31.7.13

थोपा हुआ या सच

बचपन में किसी पाठ्यपुस्तक में पढ़ा था कि इंग्लैण्ड बड़ा ही विकसित देश है, और वह इसलिये भी क्योंकि वहाँ के टैक्सीवाले भी बड़े पढ़े लिखे होते हैं, अपना समय व्यर्थ नहीं करते और खाली समय से अखबार निकाल कर पढ़ा करते हैं। पता नहीं इंग्लैण्ड ने अखबार पढ़ पढ़कर अपने ज्ञान के कारण सारे विश्व पर राज्य किया, या अपनी सैन्यशक्ति के कारण, या अपनी धूर्तता के कारण। सही कारण तो इतिहासविदों की कृपा से अभी तक ज्ञात नहीं हुआ है, पर देश में वे अपने सफेद मानव का उत्तरदायित्व निभाकर अवश्य जा चुके हैं, भारत का विश्व बाजार में प्रतिशत २५ से १ प्रतिशत पर लाकर और भारत के सभी वर्गों और धर्मों को सुसंगठित करके। उक्त पाठ्यपुस्तक में यह पढ़ने के बाद एक बात मन में गहरे अवश्य पैठ गयी कि किसी भी ड्राइवर को खाली समय में अखबार या कोई पुस्तक पढ़नी चाहिये।

अब रेलवे का कार्य २४ घंटे का है, हमारे वाहन में ड्राइवर भी २४ घंटे रहते हैं, कभी रात में तो कभी दिन में सुदूर निकल जाने की आवश्यकता को ध्यान में रखकर यह व्यवस्था की गयी होगी। हमारे एक ड्राइवर युवा है, पर जब भी उन्हें कहीं प्रतीक्षा करने के लिये छोड़ जाते हैं, तो लौटकर वे सदा ही वाहन में सोते हुये मिलते हैं। हमें लगा कि यदि ऐसे ही हमारे ड्राइवर आदि सोते रहेंगे और अखबार आदि नहीं पढ़ेंगे तो देश कैसे इंग्लैण्ड की तरह विकसित हो पायेगा? यद्यपि उनकी सेवा की शर्तों में खाली समय में अखबार पढ़ना नहीं था, पर मन में बात बनी रही।

एक दिन हमसे न रहा गया और हमने भी तनिक विनोद में पूछ ही लिया कि खाली समय में थोड़ा पढ़ लिख लिया करो, केवल सोते रहते हो। वे अभी सो के ही उठे थे, उतनी ही ताजगी से उन्होंने उत्तर भी दिया कि सरजी जितना पढ़ना था हम पढ़ चुके हैं, स्नातक हैं, पढ़ाई के अनुरूप नौकरी नहीं मिली अतः ड्राइवरी कर रहे हैं। अब खाली समय में पढ़कर क्या करेंगे, हमारा तो सब पहले का ही पढ़ा हुआ है। सुबह घर से ही अखबार पढ़कर आते हैं और वैसे भी अब अखबारों में ऐसा कुछ तो निकलता नहीं है जिससे पढ़कर ज्ञान बढ़े। उससे अधिक तो हम नये नये स्थानों पर जाकर और उन्हें देखकर सीख जाते हैं।

सन्नाट सा उत्तर था, पर तथ्य भरा और अक्षरशः सत्य था। हमारा बचपन का पाठ्यपुस्तकीय ज्ञान और विकसित देशों की अवधारणा एक मिनट के उत्तर में ध्वस्त हो चुकी थी। वर्तमान भारतीय परिस्थितियों में ऐतिहासिक अंग्रेजियत के मानकों का कोई स्थान नहीं है। अब किसको खाली समय में क्या करना चाहिये, यह ज्ञान सारे विश्व को भारत से सीखना चाहिये।

