23.6.12

अच्छा होने की कठिनाईयाँ

पहले यह स्पष्ट कर दूँ कि इस विषय में लिखने की योग्यता और अधिकार, दोनों ही मेरे पास नहीं है, योग्यता इसलिये क्योंकि इस विषय पर अब भी मैं भ्रम लिये जीता हूँ, अधिकार इसलिये क्योंकि मैं इतना अच्छा भी नहीं हूँ कि अच्छाई पर साधिकार लिख सकूँ। मेरे पास भी मेरे हिस्से की बुराईयाँ हैं, सहेजे हूँ, चुप रहता हूँ, उनसे लड़ता नहीं हूँ, संभवतः उतनी शक्ति नहीं है या संभवतः उतनी ऊर्जा नहीं है जो उन पर व्यर्थ की जा सके। कुछ तो इस उपेक्षा से दुखी होकर चली गयी हैं, कुछ धीरे धीरे चली जायेंगी। जो रहेंगी, वो रहें, पर उन्हें अपने पूरे जीवन पर अधिकार नहीं करने दूँगा।

प्रश्न पर स्वाभाविक है, क्या अच्छा होने से कठिनाईयाँ कम हो जाती है, क्या है जो आपको अच्छा होने पर मिल जाता है, क्या अच्छा होना सच में इतना आवश्यक है? जब हम प्रश्नों का उत्तर स्वयं से नहीं पाते हैं तो उसका उत्तर बाहर ढूढ़ते हैं, वर्तमान में, भूतकाल में, घटनाओं में, ग्रन्थों में। भले ही ऐसे प्रश्न जीवन भर अनुत्तरित रहें पर अतार्किक और भ्रामक उत्तरों से संतुष्ट न हो बैठें।

इन प्रश्नों को समझने और उसका उत्तर ढूढ़ने में गुरचरनदास ने महाभारत का आधार लिया है। बड़े ही चिन्तनशील लेखक हैं, उन्होंने महाभारत का न केवल विधिवत अध्ययन किया है वरन उसके पहले के ३० वर्षों में अपने कार्यक्षेत्र में उस महाभारत को जिया है। व्यावसायिक युद्ध में निरत किसी बहुराष्ट्रीय कंपनी के शीर्ष तक पहुँचने के क्रम में ये प्रश्न नित ही आते होंगे। उन्होंने महाभारत क्यों चुनी, इसका स्पष्ट उत्तर उन्होंने अपनी पुस्तक 'द डिफ्कल्टी ऑफ बीईंग गुड' में नहीं दिया है, पर महाभारत में ऐसे उदाहरणों की बहुतायत है जिससे यह द्वन्द्व गहनता से समझा जा सकता है। पोस्ट का शीर्षक उनकी पुस्तक के नाम का हिन्दी अनुवाद भर है।

बड़ा ही मूल प्रश्न है, सबको दिखता भी है, कि जहाँ एक ओर बुरे लोग आनन्द में रहते हैं अच्छे लोगों को सारी कठिनाईयाँ झेलनी पड़ती हैं। तिकड़मियों का गुणवानों की तुलना में विश्व पर अधिक अधिकार है, अनुपात से बहुत अधिक। ऐसा नहीं कि यह स्थिति आज ही उत्पन्न हो गयी, महाभारत के समय भी दुर्योधन और शकुनि अपनी धूर्तता से सारे राज्य पर अधिकार किये बैठे थे। अच्छों के किये कार्यों का फल जब निठल्ले उठाते हैं तो कोफ्त होना स्वाभाविक है। अच्छे लोगों का व्यवस्था से विश्वास संभवतः यही देख कर डगमगाता होगा, उनकी तटस्थता का यही एकमेव कारण होगा।

कई वर्ष पहले 'ऐन रैण्ड' नामक लेखिका की बहुचर्चित पुस्तक पढ़ी थी, 'द एटलस श्रग्ड'। उसकी भी मूल की अवधारणा में यही बात थी कि किस तरह अच्छे कर्मों के फल को असहाय रिसने से रोका जा सके, किस तरह एक अलग विश्व बनाया जा सके जिसमें अच्छे लोगों को अपने श्रम और बुद्धि के अनुसार मान मिल सके, सुविधायें मिल सकें, धन मिल सके। मानवता और समाज के नाम पर लगा ब्याज अच्छे लोगों से उनका मूल भी छीन लेता है, कठिनाई में जीते हैं अच्छे लोग। वहीं बुरे लोग संसाधनों के बँटवारे में सदा विजयी होते हैं।

