछ तो करो जिससे सुकूँ मिले सबको,
    तुम्हारे दोनों हाथों में मशाल क्यों है?

    ReplyDelete
  51. @ Bhushan
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Udan Tashtari
    ...मगर भरे हैं इस झील में, मछलियाँ कब तक खैर मनायेंगी।

    @ M VERMA
    आपसे सहमत हूँ, विविधता जब विवशता बनने लगती है तो अस्तित्वों के युद्ध उसी पर लड़े जाने लगते हैं।

    @ Ratan Singh Shekhawat
    पता नहीं कितना हित किया है और कितना अहित, इन राज नेताओं ने। न लोग समझना चाहते हैं न राज नेता उन्हें समझने देना चाहते हैं। वादे मिले हैं सबको कुछ तत्व नहीं मिला किसी को भी, कोई अपवाद नहीं। अधिकतम लाभ परिवारजनों को ही मिला है।

    @ Archana
    व्यक्तिगत जीवन में निषेध है, सामाजिक जीवन में अग्राह्य।

    ReplyDelete
  52. @ 'उदय'
    बहुत धन्यवाद

    @ निशांत मिश्र - Nishant Mishra
    सच कह रहे हैं आप, कई स्थानों पर दृष्टिगत विद्रूपता पर आवेश रोक कर ही लिखा। इस विषय पर तो लोग सदा ही बुखारवत गरम बने रहते हैं, बस उन्हें बताने की देर रहती है।

    @ सतीश सक्सेना
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ Arvind Mishra
    जिसके मन में लड़ लेने के बीज छिपे हों वह विविधता में कोई न कोई विषय पल्लवित कर लेते हैं। शीर्षक सच में लड़ाकू मानव होना चाहिये था।

    @ ajit gupta
    बात अब भी विविधता की है और उस विविधता को बचाये रखने की है, बिना उसको द्वेष का विषय बनाये।

    ReplyDelete
  53. @ चला बिहारी ब्लॉगर बनने
    यही विष अब हर जगह घुस रहा है। कष्ट होता है जब सरल सी लगने वाली चीजों को जाति का रूप दे दिया जाता है।

    @ Manoj K
    धर्म के बाद अब जाति को इतना रक्तमय बना दिया है कि कोई भी शान्तिप्रिय मनुष्य इससे दूर रहना चाहेगा।

    @ वाणी गीत
    क्योंकि जाति हर एक से जुड़ी है अतः अपनों और परायों के पाले बनाने में कठिनाई नहीं होती है।

    @ Majaal
    तनहाई तो आपके अन्दर की विविधता को भी दो फाड़ कर डालती है।

    @ ashish
    डर इसी बात का है और इसके नग्न ताण्डव की पीड़ा ही समाज को इससे विमुख भी करेगी।

    ReplyDelete
  54. @ अन्तर सोहिल
    जहाँ पर बातचीत के अन्य विषय रहते हैं, जाति कभी सामने नहीं आती है। जहाँ पर आगामी बातचीत इस आधार पर की जाये कि सामने वाले की जाति क्या है, तो उस बातचीत का मसौदा क्या होगा, आप अन्दाज़ लगा सकते हैं।
    कितना धैर्य बरतना पड़ता है इन कृत्रिमताओं पर और कितना असामाजिक हो जाता है हमारा व्यवहार।
    बचपन में स्कूल में जाते थे, छुट्टी के बाद बतियाते हुये किसी दोस्त के यहाँ निकल जाते, खा पीकर और खेल कर आते थे। कभी न मन में यह विचार आया कि हम दोस्त जातीय आधार पर बटे हैं। न हमारे माता पिता ने मना किया और दोस्त के घर भी मातृवत स्नेह। वह सम्बन्ध अभी भी हैं।
    वर्तमान में पर इतनी उन्मुक्तता दिखायी ही नहीं देती है, वातावरण विषाक्त हो गया है, हर ओर संशयात्मक दृष्टि दिखती है। आत्मीयता का मानक जाति हो गयी है, दुर्भाग्य ही तो है यह।

    ReplyDelete
  55. @ ज़ाकिर अली ‘रजनीश’
    सच कह रहे हैं, फूट के बीज तो मानवीय दुर्बलता है। जाति तो एक बहाना मात्र है।

    @ हास्यफुहार
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ P.N. Subramanian
    गर्त में ले जाने के बहुत कारक हैं पर आगे बढ़ने के लिये समानतायें ढूढ़नी पड़ेंगी।

    @ rashmi ravija
    और जब बुद्धिजीवी ही जातीय आधार ढूढ़ने लगें अपनी बौद्धिकता को परोसने के लिये.....