ठीक है, सब कुछ पहले से ही पढ़ा है, मान लिया, पर हर समय सोते हुये क्यों मिलते हो? रात्रि में नींद पूरी नहीं करते हो या आलस्य है। हमें देखो, दिन भर जीभर के कार्य करते हैं और रात में निश्चिन्त हो सो जाते हैं। ड्राइवर महोदय ने एक मिनट के लिये चुप्पी साध ली, हमें लगा कि ड्राइविंग का बहाना बनाकर वे इस उत्तर को टाल गये। एक मिनट के बाद उन्होने फिर बोलना प्रारम्भ किया। सरजी, सो लेते हैं तो यह सुनिश्चित हो जाता है कि अभी कितनी भी दूर जाना हो, कितने ही घंटे कार्य करना हो, ऊर्जा बची रहेगी। यह कथन भी अक्षरशः सत्य था। कुछ दिन पहले ही सायं किसी दुर्घटना के स्थल पर पहुँचना था, हम तो थके होने के कारण पीछे की सीट पर फैल कर सो गये थे, ड्रइवर महोदय ने कई घंटे वाहन चला कर हमें शीघ्र ही पहुँचा दिया था। वहाँ हम अपने कार्य में लग गये थे और ड्राइवर महोदय पुनः वाहन में ही सो गये थे।

मुझे दोनों ही उत्तर समुचित मिल गये थे, अब तीसरे प्रश्न का कोई औचित्य नहीं बचा था। दो मिनट में वे सिद्ध कर चुके थे कि अपना कार्य वे पूरे मनोयोग और पूरी लगन से कर रहे हैं, जितना हम समझ रहे थे, उससे भी कहीं अधिक।

हम दोनों ही मौन बैठे थे, मुझे लग रहा था कि मैंने ऐसे संशयात्मक प्रश्न पूछ कर उनकी कर्तव्यशीलता को आहत किया है और ड्राइवर महोदय को लग रहा था कि सरजी तो शुभेच्छा के कारण पूछ रहे थे, इतने सपाट उत्तर देकर उनकी सद्भावना को मान नहीं दिया है।

थोड़ी देर में ड्राइवर महोदय स्वयं ही खुल गये और मुस्कराकर बताने लगे। सरजी, छोटे से ही मोटरसाइकिल अच्छी लगती हैं और मोटरसाइकिल रेसिंग की आसपास के राज्यों में जितनी भी प्रतियोगितायें होती हैं, वह उन सबमें भाग लेता है। कई ट्रॉफियाँ भी जीती हैं। उसके पास अपनी एक अच्छी मोटरसाइकिल है और कच्ची मिट्टी पर होने वाली प्रतियोगितायें उसकी सर्वाधिक प्रिय हैं।

यह अभिरुचि तो मँहगी होगी? मौन टूट चुका था और उत्सुकता चरम पर थी। जी, सरजी, अब जितना भी थोड़ा बहुत इस नौकरी से मिलता है, उससे घर चलता है। एक जान पहचान के हैं, उनका अपना गैराज है, उन्हें अंकल बोलते हैं, उनकी भी रेसिंग में बहुत रुचि रही है और अभी भी है। वहीं पर ही मोटरसाइकिल को दुरुस्त रखा जाता है, सारी प्रतियोगिताओं का खर्च वही उठाते हैं, केवल ड्रेस तक ही खर्च ३५ हजार के आसपास बैठता है। बस, हम सारी जीती हुयी ट्राफियाँ उनके गैराज में सजा देते हैं, यही हमारा स्नेहिल संबंध है।

अब तक मैं अभिभूत हो चला था, इतने में एक ढाबा दिखा, उतरकर हमने साथ में चाय पी, रेसिंग मोटरसाइकिलों के बारे में चर्चा की, बहुत अच्छा लगा इस प्रकार सहज होकर। चलती मशीनों के अन्दर बैठ कर हम भी अपना मस्तिष्क और हृदय मशीनवत चलता कर बैठते हैं। किसी पुरानी पाठ्यपुस्तक में पढ़ी दूर देश की आदर्शवादी गप्प से हम अपने देश के यथार्थवादी वर्तमान को कम समझ बैठते हैं। ऐसी ही कई घटनायें आपके आसपास भी मिल जायेंगी, पाठ्यपुस्तकों से अधिक ज्ञानभरी, जीवन से भरी, थोपे ज्ञान से अधिक प्रभावी, रोचक, सच।

54 comments:

  1. सच्ची बात है, किसी और का सच हमारा सच कैसे हो सकता है...?
    समय,स्थान और व्यक्तिविशेष की परिस्थितियां ही तो निर्धारित करती है उसका आदर्श एवं उसके कर्म.

    अभिभूत करता प्रसंग!

    ReplyDelete
  2. यह सच है कि अगर हम अपने पूर्वाग्रहों को त्याग कर अपने परिवेश को देखें तो यहाँ एक से एक उदाहरण मिलेगें

    ReplyDelete
  3. हर मनुष्य एक किताब है ,जिसे पढ़कर हम बहुत-कुछ समझ सकते हैं!