कहने को तो अन्ततः महाभारत में भी पाण्डवों की विजय हुयी, धर्म की विजय हुयी, सत्यमेव जयते। पर क्या वह सत्य जीत पाता यदि कृष्ण पाण्डवों का साथ न देते? क्या युधिष्ठिर की नीतिप्रियता और धर्मनिष्ठता अपने आप में पर्याप्त थी, महाभारत का युद्ध जीतने के लिये? संभवतः नहीं, कौरवों को जिताने के लिये भीष्म स्वयं ही पर्याप्त थे, यदि वह एक या दो दिन और जीवित रहते। कृष्ण ने युद्ध जीतने को जिन उपायों का सहारा लिया, उसे धर्मयुद्ध से अधिक छलयुद्ध की संज्ञा दी जा सकती है। भीष्म, द्रोण, कर्ण और अन्ततः दुर्योधन, सबका अन्त छल से ही किया गया।

अच्छाई धारण करने के लिये अत्यधिक सहन शक्ति चाहिये, जो अच्छे लोगों में होती भी है, युधिष्ठिर में थी। जब यही सहनशक्ति अन्याय सहन करने में लगायी जाती है, तो अच्छाई की मात्रा हर ओर से सिकुड़ने लगती है, बुराई अनियन्त्रित सी फैल जाती है, दुर्योधन की तरह। कोई कृष्ण तब बताता है कि क्या किया जाये और कैसे किया जाये, जिससे अच्छाई बची रहे।

सत्य अपने आप अधिक समय तक सुरक्षित नहीं रहता है, कोई सत्यमेव जयते का उद्घोष करने वाला होना चाहिये। तभी वह बचा रहता है और अन्ततः जीतता भी है। अच्छाई की कठिनाईयों को समझने के लिये महाभारत की समझ हो और साथ ही हो समझ कृष्ण-प्रदत्त-हल की जिसके कारण सत्य टिक सका। जीवन भी किसी महाभारत से कम नहीं है, पर यह निश्चय भी नहीं कि हर महाभारत में धर्म और सत्य की विजय ही हो।

83 comments:

  1. ' पर क्या वह सत्य जीत पाता यदि कृष्ण पाण्डवों का साथ न देते? क्या युधिष्ठिर की नीतिप्रियता और धर्मनिष्ठता अपने आप में पर्याप्त थी, महाभारत का युद्ध जीतने के लिये?'

    - शायद कृष्ण का साथ पाने के लिए यही योग्यता हो, युधिष्टिर की नीतिप्रिय्ता और धर्मनिष्ठता अकेले महाभारत का युद्ध जीतने के लिए पर्याप्त नहीं रही होगी लेकिन कृष्ण का संबल पाने को तो यही पर्याप्त रही होगी न|

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गयी है!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
  3. यह जीवन में कई बार देखा है कि अच्छा होने से कठिनाइयाँ कम नहीं होतीं बल्कि बढती ही हैं | यह भी सच है कि अच्छा होना ही पर्याप्त नहीं है बुराई का प्रतिकार भी आवश्यक है..... सुंदर वैचारिक आलेख....

    ReplyDelete
  4. @क्या वह सत्य जीत पाता यदि कृष्ण पाण्डवों का साथ न देते?
    - सवाल हाइपोथिटिकल है लेकिन उत्तर तो कृष्ण ने ही दिया है
    "ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम।"

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरा प्रतिप्रश्न भी यही है, 'साथ क्यूं न देते?' और कृष्ण रूपी उद्धारक का साथ पाने के लिए सच्चा और न्यायप्रिय होना निश्चित रूप से पांडवों के लिए सहायक सिद्ध हुआ होगा|

      Delete
  5. सत्य अपने आप अधिक समय तक सुरक्षित नहीं रहता है, कोई सत्यमेव जयते का उद्घोष करने वाला होना चाहिये।....बस इसमें सब समाहित हो गया.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य कोई बुलबुला नहीं जो हाथ लगते ही फूट जाए। वह फुटबॉल की तरह होता है, पूरे दिन ठोकर खाने के बाद शाम तक वह पहले जैसा ही सख्‍त रहता है। ओलिवर वैंडेल होम

      Delete
  6. ...अच्छा होने में कठिनाइयाँ हैं तभी तो अच्छा बनना श्रेयस्कर है.साधारण ढंग से ,आम ढर्रे पर तो आसानी से चला जा सकता है पर धरा के विरुद्ध चलने का अपना आनंद है !क्षणिक आनंद के बजाय लंबा और अंतिम आनंद हमारा लक्ष्य होना चाहिए !