    ReplyDelete
  56. @ रंजना
    आपने उस मौलिक प्रश्न को उठा दिया है जिससे जाति के वाहक नेतागण सदा ही बचने का प्रयास करते हैं।
    जाति या कोई विविधता अपने आप में बुरी नहीं हो सकती है। लोगों को अखरने तब लगता है जब उस आधार पर लोग अपनी श्रेष्ठता थोपने में लग जाते हैं।
    श्रेष्ठता पर थोपी नहीं जा सकती है, श्रेष्ठता तो स्वतः आदर उत्पन्न करती है, अपने प्रति। किसी विद्वान को देख मन शान्त और नम हो जाता है, उसी के व्यक्तित्व की तरह। किसी वीर के साथ खड़े हो शरीर में एक तरंग दौड़ जाती है उत्साह की। ऐसे नेता हुये हैं इतिहास में जिनकी एक पुकार पर लोगों ने सर्वस्व न्यौछावर कर दिया है। उनकी श्रेष्ठता आदर स्वतः उत्पन्न करती है।
    कोई भी कार्य श्रेष्ठ व निम्न नहीं, सबका अपना अलग स्थान है समाज में। घास दूसरी ओर अच्छी लगती है। सबको अन्य कार्य करने में मन लगता है।
    अतः यदि बात हो, गुणों की हो और इस बात से मैं पूर्णतया सहमत हूँ।

    ReplyDelete
  57. @ Akanksha~आकांक्षा
    आपका बहुत धन्यवाद।

    @ संगीता स्वरुप ( गीत )
    विविधता का आनन्द शान्ति और समृद्धि में ही है। अतः उसके लिये समृद्धि आवश्यक है तभी यह आग स्वतः बुझ पायेगी। पर जाति विकास में बाधक न बने, उसके लिये प्रयत्न अभी से करना पड़ेगा।

    @ mukti
    जिसके हाथ में सत्ता रहती है, सिद्धान्त उसके अनुसार ही बनते हैं। अंग्रेजों ने White man's burden के नाम पर देशों की दुर्दशा की है। हिटलर ने आर्यवाद के नाम पर। आजकल के इतिहासकार एक नया सिद्धान्त चला रहे हैं, उन तथ्यों पर जिनको बहुत लोग संदिग्धता से देखते हैं। यदि न्याय उनके कृत्यों पर हो जो यहाँ है ही नहीं और उस आधार पर दण्ड किसी और को दिया जाये तो समाज में दरार आना एक नियत निष्कर्ष है।

    @ abhi
    जातिगत उत्कण्ठाओं के टाल जाना ही उसका सही उत्तर है।

    @ पी.सी.गोदियाल
    आनन्द बाग का ही है।

    ReplyDelete
  58. @ अजय कुमार झा
    सही कह रहे हैं। प्रकाश झा तीनों फिल्में जरूर बनायेंगे और पूज्य आधारित जनगणना भी होगी।

    @ राज भाटिय़ा
    सच कह रहे हैं, सपाट समाज है इनका, हमारे जैसा उबड़ खाबड़ नहीं बना रखा है।

    @ Poorviya
    ऊपर बने रहने का क्रम सदा ही रहेगा। पर बिना किसी एक के वर्णमाला अधूरी अवश्य हो जायेगी।

