21.5.11

डायरी का जीवन

बहुत दिन हो गये, डायरी नहीं लिखी। ऐसा नहीं है कि जीवन में कुछ घट नहीं रहा है, ऐसा भी नहीं है कि मैं लिख नहीं रहा हूँ, पर पता नहीं क्यों डायरी नहीं लिख पा रहा हूँ। डायरी लिखना एक अत्यन्त अनुशासनात्मक कार्य है और बहुधा अनुशासन अवसर पाते ही सरक लिया करता है जीवन से। मन में बहुत कुछ चलता रहता है, बहुत ही व्यक्तिगत, साधारणतया बाहर आता ही नहीं है, सार्वजनिक लेखन में तो कभी भी नहीं। डायरी ही एक ऐसा माध्यम है जिसमें आप अपने व्यक्तिगत क्षणों को उतार सकते हैं और वह भी निःसंकोच। बहुत बार जब डायरी में औपचारिक होने लगता हूँ तो स्वयं पर हँसता हूँ, लगता है किसी और के लिये लिख रहा हूँ, किसी नाटक में किसी और पात्र को जी रहा हूँ। स्वयं को स्वयं समझ स्वयं के लिये लिख लेना ही डायरी लेखन है।

डायरी लिखने का एक और लाभ होता है, स्वयं से पारदर्शिता। जब औपचारिकताओं को न बता कर गहरी बातों को करना हो तो व्यक्ति स्वयं से निश्छल रहता है। विवशताओं के बीच उसे एक ठौर मिलता है मन को व्यक्त करने का। जीवन में विवशताओं का विष न चढ़े इसके लिये आवश्यक है कि वह निकलता रहे किसी न किसी माध्यम से। इस कार्य के लिये डायरी से अधिक आत्मीय क्या और हो सकता है भला?

अपनी लिखी हुयी डायरी के पृष्ठों को पुनः पढ़ना एक विशेष अनुभव है। आपके वास्तविक जीवन का जो प्रक्षेप होता है उससे नितान्त अलग दिखता है डायरी में व्यतीत किया हुआ जीवन। आप यह मानकर तो चलिये कि यदि किसी के मन में अपने जीवन का सत्य सहेजकर रखने का संकल्प है तो वह सत्य को बचाकर रखना चाहेगा, अपनी सुरक्षा के लिये या अपने विकास के लिये। मुझे अपने जीवन के व अपनी डायरी के तटों में बहुत अधिक निकटता दिखायी पड़ती है, पतली सी धारा में बहता निश्चित सा जीवन। बहुत महापुरुष ऐसे हैं जिनकी डायरी को पढ़ना न केवल रुचिकर रहता है वरन उसमें रहस्यों के उद्घाटन की विशेष संभावनायें बन जाती हैं। विकीलीक्स जैसा विस्फोटक कुछ भी न हो पर फिर भी बहुत कुछ ऐसा निकल आता है जिस पर चर्चाओं का बवंडर मचा ही रहता है, बहुत दिनों तक।

मैं यही सोचता हूँ कि कभी मेरी डायरी इस तरह अपने रहस्य खोलेगी तो कितना बवाल मचेगा? जीवन जब सपाट राह में भाग रहा हो तो इस संदर्भ में बहुत अधिक संभावना नहीं है कि कुछ रोचक मिलेगा। मर्यादावश जिन भावों को मन में छिपाना पड़ा है, बस वही निकलने को उतावले होंगे। बहुधा मन मानता नहीं है बिना अपनी बात कहे। किसी तरह उसको मना कर उसका पक्ष ही डायरी में लिखना पड़ता है। यद्यपि डायरी में लिख लेने भर से पूरा द्वन्द शमित नहीं हो पाता है पर एक सन्तोष बना रहता है कि मन और मर्यादा को समान अवसर दिया गया।

डायरी लेखन किसी संभावित निष्कर्ष को ध्यान में रख कर नहीं होता है, पर उसमें विस्फोट की संभानायें बनी रहती हैं। कुछ भी हो, आपबीती को औरों के दृष्टिकोण से न देखकर स्वयं से बतियाने का एक सशक्त माध्यम हो सकता है डायरी लेखन। स्वयं से बतियाना, अपने अन्दर देखना, अपनी क्षमताओं को स्वयं आकना और आत्म-साक्षात्कार का एक सशक्त माध्यम हो सकता है डायरी लेखन। दिन में कुछ पल सच के बीच बिताने का माध्यम हो सकता है डायरी लेखन। स्वयं को समझाने और मनाने का माध्यम हो सकता है डायरी लेखन।

डायरी का जीवन हृदय के निकटतम होता है।

72 comments:

  1. @मैं यही सोचता हूँ कि कभी मेरी डायरी इस तरह अपने रहस्य खोलेगी तो कितना बवाल मचेगा?
    @डायरी लेखन किसी संभावित निष्कर्ष को ध्यान में रख कर नहीं होता है

    इन्हीं खतरों के चलते बहुत से लोग डायरी नहीं लिख पाते हैं और लिखते हैं तो अपने बारे में "वाह वाह" ही लिखते हैं। वैसे अब तो इस उद्देश्य के लिये भी ब्लॉग का प्रयोग किया जा सकता है।

    ReplyDelete
  2. लिखने-कहने की बातें तो लगभग वही होती हैं, लेकिन माध्‍यम और अवसर के मुताबिक अभिव्‍यक्ति का ढंग बदल जाता है.
    एक बुजुर्गवार की डायरी पढ़ने मिली थी, उसमें जहां काट-छोट था वहां काउन्‍टर साइन भी किया गया था.