    ReplyDelete
  7. I know I'm good...Smiles...:)

    ReplyDelete
  8. praveen ji , mujhe lagta hai ki accha hona ek 'feel good ' effect ko generate karta hai jiske wajah se zindagi ko behtar banaaya ja sakti hai .. aaccha bana rahan bahut kathin kaarya hia , lekin at the end of the day this gives utmost pleasure.
    praveen ji ,bahut acchi post .. salaam kabul kare. gurucharn is one ofmy favorite writers.

    thanks a lot.
    plos send yor mobile number by email to me . or please call me @ 9849746500
    thanks

    ReplyDelete
  9. अच्छे लोग सरल होते हैं। सरलता के बिना कोई व्‍यक्ति अन्‍य आत्‍माओं का सच्‍च स्‍नेह नहीं पा सकता। इसलिए उन्हें कृष्ण मिले।

    पांडव अच्छे लोग थे। अच्‍छे लोग इसलिए अच्‍छे होते हैं, क्‍योंकि उन्‍होंने अपनी नाकामियों से काफी ज्ञान बटोरा है। और इसीलिए पांडव सफल हुए। जबकि कौरव की आंखों और ज्ञान/बुद्धि पर दंभ और अहंकार का परदा पड़ा रहा।

    ReplyDelete
  10. कठिनाइयां तो हर हाल में आती हैं , पर अच्छाई का मूल्य जरा महंगा है ...

    ReplyDelete
  11. @ जो रहेंगी, वो रहें, पर उन्हें अपने पूरे जीवन पर अधिकार नहीं करने दूँगा।

    बड़ा प्यारा लेख है,उपरोक्त पंक्तियाँ मेरी भी हैं ! बुराइयों से मुक्ति पाना संभव नहीं है, मगर वे अच्छाइयों पर हावी न हों पायें तब भी सौदा बुरा नहीं होगा !

    अच्छाइयों की सहनशक्ति कहाँ तक हो ? मेरे अनुभव में,आज दुष्टता आसानी से जीतती नज़र आती है !
    जहाँ संवेदनशीलता का अभाव, दुष्टों की चमड़ी मज़बूत बना देता है वहीँ क्रूरता, दुखित संवेदित ह्रदय पर और घातक चोट करती है !
    अंततः कष्ट में भले लोग ही पाए जाते हैं और हम अफ़सोस जाहिर कर चुप हो जाते हैं !

    ReplyDelete
  12. भौतिक सुख और आत्मिक संतोष -जब जिसका पलड़ा हो जाय!.

    ReplyDelete
  13. कृपया स्पैम से टिप्पणी मुक्त करें प्रवीण भाई ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज गूगल अधिक दुखी कर रहे हैं।

      Delete
  14. कल 24/06/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. जब 'सत्यमेव जयते' भी बाज़ार की चीज बन जाये, तो स्वयं का पुनर्मूल्यांकन आवश्यक हो जाता है...।

    ReplyDelete
  16. अच्छाई धारण करने के लिये अत्यधिक सहन शक्ति चाहिये, जो अच्छे लोगों में होती भी है, युधिष्ठिर में थी। जब यही सहनशक्ति अन्याय सहन करने में लगायी जाती है, तो अच्छाई की मात्रा हर ओर से सिकुड़ने लगती है, बुराई अनियन्त्रित सी फैल जाती है, दुर्योधन की तरह। कोई कृष्ण तब बताता है कि क्या किया जाये और कैसे किया जाये, जिससे अच्छाई बची रहे। मैं इसीलिए अन्याय कभी नहीं सहता,..... मैं अपना प्रोटेस्ट हमेशा ज़ाहिर कर देता हूँ.. और बहुत फर्मली अन्याय के खिलाफ बोलता हूँ.. मुझे यह लाइंस काफी अच्छी लगीं..

    सत्य अपने आप अधिक समय तक सुरक्षित नहीं रहता है.. यह लाइन भी बहुत अच्छी है.. देखिये..झूठ हमेशा झूठ ही होता है.. और जब झूठ खुलता है तो नज़रें हमेशा नीची रहतीं हैं.. पर दिक्कत यह है झूठ प्रिवेल ज्यादा करता है.. और सच को डटे रहने के लिए चुप रहना पड़ता है.. इसीलिए सच ज्यादा समय के लिए सुरक्षित नहीं रहता है...

    अगर आप अच्छे नहीं होते तो मैं कमेन्ट नहीं करता.. अगर हम अच्छे तो सब अच्छे ... वाइसे-वरसा...