    ReplyDelete
  4. मेरे भाई ने भी जो भोपाल मंत्रालय में है,एक दिन यही सवाल पूछा । दुनियादारी में असफल ,हद दर्जे का ईमानदार और जाने कितनी पुस्तकें पढकर अन्दर हुए विस्तार को समेटने मजबूर वह एक दिन बोला दीदी हम इतना कुछ क्यों पढते हैं जबकि वह व्यवहार में तो काम आता ही नही । उसकी बात से मैं पूरी तरह सहमत तो नही हूँ लेकिन इतना अवश्य है कि व्यावहारिक ज्ञान और अपने परिवेश से जुडाव व्यक्ति के लिये किताबों से भी अधिक महत्त्वपूर्ण है । जिन्दगी भी तो एक किताब ही है ।

    ReplyDelete
  5. अध्ययन ज्ञान से अनुभूत ज्ञान की पकड विशेष ही होती है.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा दृष्टांत साझा किया प्रवीण भाई आपने आज
    कुछ विशेष पाया आज मैंने
    आभार...

    ReplyDelete
  7. अज्ञानी बने रहने में कितना ज्ञान है , ऐसे लोगों के साथ सहज होने पर पता चलता है !

    ReplyDelete
  8. सच है हमारे आसपास बहुत ही प्रतिभाशाली लोग हैं, बस हम उन्‍हें पहचानते नहीं हैं।

    ReplyDelete
  9. बिल्कुल सबका सच अलग ही होता है .... प्रतिभा का होना यूँ भी केवल पाठ्यपुस्तकों से मिले ज्ञान तक सीमित नहीं होता |

    ReplyDelete
  10. किताबी ज्ञान के अलावा बाकि सब दुनिया सिखा देती है.

    ReplyDelete
  11. kabhi kabhi lagta tha ki shayad main ghalat sochta raha hun, par aap ne jis logic ke sath baton ko rakha us se lagta ai ki main sahi disha mein soch raha tha............ thx

    ReplyDelete
  12. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (01-08-2013) को "ब्लॉग प्रसारण- 72" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  13. मोटरसाइकिल दोबारा चलाने की सोंचता हूँ तो बच्चे लड़ते हैं :),
    कहीं पापा..
    कब तक बचा पायेंगे मुझे ? :)

    ReplyDelete
  14. vartmaan me jeena hi shayad sabse bada gyan ka saadhan hai........hai na ??

    ReplyDelete
  15. सबके अपने अनुभव बहुत सारे ज्ञान को समेटते हैं .... थोपा हुआ ज्ञान जीवन में कम ही काम आता है । रोचक प्रस्तुतीकरण

    ReplyDelete
  16. मतलब ये कि इस देश की ड्राईवर कम्युनिटी, आइआइटियन कम्युनिटी से ज्यादा अक्लमंद है ? हा-हा-हा-हा....

    ReplyDelete
  17. Well, as far as news is concerned. Its utter waste of time and corruption of mind to read newspaper ( except THE HINDU) or watch any other TV news channel.

    Everybody is selling news.

    In fact I have urged my parents not to watch TV and sell them or donate them as they like. Still waiting for them to listen. :)

    ReplyDelete
  18. किताबी ग्यान से बढ़कर होता है अनुभव..रोचक दृष्टांत को सांझा करने के लिए आप का आभार प्रवीण जी..

    ReplyDelete
  19. बहुत रोचक और ताजगी भरी पोस्ट !

    ReplyDelete
  20. सहज और सरल होना कितना सुखद है ना? छोते बडे सब एकाकार हो जाते हैं, सुंदर प्रसंग.

    रामारम.