    @ भारतीय नागरिक - Indian Citizen
    तब इसके द्वारा अपना नाश क्यों करें।

    @ नरेश सिह राठौड़
    सच में चारों ओर राजनीति ही छायी है।

    ReplyDelete
  59. @ G Vishwanath
    आपका कमेंट विचारणीय हैं। दो दोष हैं, उत्पत्ति और उपाय।
    श्रेष्ठता रोपित करने के प्रयास ने यह असमानता उत्पन्न की और उस असमानता को अंग्रेजों द्वारा और आधुनिक राजनीति द्वारा पर्याप्त हवा दी गयी। आग भड़क उठी।
    लोग जाति को सारी समस्याओं की जड़ मानने लगे, कई लोग अपना क्षेत्र छोड़ पलायन कर गये और बहुत लोग अपने नामों से जाति छिपाने का प्रयास करने लगे।
    कई लोग कहने लगे कि हम जाति नहीं मानते हैं तो अन्य लोगों ने कहा कि तब क्या आप रोटी और बेटी का सम्बन्ध कर सकते हैं?
    भृकुटियाँ सदा ही इसी प्रश्न पर चढ़ती हैं।
    समाज का क्या उत्तर होना चाहिये।
    प्रारम्भ रोटी के सम्बन्ध से करें और यदि आपके बच्चे अन्तर्जातीय प्रेम विवाह करना चाहें तो उन्हे रोके नहीं। दोनों बातें कड़वी हैं पर यही धीरे धीरे इस कड़ुवाहट को घोल सकेगी। हम चाहें न चाहें समाज इस ओर बढ़ रहा है। आने वाली पीढ़ी अब उन अन्तरों को अधिक हवा नहीं देने वाली जिन पर बाटने की राजनीति की गयी है।

    ReplyDelete
  60. @ Ashish (Ashu)
    समस्या यही है कि राजनेता भी इसका मोह नहीं छोड़ पा रहे हैं। वे इस बात की पुष्टि कर लेना चाहते हैं कि उनका कितना वोट बैंक है?

    @ cmpershad
    सच है ऐसा साधु तो कोई नहीं है।

    @ ZEAL
    जातिजनित दुर्भाव उभारना उद्देश्य नहीं था, उस बुखार में तो लोग सदा ही पड़े रहते हैं, बस याद दिलाने की देर रहती है।
    उद्देश्य एक राह खोजनी थी।
    कटु और स्पष्ट लिख सकता हूँ, समय आने पर लिखूँगा अवश्य, कमज़ोर पाठक जाने का भय नहीं है।

    @ shikha varshney
    जब फूलों को ज्ञात होता है कि बाग के लिये पानी और खाद सीमित है तो यही फूल अपने अपने अस्तित्व के युद्ध लड़ने लगते हैं।

    @ Akshita (Pakhi)
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  61. @ rakesh ravi
    कर्म ने सारे बन्धन तोड़ दिये हैं, धीरे धीरे जन्म से भी लोग इस विविधता की विवशता को भुला देंगे।

    @ Aavaj
    प्रश्न विचारणीय हैं पर उत्तर आग न लगा जायें।

    @ डॉ. मोनिका शर्मा
    बाग का महत्व तब समझ में आयेगा जब यह बर्बाद हो जायेगा।

    @ अनुपमा पाठक
    मनुष्य का लालच अभी और अन्तर खोजेगा, लड़ने के लिये।

    ReplyDelete
  62. बेमेल और विशिष्‍ट बना रहने की चाह रखने वाला सबको अपने रंग में क्‍यों रंग लेना चाहता है. पोस्‍ट के साथ चित्र उसे अधिक सार्थक बना रहा है.

    ReplyDelete
  63. जाति बुरी नहीं जातिगत भेदभाव और जातियों में परस्पर मनमुटाव गलत है | जातियों ही की तरह आज भी समाज में भी सत्ता , शक्ति और धन के आधार पर अलग अलग प्रकार के समूह बन गए हैं |

    ReplyDelete
  64. "मुझे भी सदैव ही जाति के प्रसंग पर चुप रहना श्रेयस्कर लगा है। पता नहीं आज क्यों लिखने की ऊर्जा जुटा पा रहा हूँ?"

    इस प्रश्न का उत्तर नहीं मिला.
    यह लेख अपने 'logical conclusion' पर नहीं पहुंचा लगता है :)

    ReplyDelete
  65. बहुत अच्छा लेख...
    में सारे देश की बात नहीं करती...सिर्फ ब्लॉग वाले ही जाती - पाती छोड़ दे...तो वो भी बहुत होगा...लेकिन एक बार आप हिंदू - मुस्लिम विरोधी बातें लिख कर देखो...सब खड़े हो जायेंगे...

    काश कहीं से तो शुरुआत हो.

    सुंदर कविता. और कुछ पंक्तियाँ भी बहुत पसंद आई.

    आभार.