    ReplyDelete
    Replies
    1. महफूज़ भाई आप कि बात से सहमत नहीं कि " सच ज्यादा समय के लिए सुरक्षित नहीं रहता है" सत्य ही हमेशा सुरछित रहता है झूट कि उम्र कम हुआ करती है |

      Delete
  17. अच्छाई धारण करने के लिये अत्यधिक सहन शक्ति चाहिये, जो अच्छे लोगों में होती भी है, युधिष्ठिर में थी। जब यही सहनशक्ति अन्याय सहन करने में लगायी जाती है, तो अच्छाई की मात्रा हर ओर से सिकुड़ने लगती है, बुराई अनियन्त्रित सी फैल जाती है, दुर्योधन की तरह। कोई कृष्ण तब बताता है कि क्या किया जाये और कैसे किया जाये, जिससे अच्छाई बची रहे। मैं इसीलिए अन्याय कभी नहीं सहता,..... मैं अपना प्रोटेस्ट हमेशा ज़ाहिर कर देता हूँ.. और बहुत फर्मली अन्याय के खिलाफ बोलता हूँ.. मुझे यह लाइंस काफी अच्छी लगीं..

    सत्य अपने आप अधिक समय तक सुरक्षित नहीं रहता है.. यह लाइन भी बहुत अच्छी है.. देखिये..झूठ हमेशा झूठ ही होता है.. और जब झूठ खुलता है तो नज़रें हमेशा नीची रहतीं हैं.. पर दिक्कत यह है झूठ प्रिवेल ज्यादा करता है.. और सच को डटे रहने के लिए चुप रहना पड़ता है.. इसीलिए सच ज्यादा समय के लिए सुरक्षित नहीं रहता है...

    अगर आप अच्छे नहीं होते तो मैं कमेन्ट नहीं करता.. अगर हम अच्छे तो सब अच्छे ... वाइसे-वरसा...

    ReplyDelete
  18. apke is lekh ne antas me vicharon ka kolahal aarambh kar diya hai. kon se vichar pahle rakhu abhi to isi me hi asmarth hun. lekin sab baaton ki ek baat ki acchha hone me jo khushi aur garv hai vo kisi aur kaam me nahi. dusra har insaan me acchhe aur bure jeans hote hain in par insan ka khud ka jor nahi. agar acchhe jeans jyada hain to vo lakh bura banNe ki koshish kare nahi ban payega...beshak uske liye use kitna kuchh bhi khona pade...par vo acchha hi rahega.

    aur ant-to-gatva bhagwaan bhi to sada acchhon ki hi madad k liye aate hain. apna itihas itne udaahrno se bhara pada hai.....to insan acchha hi rahe ye soch k bhi ki agar me acchha rahunga to shayad bhagwan meri madad karne aa hi jayen. (ha.ha.ha.)

    bahut acchha lekh.

    ReplyDelete
  19. हम अच्छे हैं या बुरे इससे किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ता फर्क पड़्ता है तो हमे हमारी आत्मा को..लेकिन ये दोनों ही दर्द देते हैं..प्रवीण जी...

    ReplyDelete
  20. अच्छा, बुरा सब सापेक्ष है | निरपेक्ष कुछ भी नहीं | एक फ्रेम में जो घटना हम देखते हैं , अगर समय / काल के अनुसार तनिक उस फ्रेम को आगे या पीछे शिफ्ट कर दें तब उस घटना का अर्थ कुछ और ही निकल आता है | हाँ ! जहां तक आमतौर पर साधारण रूप में अच्छे होने का सवाल है , थोड़ा झेलना तो पड़ता है |

    ReplyDelete
  21. अच्छा, बुरा सब सापेक्ष है | निरपेक्ष कुछ भी नहीं | एक फ्रेम में जो घटना हम देखते हैं , अगर समय / काल के अनुसार तनिक उस फ्रेम को आगे या पीछे शिफ्ट कर दें तब उस घटना का अर्थ कुछ और ही निकल आता है | हाँ ! जहां तक आमतौर पर साधारण रूप में अच्छे होने का सवाल है , थोड़ा झेलना तो पड़ता है |

    ReplyDelete
  22. 'स्पैमासुर' सब टिप्पणी लील जा रहा है | अब 'न दैन्यं न पलायनम' ही इस असुर से छुटकारा दिलाएंगे ,तभी मेरी टिप्पणी का उद्धार होगा |

    ReplyDelete
    Replies
    1. पता नहीं, आज स्पैमासुर इतना सक्रिय कैसे हो गया है। गूगल बाबा तो अच्छों को सहारा देते हैं।

      Delete
  23. अच्छाई अपने आप में एक कठिनाई है।

    ReplyDelete
  24. सत्‍य का साथ देने के लिए और सत्‍य का साथ पाने के लिए योग्‍यता तो होनी ही चाहिए।

    ReplyDelete
  25. अच्छाइयों की शुरुआत होती है घर से मिले संस्कारों से . यदि शुरू में कदम न डगमगाएं तो अच्छाई एक आदत बन जाती है जो समय के साथ साथ पक जाती है .
    उसके बाद तो सलमान खान का डायलोग याद आता है -- एक बार में फैसला कर लूँ तो फिर खुद की भी नहीं सुनता .
    यह सच है की हर बार अच्छाई की जीत नहीं हो पाती . कम से कम कुछ समय के लिए . लेकिन लोंग रन में सच का ही बोलबाला होता है .