    ReplyDelete
  21. ऐसे अन्क उदाहरण आए दिन हमारे आस-पास मिलते रहते हैं।

    ReplyDelete
  22. सच ही तो है केवल किताबी ज्ञान से कोई भी देश तरक्की नहीं कर सकता है जी और रही बात इंग्लैंड के ड्राईवर कि तो आपको बता दें यहाँ के ड्राईवर किसी ज़माने में शायद बहुत पढे लिखे होते होंगे और खाली समय में अख़बार भी पढ़ते होंगे। मगर वर्तमान स्थिति इसके ठीक विपरीत है। इन गोरो ने केवल अपनी धुरर्ता के बल पर ही राज किया है, ज्ञान के बल पर नहीं। भई हमें तो यही लगता है बाकी तो राम जाने :)

    ReplyDelete
  23. पाठ्यपुस्तकों में ऐसे कई थोपे हुए सच भरे पड़े हैं...सुंदर प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete
  24. इसके अलावा कुछ नहीं कहूंगा कि यह पोस्‍ट मेरे मन की बात कहती है। मेरी पोस्‍ट (जो मैं न बन सका,जुलाई २०१३) में मैंने एक तरह से यही विश्‍लेषण किया है।

    ReplyDelete
  25. ज्ञान बिखरा हुआ है आस पास ... खुली नज़रें जरूरी हैं ...

    ReplyDelete
  26. बहुत ही अच्‍छी पोस्‍ट ..... साझा करने का आभार

    ReplyDelete
  27. किताबी ज्ञान से व्यावहारिक ज्ञान सदैव सर्वोतम होता है !!

    ReplyDelete
  28. सबके अपने आकाश, सबकी अपनी धरती, सबका अपना सच।

    ReplyDelete
  29. इसी को यथार्थ कहते हैं।

    ReplyDelete
  30. bahut achchi post. lekin kya aisa kam hame tees nahi deta jisme hame urja bachaye rakhne ke liye kitabon ko chhodna pade

    ReplyDelete
  31. हर आम आदमी में कुछ न कुछ खास होता ही है ....!!खुशी हमारे भीतर या आस पास ही है उसको तलाशना है बस ...!!
    बहुत सार्थक रोचक पोस्ट ।

    ReplyDelete

  32. किताबी ज्ञान लिखित परीक्षा तक ही साथ निभाता है ,व्यावहारिक ज्ञान अनुभव से प्राप्त होता है ,-बहुत सुन्दर लेख
    latest post,नेताजी कहीन है।
    latest postअनुभूति : वर्षा ऋतु

    ReplyDelete
  33. ---सुन्दर पोस्ट...

    ज्ञान, जानकारी, विवेक ....अलग अलग तथ्य हैं..... किताबी ज्ञान के बिना हम आगे नहीं बढ़ सकते ... व्यवहारिक व अनुभव की जानकारी को ज्ञान से परिपुष्ट करके उनके विवेकपूर्ण समन्वय से प्रयोग करना चाहिए ...तो थोपा हुआ ज्ञान हानिकारक व भ्रमित कारक नहीं होता....

    ---सबका अपना अपना आकाश होता है ..

    ReplyDelete
  34. ज्ञान प्राप्त करने के लिए सारी उम्र भी कम पड़ती है ,

    RECENT POST: तेरी याद आ गई ...

    ReplyDelete

  35. ॐ शान्ति यही तो कर्म योग है आत्माभिमान की स्थिति है स्थित प्रज्ञ, अपने निज स्वरूप होना है जो प्रेम स्वरूप है पीड़ा का क्या काम यहाँ।इसीलिए कबीर ने कहा-तू कहता मसि कागद लेखी ,मैं कहता आंखन देखि। हमारे मनमोहन तो फिर भी गोरों के घर्जाके हाथ जोड़ आये उपकार में माई बाप जो कुछ है सब आपका दिया हुआ है यह ज्ञान भी विज्ञान भी ये डिग्री भी। ॐ शान्ति। जय हो।

    ReplyDelete
  36. ज्‍यादा पढ़ने से इन्‍सान गधा जाता है, पढ़ी पढ़ाई बातें गाने लगता है, अपनी सोच पर ढक्‍कन ओढ़ा देता है...
    ( गुजारे लायक पढ़ना ठीक है)

    ReplyDelete
  37. सच्चाई व ईमानदारी की बात तो यही है जो आपके ड्राइवर ने कही, अपना ड्राइवर का काम वह पूरी लगन व तत्परता से करता है यह ज्यादा महत्वपूर्ण है बनिस्बत कि वह खाली समय में सोता है या अखबार पढ़ता है ।मेरे भी ड्राइवर कार महोदय हैं जो आप जब भी गाड़ी पर पहुँचें तो कोई तमिल अखबार पढ़ते मिलेंगे, किंतु उनके शारीरिक भाषा, चेहरे के हावभाव व ड्राइविंग के लहजे से आपको तुरंत अनुभव हो जायेगा कि यह व्यक्ति अपने काम व ड्यूटी से कितना उदासीन है व कितनी घृणा करता है ।आपके कर्तव्य निष्ठ ड्राइवर का हार्दिक अभिनंदन, व इतने सुंदर लेख हेतु आपका हार्दिक आभार ।

    ReplyDelete
  38. बहुत ही सही बात कही है आपके ड्राईवर ने । वास्तव में हमें अपने आसपास ही इतने उदहारण मिल जाते है कि कहीं दूर जाने की जरूरत ही नहीं ।

    ReplyDelete
  39. सच! व्यावहारिक सच...