    ReplyDelete
  3. लिखने-कहने की बातें तो लगभग वही होती हैं, लेकिन माध्‍यम और अवसर के मुताबिक अभिव्‍यक्ति का ढंग बदल जाता है.
    एक बुजुर्गवार की डायरी पढ़ने मिली थी, उसमें काट-छोट पर काउन्‍टर साइन किया गया था.

    ReplyDelete
  4. डायरी रहस्योद्घाटन करे न करे पर स्वयं को मूल्यांकित करने के अवसर अवश्य प्रदान करती है. हाँ, कुछ अवसरों पर यह रहस्योद्घाटन का खतरा भी बरकरार रखती है

    ReplyDelete
  5. दिन में कुछ पल सच के बीच बिताने का माध्यम हो सकता है डायरी लेखन। स्वयं को समझाने और मनाने का माध्यम हो सकता है डायरी लेखन।

    डायरी का जीवन हृदय के निकटतम होता है।

    बहुत अच्छा लिखा है |सच्चाई अपना मार्ग चाह रही है -
    लिखते रहिये मार्ग मिल ही जायेगा ...!!

    ReplyDelete
  6. "बहुत बार जब डायरी में औपचारिक होने लगता हूँ तो स्वयं पर हँसता हूँ,"

    यही तो ...इसलिए मैंने भी लांग बैक डायरी लेखन को तिलांजलि देदी ...
    यह आन लाईन डायरी तो है न ?
    मगर अनौपचारिक डायरी लिखने के लिए गांधी का नैतिक साहस जुटाना होगा !
    सत्य से साक्षात्कार करना होगा !

    ReplyDelete
  7. कोई स्थान तो मिले जहाँ वो ही लिखा जाय जो मन में है..... बिना किसी औपचारिकता के...... ऐसा तो डायरी लेखन में ही हो सकता है..... फिर भले ही आगे चलकर रहस्योद्घाटन का डर ही क्यों न हो.....

    ReplyDelete
  8. @मैं यही सोचता हूँ कि कभी मेरी डायरी इस तरह अपने रहस्य खोलेगी तो कितना बवाल मचेगा?

    डायरी लिखने वाला हर व्यक्ति ये बात जनता है ,ऐसी बात जो बवंडर खड़ा कर सकती है अपने बारे में तो कोई नहीं लिखता ,अनजाने में लिख जाये तो बात अलग है | डायरी में आजतक तक लोगों ने दूसरों के ही रहस्य खोले अपने नहीं ,यदि अपने रहस्य खोले भी है तो वे सतही है गंभीर नहीं |

    ReplyDelete
  9. लगातार ११ वर्षों तक डायरी लिखता रहा हूं , पिछले दो वर्षों से लगभग छूट सी गई है । लगता है आप फ़िर से शुरू करवाएंगे । अरे जब इत्ता ऐसा ऐसा लिखेंगे तो भला कौन जालिम बच पाएगा । शुभकामनाएं जी ।

    ReplyDelete
  10. किसी ने कहा था कि वास्‍तविक डायरी लेखन ऐसे ही खतरों से भरा है जैसा प्रेम-पत्र लिखना।

    ReplyDelete
  11. पहले बिना नागा डायरी लिखते थे, परंतु अब ऐसा लगता है कि डायरी में हम जो भी लिखते हैं, उसे अगर किसी ने पढ़ लिया तो अपनी सारी गोपनीय चीजें उजागर हो जायेंगी और अपनी कमजोरियाँ भी हाथ लग जायेंगी। इसलिये अब लिखना बंद ही कर दिया है, यहाँ तक कि उपहार में हमें कई अच्छी अच्छी डायरी मिली हैं, पर वे हमारी अलमारी की शोभा बड़ा रही है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ इस बात से मैं भी वाकिफ हूँ। इसलिए अलग सरनेम अलग शहर और अलग राज्य के नाम से ब्लॉग बनाया हूँ। मैं कंप्यूटर का जीनियस हूँ, जानता हूँ की करोडो में मेरा ब्लॉग का मिलना और अलग नाम के बाबजूद पहचाना जाना असंभव है।

      Delete
  12. डायरी लिखना बहुत अच्छा होता है - इससे बढ़कर कोई भी सच्चा दोस्त नहीं है

    ReplyDelete
  13. स्‍वयं की खोज के लिए स्‍वयं के प्रति सच्‍चा बनना पड़ेगा।

    इसके लिए डायरी से बेहतर जगह शायद ही हो कोई।

    कुछ लोग ब्लॉगिंग को भी डायरी लेखन मानते हैं। पता नहीं।

    ReplyDelete
  14. डायरी लेखन किसी संभावित निष्कर्ष को ध्यान में रख कर नहीं होता है, पर उसमें विस्फोट की संभानायें बनी रहती हैं।

    आपकी डायरी के कुछ 'विस्फोटों 'की इंतजार कर रहें हैं प्रवीण भाई.