    ReplyDelete
  26. अच्‍छा न होना दीवार में सि‍र मारने जैसा है

    ReplyDelete
  27. महाभारत में सकल दृष्टान्त समाहित हैं... अच्छाई, बुरे, सत्य की विजय सब कुछ उसे आधारस्वरूप मान कर समझा जा सकता है...!
    बढ़िया आलेख!

    ReplyDelete
  28. प्रवीण ज़ी बहुत सही आकलन करती पोस्ट लगायी है हर इंसान को जीवन के महाभारत मे उतरने से पहले किसी महापुरुष के संसर्ग मे एक बार महाभारत जरूर पढनी या सुननी चाहिये जीवन जीने की कला है उसमे , पता है युधिष्ठिर ने पूछा एक बार कि हम तो सदा सत्य पर चले अच्छाई की फिर हमारे साथ ऐसा क्यों हुआ तो उसका जवाब ये मिला कि बेशक तुमने सब किया मगर सावधानी नही बरती अगर एक बार तुमने धोखा खाया तो जरूरी था कि तुम सावधान रहते दूसरा मौका ना देते मगर तुमने हमेशा यही किया जिसके कारण तुम्हे इतना दुख भोगना पडा और यही हम मनुष्यों के साथ होता है मगर जो ये सीख जीवन मे उतार लेते हैं वो सुखद जीवन भी जीते हैं अपने सत्य और अच्छाइयों के साथ भी।

    ReplyDelete
  29. जीवन भी किसी महाभारत से कम नहीं है, पर यह निश्चय भी नहीं कि हर महाभारत में धर्म और सत्य की विजय ही हो।

    सच्चाई के मार्ग पर चलने वालों को निरंतर ही एक परीक्षा के लिये तैयार रहना पड़्ता है ....सजग जीवन जीना होता है ....बुराई सच्चाई को ,अच्छाई को ,कई बार पछाड़ देती है ....पर हरा नहीं पाती ...हमारे इंडियन फिल्म के हीरो की तरह ....अच्छाई जीतती ही है ...

    ReplyDelete
  30. सत्य और अच्छाइयों के साथ रहे तो,भले ही देरी हो पर सत्य की विजय ही होती है

    ReplyDelete
  31. बुराई को जड़ से मिटाने के लिए छल का सहारा वर्जनीय तो नहीं है . सठे साठय्म समाचरेत .

    ReplyDelete
  32. सहज सरल शब्‍दों में कही गई हर बात बिल्‍कुल गहरे उतरते हुई सच्‍ची और अच्‍छी पोस्‍ट ... आभार

    ReplyDelete
  33. अच्छे और गंभीर विषय पर ध्यान आकर्षित करने और मनन करने का अवसर देने के लिए आपका आभार...

