13.6.12

इमामबाड़े से व्यक्तित्व

यह तो सुना था कि भवनों के नाम महापुरुषों के नाम पर रखे जाते हैं। सही भी है, निर्जीव भवनों को इसी बहाने कोई नाम मिल जाता है, महापुरुषों का नाम मिल जाता है, उनका जीवन बस इसी बात से धन्य हो जाता है। पहचान के लिये नाम आवश्यक भी होता है, बिना नाम अनाथ जैसा लगता होगा, निर्जीव भवनों को।

दो उद्देश्य रहते होंगे, नाम रखने के। पहला, यह जताने के लिये कि किसने उसका निर्माण कराया, सम्पन्नता को अनाम रखना सच में कितना कठिन कार्य रहा है, सदियों से। दूसरा, भवन के सहारे ही सही पर स्वयं को अमरत्व प्रदान कराने के लिये भी नामकरण होता होगा, सही भी है क्योंकि भवन मानवों से कहीं अधिक जीते हैं। जब कभी औरों को प्रसन्न करना अधिक आवश्यक होता है तो भवन आदि का नामकरण एक विशेष उद्देश्य सिद्ध करने लगता है। भवन के साथ साथ नगर के मार्ग, चौराहे, उपवन, पुल आदि किसी न किसी का नाम ग्रहण करने को उतावले रहते हैं, सत्तासीनों की सुविधानुसार। बेनामों और बेजानों के नामकरण के बाद उस महापुरुष के गुण उसके निर्जीव वातावरण को जीवन्त कर देते होंगे। तब सड़कों में चलने वालों में और भवनों में रहने वालों में चरित्र उत्थान और व्यक्तित्व निर्माण की पूर्ण संभावनायें बनी रहती होंगी।

संक्षिप्त में कहा जाये तो अभी तक भवनों को औरों से प्रभावित होते ही देखा है, औरों को नाम ग्रहण करते ही सुना है। ऐसा नहीं है कि भवनों में कोई विशेष गुण नहीं होता है, कुछ गिने चुने भवनों में ही वह गुण होता है जो विशेषण के रूप में प्रयुक्त किया जा सके। ताजमहल का सौन्दर्य, पीसा की मीनार का तिरछापन आदि विशेष गुण हो सकते हैं और उनका हम उपयोग भी कर सकते हैं।

सब कह रहे हैं कि अर्थव्यवस्था मन्दिया रही है। लग भी रहा है, डालर फूल रहा है, रुपया सिकुड़ रहा है। अर्थव्यवस्था की जटिलतायें हमको समझ में नहीं आती हैं, जैसा लोग समझाते हैं, हम समझ जाते हैं। सुना था कि बहुत समय पहले जब लखनऊ में अकाल पड़ा था, किसी को कोई काम नहीं था, तब सभ्रांत समाज को रात के समय कार्य करने का अवसर देकर वहाँ के नवाब ने न केवल उनका जीवन बचाया वरन इमामबाड़ा जैसा बड़ा भवन निर्मित करवा दिया।

जिनको ज्ञात न हो, उन्हें बताते चलें कि इमामबाड़ा अपने भूलभुलैया के लिये बहुत प्रसिद्ध है। गलियारों का जाल और ४८९ एक जैसे दरवाजों का होना ही भूलभुलैये का प्रमुख कारण है। न भूलने की ठान ली थी तो उस भवन के निर्माण को समझना आवश्यक हो गया था। भूलभुलैया को उसके निर्माण से पृथक रख कर देखना ही उसमें भटक जाने का प्रमुख कारण है। जो लोग गये होंगे वहाँ, उन्हें यह याद होगा कि भूलभुलैया प्रथम खण्ड में जाकर प्रारम्भ होता है, तीन परतों में ऊपर नीचे गलियारों, सीढ़ियों और दरवाजों की भटकन और सबसे ऊपर एक सपाट छत।

इमामबाड़े का वास्तु और स्थापत्य कौशल तब समझ में आया जब ऊपर से नीचे के विशालकाय हॉल में झाँका। न कोई खम्भा, न कोई बीम, न कोई सरिया, और ऊपर स्थित वृहदतम अर्धबेलनाकार छत, मेहराब शैली का निर्माण। गजब की कलाकारी है, सरल भाषा में समझा जाये तो एक विशाल भवन के ऊपर तीन मंजिला छप्पर। अब छप्पर पूरा ठोस तो बनाया नहीं जा सकता था, उसका भार इतना अधिक हो जाता कि वह स्वयं सहारा देने में विफल हो जाता। संभवतः इसीलिये उसे खोखला बनाया गया होगा, खोखले में गलियारों की दीवारों का प्रयोग नीचे की अर्धबेलनाकार छत और ऊपर की सपाट छत के बीच सततता बनाये रखने के लिये, सीढ़ियों का प्रयोग मेहराब के रूप में, और द्वारों का प्रयोग पूरे आकार को आपस में जोड़ने के लिये किया गया होगा।