    ReplyDelete
  66. आदरणीय प्रवीण जी,
    बहुत बढिया विचार
    .........बेहतरीन लगी यह पोस्ट
    प्रणाम स्वीकार करें
    ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  67. @ Rahul Singh
    अपने जीवन की विविधता में यदि हम जीवन की ऊर्जा बाटने लगे तो जीवन ढह जायेगा। वही समाज के साथ हो रहा है।

    @ hem pandey
    आपसे शत प्रतिशत सहमत। विषयगत समूह बनते बिगड़ते रहते हैं।

    @ Saurabh
    जिस विषय पर लोग भावनात्मक हो जाते हैं और Logic को दर किनार कर देते हैं, उसके निष्कर्षों को तार्किक बनाने को प्रयास नहीं कर पाया। विविधता की विवशता व्यक्त कर पाया मात्र।

    @ अनामिका की सदायें ......
    लोग तो सदा ही इन विषयों को ले आवेश में रहते हैं, पूर्वाग्रहों से ग्रसित। निवारण कैसे होगा, समझ नहीं आता कभी कभी।

    @ संजय भास्कर
    बहुत धन्यवाद

    @ सत्यप्रकाश पाण्डेय
    बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  68. जाति है,तो राजनीति है, राजनीति है तो नेताजी हैं...जय हो आज़ाद भारत की ....

    ReplyDelete
  69. "जिस विषय पर लोग भावनात्मक हो जाते हैं और Logic को दर किनार कर देते हैं, उसके निष्कर्षों को तार्किक बनाने को प्रयास नहीं कर पाया"

    आपसे सहमत हूँ.मगर मैं कुछ और आगे की उम्मीद कर रहा था. किसी हल या उपाय की. खैर... :)

    ReplyDelete
  70. कल मेरे बॉस बता रहे थे कि उन्हें पूरे बचपन में पता ही नहीं था कि रेस क्या होता है वो हर तरह के बच्चों के साथ खेलते हुए बड़े हुए. उन्हें पहली बार इस बात का एहसास हुआ जब वो हार्वर्ड गए ! बड़ी विचित्र सी बात लगती है पर वैसे ही जाति का मामला भी हम जितना सोचते हैं आसान नहीं.

    ReplyDelete
  71. जाति के आनुंवशिक विश्लेषण, सामाजि, धार्मिक, भौगोलिक, राजनैतिक इन सब्विषयों पर बन्धु कई खण्डों वाली पुस्तक की आवाश्यकता है आप ने तो एक ही पोस्ट में समेट कर रख दिया ..खैर..

    ReplyDelete
  72. जब तक स्वाभाविक प्रकारों का वर्गीकरण हो 'जातियों'का महत्व है जब निहित स्वार्थ के लिए होने लगे तो यह व्यर्थ का आरोपण और दूषण बन जाता है.
    प्रवीण जी ,यह चेतना जगाने के लिए ,धन्यवाद आपको .पर इसका प्रभाव जहाँ पड़ना चाहिये वहाँ पड़े तब न !

    ReplyDelete
  73. सामयिक लिखा है ..... आज के सन्दर्भ में विचारणीय पोस्ट है .... बहुत कुछ है जिन पर सहमत और असहमत हुवा जा सकता है ... ये सच है की जाती के अलावा भी बहुत कुछ है समाज में ...... और लड़ने की लिए ..... वो तो कोई भी बहाना ढूँढा जा सकता है ...

    ReplyDelete
  74. भारत में अब जाती राजनीती की फ़सल बन गयी है,नेता ज़रूर इसे काटेंगे !

    ReplyDelete
  75. बहुत ताज़ा विचार और शैली.

    ReplyDelete
  76. धर्म लड़े, बन हठी खड़े हैं, उस पर भी अब जाति लड़ी है,
    देखो तो किस तरह मनुज की, लोलुपता हर भाँति लड़ी है ।।

    बहुत सटीक ....!!

    ReplyDelete
  77. मैं तो जाती -धर्म-रीज्नलिज्म..... इन सबसे ऊपर हो चूका हूँ.... मुझे लगता है कि मैं औल्माईटी गौड... बन गया हूँ...

    ReplyDelete
  78. नर-नारी की मान-प्रतिष्ठा, पाने नित अधिकार लड़ रही,
    भाषा लड़ती, वर्ण लड़ रहे, बुद्धि विषमता ओर बढ़ रही ।
    देश, प्रदेश, विशेष लड़ रहे, भौहें सकल प्रकार चढ़ रहीं,
    नयी, पुरातन पीढ़ी, पृथक विचार, घरों के द्वार लड़ रही
    dono hi rachnaye ati uttam hai .jati-vishya hai hi aesa jahan vivad syam tyar ho jaate hai .