    ReplyDelete
  34. क्या अच्छे बने रहना ज़रूरी है ? प्रश्न आपका सही है | हमने हमेशा अच्छों को मात खाते हुए ही देखा है, हिंदी फिल्मों में भी अच्छों को कमज़ोर और बुरे लोगों को मजबूत दिखाया जाता रहा है, लेकिन अंततोगत्वा जीत हमेशा अच्छाई की ही हुई है, जीतने की बात को अगर हम दरकिनार करें और अपने बारे में ही सोचें, छोटा सा भी गलत काम अगर आप करते हैं तो रातों की नींद हराम हो जाती है...आपकी अंतरात्मा आपको कचोटती रहती है, अच्छे काम करने से एक फायदा यह होता है कि आप सोते बहुत मज़े से हैं....
    वैसे तो अपने-अपने हिस्से की अच्छाईयाँ बुराईयाँ सब में हैं..अच्छा बने रहना ज़रूर कठिन है, इसके लिए अत्यधिक आत्मबल की आवश्यकता होती है, इसीलिए तो ऐसे ही लोगों को देख कर, हम कहते हैं कि फलां इंसान कितना अच्छा है, ज़ाहिर सी बात है उस इंसान में बुराइयों की अपेक्षा अच्छाईयाँ ज्यादा होतीं हैं..और ऐसे अच्छे लोगों को देख कर खुद को बदलने को जी चाहता है..
    कुछ तो बुनियादी गुण होते हैं जिनको हम किसी में भी देख कर कहते हैं, यह व्यक्ति अच्छा है |
    यहाँ पर ज़रा लीक से हट रही हूँ...
    अच्छाई की परिभाषा बहुत विस्तृत होगी फिर भी कुछ गुण यहाँ लिखना चाहूंगी :
    अच्छा वो है जिसमें सामान्यतः निम्नलिखित वांछनीय गुण होंगे :
    जी दूसरों की सफलता को बढ़ावा देता हो
    जो दूसरों के कल्याण के बारे में सोचता हो और करता हो
    जो स्वयं खुश रहता हो और दूसरों को भी ख़ुशी देता हो
    जो आक्रामक न हो
    जो दूसरों को हानि (मानसिक, शारीरिक, आर्थिक और चारित्रिक ) न पहुंचाता हो,
    जो भ्रष्ट न हो
    जो दूसरों को परेशान न करता हो, और दूसरों को परेशान देख कर खुश न होता हो
    जो दूसरों की बात सुनता और समझता हो
    जो धार्मिक हो
    जो मन से पवित्र हो
    जो नैतिक रूप से उत्कृष्ट हो
    जो पुण्य करता हो
    जो उदार हो
    जो दयालु हो
    जो चतुर हो
    जो चापलूस न हो
    जो विनीत एवं विनम्र हो
    जो विश्वासी हो, भरोसे के लायक हो
    जो खुशमिजाज़ हो लेकिन चरित्र का गंभीर हो
    जो कानून का पालन करता हो
    जो स्वार्थी न हो
    जो अच्छे के लिए परिस्थिति और समय के अनुसार खुद को बदलने की चाह रखता हो
    इत्यादि
    और भी गुण होंगे लेकिन फिलहाल मुझे इतने ही ध्यान में हैं...
    आलेख की तारीफ सबने कर ही दी है...मेरी तरफ से भी बधाई स्वीकारें
    आभार

    ReplyDelete
  35. सर जी जो भी हो सोने का रंग नहीं बदलता और उसका अस्तित्व हमेशा रहता है, लोग पछताते है जब परिणाम को देखते है !हवा कभी मुड कर नहीं देखती बल्कि सबको उड़ा ले जाती है ! अच्छे विषय की प्रस्तुति

    ReplyDelete
  36. बड़ा गम्भीर चिन्तन है प्रवीण जी. एकदम मनन योग्य :)

    ReplyDelete
  37. नीति शास्त्र में साम , दाम ,दंड ,भेद का भी अपना महत्व है..

    ReplyDelete
  38. बहुत ही सुन्दर सार्थक चर्चा है..... और आरंभ में कही आपकी बातें बहुत भायीं....
    सादर आभार स्वीकारें।

    ReplyDelete
  39. सबसे पहले तो गुरचरनदास की इस पुस्तक के बारे में बता कर आपने मेरी इसमें तत्क्षण रूचि जगा दी है ...
    कहते हैं न शठे शाठ्यम समाचरेत ..कृष्ण भी यही युक्ति अपनाते थे ...
    समय के साथ युग धर्म बदलता गया है मगर कुछ मानवीय गुण हमेशा समादृत होंगे
    आपमें भी जो है वो बना रहे यही कामना है !

    ReplyDelete
  40. गंभीर चिंतन :)

    ReplyDelete
  41. यह प्रश्न तो महाभारत बनकर निरंतर हमारे स्वयं के अंदर वर्तमान है व संघर्षशील है।

    ReplyDelete
  42. सत्य अपने आप अधिक समय तक सुरक्षित नहीं रहता है, कोई सत्यमेव जयते का उद्घोष करने वाला होना चाहिये। तभी वह बचा रहता है और अन्ततः जीतता भी है।

    सटीक उदाहरण दिया है अच्छा होने का .... बहुत विचारणीय लेख

    ReplyDelete
  43. आपके निष्‍कर्ष से सहमत।

    ReplyDelete
  44. Ek ek shabd sach hai aapki iss post ka :)

    ReplyDelete
  45. समीक्षा और आलेख का परस्पर लोप गया लगता है इस पोस्ट में .बुरे भले ही चांदी कूट रहें हो लेकिन आंतरिक सौन्दर्य से शून्य हैं और रहेंगे .