इमामबाड़े जैसे भवनों का मर्म कहीं और छिपा है और हम उसके भूलभुलैये में खो जाते हैं। मर्म अन्दर छिपा होता है और हम आवरण में उलझ जाते हैं। जो दीवारें भार सहन करती हैं, उनसे अधिक महत्व भटकाने वाली दीवारों को मिलता है। मेहराबदार स्थापत्य का अद्भुत उदाहरण, रात में अपनी जीविका के लिये कार्य करने वालों की कहानी बन जाता है। यह आपाधापी या व्यर्थ में बहाये हुये श्रम का उदाहरण नहीं, वरन उन्नत योजनानुसार क्रियान्वित भवननिर्माण का उदाहरण है। इसके निर्माण की वैज्ञानिक प्रक्रिया और संबन्धित तथ्य निश्चय ही इतिहास के किसी भूलभुलैया में पड़े अपने बचावदल की राह देख रहे होंगे।

जो बड़े भवनों का सच है, वही सच बड़े महापुरुषों का भी है। उनकी उपाधियों, जीवनी, कार्यों आदि के आवरण के अन्दर छिपे भाव कभी उद्घाटित और स्थापित किये जाने के प्रयास ही नहीं किये जाते। बाहरी भूलभुलैया हमें इतना उलझा देता है कि हम यह भी याद नहीं रख पाते हैं कि मर्म में क्या है, नीचे का बड़ा हॉल जहाँ सबके लिये पर्याप्त स्थान है, समुचित और सुरक्षित स्थान।

शताब्दियाँ बीत गयी हैं, हम महापुरुषों का नाम भवनों को देते आये हैं। आज हम अपनी क्षुद्र समझ से अपने महापुरुषों के व्यक्तित्वों को इमामबाड़ा का स्वरूप देने में लगे हैं, मर्म कम, भूलभुलैया अधिक। गलियारों में भटकते भटकते कभी तो नीचे झाँकना होगा, और समझना होगा कि हम सब एक बड़े आकार के चारों ओर खड़े हैं, एक ही भवन में और एक साथ।

65 comments:

  1. इमामबाड़े के बारे में नई जानकारियां मिलीं.बड़े लोगों को समझने में हम कहाँ उलझे रहते हैं यह भी इस बहाने बता दिया आपने |
    .....कई बार हम कुछ चीजों को तभी समझते हैं जब इसी तरह से साक्षात्कार होता है !

    ReplyDelete
  2. bahut hi acchi post .. padhte samay , wahi jaa pahuncha.. kabhi dekhunga jarur.
    shukriya

    ReplyDelete
  3. बेहद रोचक शैली में ,भवन निर्माण व उनके अंतस का मर्म ,बनानेवालों की दूरदृष्टि का विश्लेषण,संक्षिप्त में बृहद अर्थ देता हुआ सुन्दर आलेख ...शुभकामनायें जी पांडे साहब /

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर.

    भवन निर्माण भूल भूलैया और महापुरुषों का जीवन
    बहुत अच्छा विश्लेषण प्रस्तुत किया है आपने.

    ReplyDelete
  5. इतनी गहराई से अगर कोई करे/सोचे/देखे/लिखे/तो नाम तो अमर होना ही है/काम भी अमर होना ही चाहिये....

    ReplyDelete
  6. इमामबाड़े पर बहुत ही खूबसूरत आलेख.. आपको पता है लखनऊ के रेलवे स्टेशन को चारबाग कहा जाता है.. और यह चारबाग शैली बाबर ने डेवलप करवाई थी.. इस शैली की ख़ास बात यह थी... कि इस में चार मीनारें होतीं हैं जो की देखने में छह दिखाई देंगी.. यह दुश्मनों को धोखा देने के लिए थी.. और इस शैली में अन्दर की आवाज़ बाहर नहीं जाती है...आज भी लखनऊ रेलवे स्टेशन में ट्रेनों की आवाज़ बाहर नहीं आती है.. जबकि ट्रेन की आवाज़ कितनी ज्यादा होती है हम सबको पता है.. उसी तरह इमामबाड़े में भूलभूलैया भी उसी शैली में बनाये गए हैं.. भूलभूलैया में भी आवाज़ सिर्फ भरमाने के लिए बाहर से आती है...अन्दर की आवाज़ बाहर जाती ही नहीं है.. इसी बेस पर हैदराबाद का गोलकोंडा किला भी है.. लेकिन उसमें वायरलेस टेक्निक का यूज़ किया है.. जो कि उस ज़माने में बहुत ही अनोखी बात थी. आपका आलेख बहुत अच्छा लगा..