    ReplyDelete
  79. Praveenjee

    Saaf Suthara Blog aapkee
    seedhee sachchee batein

    detee hain utsaah naya
    aapkee tippaniyon kee saugatein

    dhanywaad aur shubhkaamnayen

    Ashok Vyas

    ReplyDelete
  80. @ संतोष त्रिवेदी ♣ SANTOSH TRIVEDI
    मेरे देश के नायक देश जोड़ने की बजाय तोड़ रहे हैं और दुर्भाग्य यह है कि उसे राजनीति कहा जाता है।

    @ Saurabh
    उपाय मात्र एक ही है कि जाति को झगड़े की विषयवस्तु न बनाया जाये और इस पर राजनीति न की जाये।

    @ अभिषेक ओझा
    हममें से कईयों को जब पहली बार जाति का नग्न स्वरूप दिखा होगा, पीड़ा अवश्य हुयी होगी। मेरा बचपन विविधता में बीता, कभी किसी ने न रोका न टोका।

    @ दुधवा लाइव
    इस विषय पर पुस्तक पढ़ने का धैर्य व सामर्थ्य सबके बस की बात नहीं है। सब इस विषय में अपने आप को महान ज्ञानी व न बदले जा सकने वाली मानसिकता का समझते हैं। समय आने पर पुस्तकीय प्रहार किया जायेगा।

    @ प्रतिभा सक्सेना
    जब नेताओं को समाज बाटने में मलाई मिल रही हो तो ज्ञान भरी बातें मानसिकता के बाहर पड़े पड़े दम तोड़ देती हैं। इन नेताओं पर प्रभाव तब पड़ेगा जब जनता इसका छिछलापन समझ जायेगी।

    ReplyDelete
  81. @ दिगम्बर नासवा
    तोड़ने का कार्य आसान है, जोड़ने का कठिन। जाति एक सामयिक विषय है जिस पर तोड़ने की राजनीति की जा रही है। यह कह दिया जाये कि जब तक कोई पार्टी 75 प्रतिशत का समर्थन नहीं लायेगी, शासन करने योग्य नहीं समझी जायेगी तो जोड़ने की प्रक्रिया भी प्रारम्भ हो जायेगी।

    @ संतोष त्रिवेदी ♣ SANTOSH TRIVEDI
    तभी तक काटेंगे जब तक हम इस फसल को अपनी भावना के जल से सिंचित करते रहेंगे। निर्मम होकर इन नेताओं को बाहर की दिशा दिखानी होगी।

    @ arun c roy
    बहुत धन्यवाद आपका।

    @ हरकीरत ' हीर
    हमारे अन्दर का लड़ाका भविष्य में और रूप धर कर प्रस्फुटित होगा।

    @ महफूज़ अली
    आप जैसी समझ वाले हर शहर को एक मिल जाये, देश का नक्शा बदल जायेगा।

    ReplyDelete
  82. @ ज्योति सिंह
    विवादीय मानसिकता जब जाति का भी अधिग्रहण कर ले तो वही विविधता विवशता लगने लगती है।

    @ Ashok Vyas
    धन्यवाद का शब्द कहीं कम पड़ जाये न,
    हृदयजनित आधार उसे दे, प्रेषित करता।

    ReplyDelete
  83. कहीं जाति तो कहीं रंग - भेदभाव हर समय हर जगह कुछ न कुछ रहता ही है - कुछ नहीँ तो अमीर गरीब का भेदभाव रहेगा !

    ReplyDelete
  84. itne najuk vishy ko aise sadhanaa..............
    prabhavit kar gayaa.............

    ReplyDelete
  85. @ राम त्यागी
    विविधता और असमानता रहेंगी ही, उनको झगड़े की विषयवस्तु बनाना तो मूर्खता होगी।

    @ Apanatva
    बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  86. मनु और ऊर्मि याद आए हैं।
    जाने उनकी संतानें किस जाति की होतीं?

    ReplyDelete
  87. @ गिरिजेश राव
    इस प्रश्न का उत्तर न पा पाना कभी प्रेम की बाधा नहीं हो सकती। जातीय विद्वेष के हन्ताओं की जाति होती वह।

    ReplyDelete
  88. वर्णाश्रम-व्यवस्था के मीट्रिक्स को तोड़कर कब हम जाति-जंजाल में धंस गए पता ही न चला.
    कविता अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  89. @ Smart Indian - स्मार्ट इंडियन
    अब वर्णाश्रम जाति-जंजाल बन गया है।

    ReplyDelete