    ReplyDelete
  46. अच्छाई धारण करने के लिये अत्यधिक सहन शक्ति चाहिये, जो अच्छे लोगों में होती भी है, युधिष्ठिर में थी। जब यही सहनशक्ति अन्याय सहन करने में लगायी जाती है, तो अच्छाई की मात्रा हर ओर से सिकुड़ने लगती है, बुराई अनियन्त्रित सी फैल जाती है, दुर्योधन की तरह। कोई कृष्ण तब बताता है कि क्या किया जाये और कैसे किया जाये, जिससे अच्छाई बची रहे।
    सहमत आपके निष्कर्ष से .

    ReplyDelete
  47. अच्‍छाई और कठिनाई, दृष्टिकोण के साथ बदल भी जाती है.

    ReplyDelete
  48. अच्‍छाई में लाख कठिनाईयां हो, अभावों भरा जीवन हो, बुराईयां अनवरत अपनी मंशाओं में सफल रहती हो। किन्तु अच्‍छाई के पक्ष में एक सबूत ही काफी है कि अभावों, कठिनाईयों, प्रलोभन और विचलन के बाद भी लोग अच्‍छाई पाना चाहते है, अच्छे बनना, अच्छे के रूप में स्वीकृत होना चाहते है। अच्‍छाई पर डटे रहने में कुछ तो है कि सबकुछ सहकर भी इसकी हस्ती या आवश्यकता नहीं मिटती।

    ReplyDelete
  49. अच्छा होने पर परेशानियाँ बहुत झेलनी पड़ती है , कलियुग का सत्य यही है ... शायद प्रकृति विपरीत परिस्थितियों में रख उन्हें ही मजबूत भी बनाती है !
    गंभीर चिंतन !

    ReplyDelete
  50. जीत किसे कहते हैं ? यह जान लेना भी आवश्यक है | जब अच्छाई का साथ देने वालों और बुराई का साथ देने वालों में युद्ध हों तो जो जी गया वो जीता और जो मर गया वो हारा जैसी सोंच सही नहीं हुआ करती| बल्कि जिसका मकसद बच गया वो जीता और जिसका मकसद खत्म हों गया वो हार जाता है |
    एक युद्ध कर्बला में इमाम हुसैन और यजीद के बीच हुआ था | इमाम हुसैन के परिवार ने सत्य को बचने के लिए अपनी जान दे दी लेकिन यजीएद बेनकाब हों गया और सत्य बच गया आज भी लोग यजीद को इतना बुरा कहते हैं कि कोई यह नाम भी रखना पसंद नहीं करता और हुसैन आप को हर जगह मिल जाएंगे | जान दे के भी हुसैन ने सत्य को बचा लिया |

    ReplyDelete
  51. waht a lovely post,keep it up we supports u alot

    ReplyDelete
  52. पर यह निश्चय भी नहीं कि हर महाभारत में धर्म और सत्य की विजय ही हो।'
    और फिर कृष्ण तो महज़ युधिष्ठिर और अर्जुन के साथ ही नज़र आयेंगे.

    ReplyDelete
  53. सत्य अपने आप अधिक समय तक सुरक्षित नहीं रहता है, कोई सत्यमेव जयते का उद्घोष करने वाला होना चाहिये।

    अच्छाई और बुराई का युद्ध सदैव चलने वाला है, जरूरत है सम्हल के चलने की.

    ReplyDelete
  54. भौतिक सुविधा ना मिली,मिले नहीं उत्कर्ष
    लेकिन इनसे कीमती , मिला हृदय को हर्ष
    मिला हृदय को हर्ष , सदा कीजे अच्छाई
    "फल पाने की चाह" ,यही होती दुखदाई
    पाकर गीता ज्ञान , मिटी अर्जुन की दुविधा
    क्या सुख का पर्याय,सिर्फ है भौतिक सुविधा ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. अतिसुन्दर, साधुवाद!!

      Delete
  55. सत्यमेव जयते !
    आज ही प्रवास के लिए क्या पढ़े करके किताबे DW कर रही थी, चलिए इसे अपनी झोली मे भर लेते है.

    ReplyDelete
  56. यह पोस्ट तो अच्छी है ही।

    ReplyDelete
  57. .आप की पोस्टें ज्ञान बड़ाने के लिए हैं
    हम जैसों की टिप्पणी पाने के लिए नही!
    खुश रहें!

    ReplyDelete
  58. सत्य की जीत होती है या जिसकी जीत होती है सत्य उसका होता है? शायद यही यक्ष प्रश्न है?

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. दोनों अन्योन्याश्रित हैं!