    ReplyDelete
  7. पुराने भवन हमें यह दर्शाते हैं की भले ही तब विज्ञानं का विकास न हुआ हो , लेकिन इन्सान की बुद्धि तब भी पूर्णतया विकसित थी . इसके अनेक उदाहरण मिलते हैं जैसे भवन को ठंडा रखने के लिए वाटर चैनल्स बनाना, खोखली दीवारों में बहता पानी आदि. निर्माण के लिए उपलब्ध सामग्री और तकनीक का बेहतरीन इस्तेमाल किया जाता था .
    पूरा मानव विकास ही आश्चर्यचकित करने वाला है .

    ReplyDelete
  8. यही तो झलक है हमारे संस्कृति की - बहुत अच्छा आलेख !

    ReplyDelete
  9. दूसरे अंदाज में इन महापुरुषों की तुलना इमामबाड़े से इस रूप में भी की जा सकती है कि बाहर से शानदार , अन्दर भूल बुलैया और ऊपर से झांको तो नीचे पूरा खोखला :)

    ReplyDelete
  10. अपनी पहचान हुई भूलभुलैया

    ReplyDelete
  11. रहीम खानखाना ने कहा था "जिन्दगी एक पुल है, इसपर से गुजर जाइए। इसपर घर बनाने की कोशिश मत कीजिये।" इस पुल पर घर कितना ही पक्का क्यों न हो, चिरस्थायी नहीं हो सकता। आदमी मकान और इमारतों की शक्ल में ही सही, लम्बा जीना चाहता है और खुद के एक दिन खाक होने की बात पचा नहीं पाता।

    ReplyDelete
  12. हम उसके भूलभुलैये में खो जाते हैं ... बिल्‍कुल जैसे आपके लेखन की सशक्‍तता ... आभार

    ReplyDelete
  13. भूल भुलैया से जुडी एक कहावत सुनाई थी गाइड ने "जिसको ना दे मौला उसको दे असुफोदौला " .

    ReplyDelete
  14. 'मर्म अन्दर छिपा होता है और हम आवरण में उलझ जाते हैं।'
    गहन आलेख!

    ReplyDelete
  15. आज हम अपनी क्षुद्र समझ से अपने महापुरुषों के व्यक्तित्वों को इमामबाड़ा का स्वरूप देने में लगे हैं, मर्म कम, भूलभुलैया अधिक। गलियारों में भटकते भटकते कभी तो नीचे झाँकना होगा, और समझना होगा कि हम सब एक बड़े आकार के चारों ओर खड़े हैं, एक ही भवन में और एक साथ।

    व्यक्तित्व की इमामबाड़े से तुलना सटीक लगी .... इसकी भूलभुलइयाँ से बचना है तो बस जहां भी सीढ़ी दिखे ऊपर को चढ़ते जाएँ .... और अंत में मिल जाएगी सपाट छत .... जिसकी सीढ़ियों से उतर इमामबाड़े से बाहर आया जा सकता है .... इसी तरह अपने व्यक्तित्व को भी ऊंचा उठाना होगा ..... बढ़िया पोस्ट

    ReplyDelete
  16. इमामबाड़े पर बहुत ही खूबसूरत आलेख.. महत्वपूर्ण जानकारी .....

    ReplyDelete
  17. समग्र दृष्टि से निष्कर्ष बड़ा ही कठिन कार्य, किन्तु भूलभुलैया का अन्तिम यथार्थ होता है।

    ReplyDelete
  18. @मर्म कम, भूलभुलैया अधिक..

    सत्य है, मर्म को समझने पर ही धर्म की व्याख्या हो सकती है.