    ReplyDelete
  40. हमारे यहां एक तो मुश्किल ये है कि हम मान लेते हैं कि अमुक काम करने वाला पढ़ता नहीं होगा..दूसरे ये मान लेते हैं कि अब पढ़कर क्या मिलेगा...ये बातें हमें हमारी समाजिक ताकत को पहचानने का कारण बनती हैं। इसलिए किसी काम के हिसाब से किसी व्यक्तित की मानसिक क्षमता का आकलन करना गलत होता है।

    ReplyDelete
  41. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    कभी यहाँ भी पधारें

    ReplyDelete
  42. दुर्भाग्य तो यही है की हम दुसरे के सच को अपना सच मन लेने में झिझकते नहीं। दुनिया में कहीं भी कुछ भी पढ़ा जाये कम ही आता है यदि हममे पढ़ने की ललक नहीं होती और हम हर पढाई को बेकार ही मन लेते तो मैं आपके साथ या अन्य ब्लोगेर मित्रों से कैसे जुड़ पाता

    ReplyDelete
  43. दुर्भाग्य तो यही है की हम दुसरे के सच को अपना सच मन लेने में झिझकते नहीं। दुनिया में कहीं भी कुछ भी पढ़ा जाये कम ही आता है यदि हममे पढ़ने की ललक नहीं होती और हम हर पढाई को बेकार ही मन लेते तो मैं आपके साथ या अन्य ब्लोगेर मित्रों से कैसे जुड़ पाता

    ReplyDelete
  44. बहुत ही सही बात कही है आपके ड्राईवर ने ...सुंदर लि‍खा

    ReplyDelete
  45. ऐसी ही कई घटनायें हमारे आसपास भी मिल जायेंगी, पाठ्यपुस्तकों से अधिक ज्ञानभरी, जीवन से भरी, थोपे ज्ञान से अधिक प्रभावी, रोचक, सच ।
    सुंदर प्रस्तुति । कितनी बार हम अगले के बारे में कितना कम जानते हैं ।

    ReplyDelete
  46. आपसी संवाद कितना ज़रूरी है,कई बार हम मन में सोचे रहते हैं लेकिन सामने पूछते नहीं ..यहाँ आप ने बात शुरू की तो उस के व्यक्तित्व के बारे में नयी बातें मालूम हुईं .
    क्या आप को नहीं लगता कि नयी पीढ़ी अधिक व्यावहारिक है?

    ReplyDelete
  47. अपने मातहतों से जुड़कर भी हम बहुत कुछ सीख सकते हैं अपना श्रेष्ठी भाव तजकर। बढ़िया प्रेरक पोस्ट।

    ReplyDelete
  48. so much to learn with people and things around..
    but, for that we need to open up ourselves.. break free of societal inhibitions.

    An awesome read as ever !!

    ReplyDelete
  49. पोथी पढ़ पढ़ जग मुआ पंडित भयो न कोय। भले कोई तैरने की कला पर दस किताब पढ़ ले एक खुद भी लिख ले लेकिन तैरना सीखा जाता है अनुभव संपन्न होता है। वाही खा है आपने इस सार्थक रचना में।

    ReplyDelete
  50. सही है। जिंदगी सबसे बड़ी किताब है.

    ReplyDelete
  51. जिन्दगी वो किताब है जिसके जितने पन्ने पढ़ें कुछ अलग ही मिलता है . हर इंसान की अपनी एक अलग कहानी होती है और सिखाने को बहुत कुछ सिखा जाती है . शिक्षा विद्वान ही दे सकते हैं ऐसा नहीं है कभी कभी हमें सब्जी वाले , रिक्शे वाले बहुत कुछ सिखा जाते हैं . बहुत अच्छे ढंग से प्रस्तुत किया इस बात को .

    ReplyDelete