      Delete
  59. पाण्डे जी
    मूर्धन्य साहित्यकार प्रताप नारायण मिश्र सरीखी धारदार रचना.इन विषयों पर लिखना आसान नहीं होता लेकिन बहुत बेबाकी से इतिहास के प्रसंगों से गुज़रते हुए आपने अच्छा लेख लिखा है
    बहुत बहुत साधुवाद

    ReplyDelete
  60. बुरा व्यक्ति अर्थात बुराइयों से भरा व्यक्ति कभी सुखी नहीं हो सकता. जैसे ही हमारे मन में बुरे भाव या विचार आते हैं हम अपनी स्वाभाविकता और शांति खो देते हैं. बुरे व्यक्ति के पास भौतिक संपदा हो सकती है, लेकिन सुख से उसका कोई लेना देना नहीं.इसी सम्पदा को देखकर कई बार हम मान लेते है की यह तो सुखी होगा ही.
    लेख में अच्छाई और सत्य की अच्छी विवेचना है.

    ReplyDelete
  61. हमारे ग्रंथों में ...जो कुछ भी घटित हुआ है ...किसी उद्देश्य के तहत हुआ है .....कृष्ण को भी कलयुग आने से पहले, इस पृथ्वी को दिव्य पुरुषों से विहीन करना था .....इसी वजह से महाभारत का युद्ध हुआ ...जिस में हर महारथी को दूसरे के समक्ष खड़ा कर दिया गया .....इस में उन्हें साम दाम दंड भेद सभी का प्रयोग करना पड़ा .....छल किसी उद्देश्य से ही किया गया ...किसी बुरी नियत से नहीं .....

    ReplyDelete
  62. Conflict of being good n bad..
    measuring its merits and demerits.. . Road of goodness isn't easy, but its cosy in long term :)

    ReplyDelete
  63. कभी कभी सत्य को बचाने के लिए भी चल का सहारा लेना ही पड़ता है जैसे महाभारत में लिया गया था इसलिए अच्छे या यूं कहें की सादे सरल लोगों को कठिनाइयों का सामना ज्यादा करना पड़ता है मगर अंतः जीत सच की होती है।

    ReplyDelete
  64. बुरे लोगों को आखिर में मिलती है तिहाड़ भले वह मंत्री पद बरसों हथियाए रहें हों यहाँ तो प्रधान मंत्री भी जेल की हवा खाए थे .

    ReplyDelete
  65. सच और झूठ की जंग शास्वत है....अपने अन्दर भी चलती है ..... इस से हर कोई छुटकारा नहीं पा सकता...

    ReplyDelete
  66. Anonymous26/6/12 09:33

    It’s nice to be a friend with you.
    But may give you somethings special.
    You should to try it. It’s free, friends.
    HERE

    ReplyDelete
  67. chain se sone ke liye aatma ke drpan me achchha hona behad jroori hai . bhut km aise log hote hai jinhe ye beshkeemti neend nseeb hoti hai .

    ReplyDelete
  68. हम भी आजकल इसी समस्‍या के चिन्‍तन में है।

    ReplyDelete
  69. सत्य की राह आसान नहीं होती, लेकिन इसी वजह से इस राह को छोड़ा नहीं जा सकता...सत्यमेव जयते, आज नहीं तो कल यही आशा और विश्वास है...बहुत गहन और सार्थक चिंतन...

    ReplyDelete
  70. Wonderful post....sochne par majboor kiya....Gurucharan Das jee ki yah book bhi padhne kii koshish karunga.

    ReplyDelete
  71. Gambhir aur sarthak vishleshan kiya hai.

    ReplyDelete
  72. "अच्छाई धारण करने के लिये अत्यधिक सहन शक्ति चाहिये, जो अच्छे लोगों में होती भी है, युधिष्ठिर में थी। जब यही सहनशक्ति अन्याय सहन करने में लगायी जाती है, तो अच्छाई की मात्रा हर ओर से सिकुड़ने लगती है, बुराई अनियन्त्रित सी फैल जाती है, दुर्योधन की तरह। कोई कृष्ण तब बताता है कि क्या किया जाये और कैसे किया जाये, जिससे अच्छाई बची रहे।"

    अति सुन्दर विचार. प्रणाम.

    ReplyDelete
  73. एटलस श्रग्ड हाल ही में दुबारा पढी । िसीसे आपकी बात से रिलेट करना आसान होगया । पर ितना अति इन्डिविजुअलिज्म भी अछ्चा नही होता । बुराई को इतना ताकतवर ना होने दो किवह अचचाई को मिटा कर दम ले और अंततः सब कुछ ही नष्ट हो जा.े ।

    ReplyDelete