    ReplyDelete
  19. thik hi kaha gaya hai, ki khandhar se mahlo ki ronak ka pata chalta hai,ye to abhi jiwit hai,,,,,,,,

    ReplyDelete
  20. इसके निर्माण की वैज्ञानिक प्रक्रिया और संबन्धित तथ्य निश्चय ही इतिहास के किसी भूलभुलैया में पड़े अपने बचावदल की राह देख रहे होंगे।

    बहुत ही सुंदर प्रस्तुति,,,इमामबाड़े पर बेहतरीन नई जानकारी देता आलेख,,,,,

    \

    ReplyDelete
  21. जो बड़े भवनों का सच है, वही सच बड़े महापुरुषों का भी है। उनकी उपाधियों, जीवनी, कार्यों आदि के आवरण के अन्दर छिपे भाव कभी उद्घाटित और स्थापित किये जाने के प्रयास ही नहीं किये जाते। बाहरी भूलभुलैया हमें इतना उलझा देता है कि हम यह भी याद नहीं रख पाते हैं कि मर्म में क्या है, नीचे का बड़ा हॉल जहाँ सबके लिये पर्याप्त स्थान है, समुचित और सुरक्षित स्थान।
    jai baba banaras....

    ReplyDelete
  22. शिल्पकला और विज्ञानं का नमूना है इमामबाड़ा ... आपने इसको जीवन दर्शन से जोड़ के नया आयाम दे दिया है ...

    ReplyDelete
  23. रोचक और दिलचस्प...

    ReplyDelete
  24. ऐतिहासिक महत्व के स्थापत्य कला पर आधिनिक संदर्भ की सोंधी सुगंध में आपने जो प्रस्तुत किया वह बड़ा ही मन भावन और विचारों को स्पंदित करने वाला था।

    ReplyDelete
  25. बहुत बढ़िया लिखा है ...
    बहुत पुरानी यादें आ गयीं ..

    ReplyDelete
  26. सर जी इसे मैंने देखा है और बिना किसी के मदद लिए गलियारे का चक्कर लगा चूका हूँ ! इस पोस्ट की आखिरी वाक्य बेहद महत्त्व रखती है !

    ReplyDelete
  27. ऐतहासिक धरोहर,इमामबाडे पर,सुंदर आलेख,साथ ही महापुरुषों का व्यक्तित्व की जो समीक्षा, निम्न
    पंक्तियों में की है,सटीक बन पडी है,’ आज हम अपनी क्षुद्र समझ से अपने महापुरुषों के व्यक्तित्व को इमामबाडा का स्वरूप देने में लगे हैं---’

    ReplyDelete
  28. इमामबाड़े जैसे भवनों का मर्म कहीं और छिपा है और हम उसके भूलभुलैये में खो जाते हैं। मर्म अन्दर छिपा होता है और हम आवरण में उलझ जाते हैं।

    गहरी बात लिखी है ...विचार और दर्शन से भरा गहन आलेख ...!!

    ReplyDelete
  29. भवनों को नाम दिए जाने पर उनका जीवन सार्थक होना..और फिर एक भवन की वास्तु कला का परिचय देते हुए आज के समय में भटके लोगों की अपरिपक्व या सतही समझ को इस मुद्दे से जोड़ना पोस्ट को दार्शनिक रूप भी दे रहा है.

    ReplyDelete
  30. बहुत ही रोचक ...

    ReplyDelete
  31. गलियारों में भटकते भटकते कभी तो नीचे झाँकना होगा, और समझना होगा कि हम सब एक बड़े आकार के चारों ओर खड़े हैं, एक ही भवन में और एक साथ। बहुत सही कहा आपने यही तो सच है मगर हम देख ही नहीं पाते सटीक बात कहती सार्थक रचना....

    ReplyDelete
  32. बहुत सही कहा आपने-ज्यादातर मनुष्य का जीवन सचमुच इमामबाड़ा सरीखा सा ही है

    ReplyDelete
  33. देखा तो कई बार ये इमामबाड़ा पर समझ में अभी आया जब आपने समझाया.

    ReplyDelete
  34. ठीक कहते हैं आप।

    ReplyDelete
  35. रोचक , हम एक बार फिर पूरी स्थापत्य कला में खोखलेपन की संरचना और खोखली सोच और व्यक्तित्व को तोलने लगे है ,

    ReplyDelete
  36. महत्वपूर्ण जानकारी इमामबाड़े पर बहुत ही खूबसूरत आलेख.......

    ReplyDelete
  37. बहुत ही रोचक एवं महत्वपूर्ण जानकारी ... सुन्दर आलेख..आभार

    ReplyDelete
  38. आपकी पोस्ट कल 14/6/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा - 902 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  39. इमामबाड़े जैसे भवनों का मर्म कहीं और छिपा है और हम उसके भूलभुलैये में खो जाते हैं। रोचक जानकारी। कोटी-कोटी नमन।

    ReplyDelete
  40. बहुत सुंदर आलेख.

    इमामबाड़े का निर्माण भीषण अकाल से निबटने के लिये एक प्रयास था जिसका निर्माण लगभग दस साल से अधिक चला था. यह भी कहा जाता है दिन में गरीब तबके के लोग उसे बनाते थे और जो सम्मानित व्यक्ति थे वह रात में काम करते थे उसे तोडने का और उनको उसे तोडने के लिये भी मजदूरी दी जाती थी. कोशिश यही थी कि काम अधिक समय तक चलता रहे.

    ReplyDelete
  41. बहुत पते की बातें कह दीं आपने- एक इमारत के बहाने !

    ReplyDelete
  42. आज हम अपनी क्षुद्र समझ से अपने महापुरुषों के व्यक्तित्वों को इमामबाड़ा का स्वरूप देने में लगे हैं, मर्म कम, भूलभुलैया अधिक। गलियारों में भटकते भटकते कभी तो नीचे झाँकना होगा, और समझना होगा कि हम सब एक बड़े आकार के चारों ओर खड़े हैं, एक ही भवन में और एक साथ।

    बहुत सार्थक लेख..... आपकी वैचारिक अभिव्यक्ति से पूरी तरह सहमत

    ReplyDelete
  43. Was totally unaware of this!! thanks for sharing :)

    ReplyDelete
  44. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 14-06-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... ये धुआँ सा कहाँ से उठता है .

    ReplyDelete
  45. बहुत बढ़िया विश्लेषण

    ReplyDelete
  46. ऐसी ईमारतों की तरह ही हम लोग दूसरों के व्यक्तित्व को अपने अपने नजरिये से देखते हैं, और प्रायः सब अपनी अपनी जगह अंशतः सही होते हैं|

    ReplyDelete
  47. इमामबाड़े की स्थापत्य कला पर बहुत रोचक आलेख....

    ReplyDelete
  48. अर्थ गर्भित विश्लेषण प्रधान बढ़िया प्रस्तुति भाई साहब ,आदाब .

    ReplyDelete
  49. सभी विषय एक दूसरे से एकदम गूँथे हुये...
    इमाम बाड़ा की अच्छी जानकारी प्राप्त हो गई इस सुंदर पोस्ट से....
    सादर आभार।

    ReplyDelete
  50. बहुत रोचक अंदाज़ मे अपनी बात कही है सर!
    इमाम बाड़े के बारे मे भी अच्छी जानकारी मिली।

    सादर

    ReplyDelete
  51. इस भूल भुलए में जीवन का सही मर्म भी है और उद्देश्य भी।

    ReplyDelete
  52. imambade ki bhoobhulaiya me bahut hi marmik, gehen chintan ki baat kah di....sach hai ham upar upar ka dekh kar bhatak jate hain bheetar tak to pahunch hi nahi pate.

    ReplyDelete
  53. Your posts are always interesting and teach us something.

    ReplyDelete
  54. गलियारों में भटकते भटकते कभी तो नीचे झाँकना होगा, और समझना होगा कि हम सब एक बड़े आकार के चारों ओर खड़े हैं, एक ही भवन में और एक साथ। ....So true...

    .

    ReplyDelete
  55. आप के पोस्ट तो कमाल के होते है प्रवीण जी

    ReplyDelete
  56. vaastu kalaa kaa apratim namunaa hai imaam baadaa .shukriyaa behatreen chhaayaankan se saji post ke lie .

    ReplyDelete
  57. वास्तु कला का अप्रतिम नमूना है इमाम बादा .शुक्रिया बेहतरीन छायांकन से सजी पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  58. imambaade ke baare me bahut hi sundar v rochak jaankaari di aapne .
    bahut hi sarthak prastuti
    aabhaar
    poonam

    ReplyDelete
  59. अद्धभुत आलेख ..इमामबाड़े की जानकारी ...मेरे लिए तो नई हैं ...इसके लिए आभार

    ReplyDelete
  60. अच्छी जानकारी देती पोस्ट |
    आशा

    ReplyDelete
  61. इमामबाड़े की जानकारी के साथ महापुरुषों से उसकी तुलना लाजवाब है . सचमुच विराट व्यक्तित्व या भवनों की भूल भुलैया में खोये लोंग आधार और नींव को भूला देते हैं !

    ReplyDelete
  62. behavior can be affected n manipulated by so many things..
    nice read as ever !!!

    ReplyDelete
  63. ऐतिहासिक इमामबाड़े के बारे में रोचक जानकारी. इमामबाड़े के बहाने आपने जीवन के मर्म को छुआ.

    ReplyDelete
  64. नीचे झाँकने पर बहुत कुछ दिख जाता है तो फिर क्यों न खोखलापन लिए आसमान निहारा जाए...

    ReplyDelete