    ReplyDelete
  15. bilkul theek kha aapne...Praveen ji.....

    aise lga jaise mere mann ke hi vichar likh diye aapne...

    ReplyDelete
  16. डायरी स्वयं से स्वयं का साक्षात्कार कराती है ..

    रहस्योद्घाटन के साथ विस्फोट की सम्भावना काफी होती है ...पर लिखने वाले लिखते ही हैं ..

    ReplyDelete
  17. हम तो इस अनुभव और रोमांच से महरूम ही है
    शुभकामनये

    ReplyDelete
  18. आपने सही लिखा है कि बहुधा अनुशासन अवसर पाते ही सरक लिया करता है जीवन से।
    डायरी लेखन पर रोचक चर्चा की है आपने...

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छा विषय और लेख। सोच रहा हूं मैं भी लिखूं डायरी।

    ReplyDelete
  20. क्या डायरी में सब कुछ सच लिखा जा सकता है ? अन्तरंग भी !

    ReplyDelete
  21. ध्यान रखियेगा, अक्सर "डायरी" अपने स्वामी से अधिक "सशक्त" हो जाती है ।

    ReplyDelete
  22. डायरी दिल के करीब होती है इसलिए उसमे लोग दिल निकाल कर रख देते है |

    ReplyDelete
  23. डायरी लेखन के बारे में सोचते है , अभी तो खुद के प्रति इमानदार बनने की सोच रहे है .

    ReplyDelete
  24. कितने ही लेखकों की आत्मकथाएं नज़रों के सामने घूम गयीं...जिनमे उनकी 'डायरी' द्वारा हुए रहस्योद्घाटन से उन्हें मुसीबतें झेलनी पड़ीं.

    पर सबके लेखन की शुरुआत डायरी लेखन से ही होती है...यह भी सच है.

    ReplyDelete
  25. डायरी लेखन ... हमें अवगत कराती है हमारी वास्‍तविकता से ... बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ...।

    ReplyDelete
  26. ड़ायरी तो कभी मै भी लिखा करती थी मगर अब पिछले कुछ सालों से छुट गयी है………या कहिये जब से ब्लोग लेखन शुरु हुआ तब से डायरी लिखनी बन्द ही हो गयी है मगर इतना तो है कि जो हम डायरी मे लिख सकते है उसकी जगह कोई नही ले सकता।

    ReplyDelete
  27. अच्छा विषय
    डायरी लिखना बहुत अच्छा होता है

    ReplyDelete
  28. @ परवीन जी
    लोग ब्लॉगिंग को भी डायरी लेखन मानते हैं मेरा भी यही विचार है

    ReplyDelete
  29. डायरी लिखना स्वयं से पारदर्शिता तो है ... पर यदि किसी के हाथ लग जाये तो... खास कर घरवाली के... तो इतना बेबाक बनने की ज़रूरत भी क्या है... बकौल शमशेर - नहीं लिखी, तो नहीं लिखी॥

    ReplyDelete
  30. डायरी-लेखन तो अपनी अत्मा से पहचान जैसा लगता है .....रह गयी खतरों की बात तो न लिखो तब भी ,खतरों को जब भी आना होगा रास्ता खोज ही लेते हैं .......

    ReplyDelete
  31. कोई डायरी लिखे या ना लिखे पर आपका हर कर्म आपके भविष्य की डायरी लिख रहा होता है जो विष्फोटक रूप से खतरनाक व सुखद भी हो सकता है...इसलिए अपने हर कर्म में ईमानदारी भरी सावधानी आप पर निर्भर है चाहे घर हो,बाहर हो या दफ्तर ...जो लोग जीवन में संतुलित व सत्य के करीब होते हैं उनकी डायरी सुखद भविष्य की ही लिखी जाती है......

    ReplyDelete
  32. Anonymous21/5/11 18:16

    Now a days personal blogs are become the another way to express instead of writing diaries. But Dary writing remains still important.
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  33. honesty se dairy likhana saahaspoorn kadam hai...

    ReplyDelete
  34. बचपन से ही डायरी लिखते थे..मित्रों ने सीक्रेट कोड भी बताए लेकिन मम्मी के सामने काम नहीं आए..फिर भी बाज़ नहीं आए...डायरी लिखने के बाद कुछ और कहीं लिखने को रह नहीं जाता..

    ReplyDelete
  35. एक नफा देखा है डायरी का - आसानी से अतीत में उतरा जा सकता है!

    ReplyDelete
  36. डायरी लिखना बहुत अच्छी आदत है!
    --
    बहुत शानदार आलेख!

    ReplyDelete
  37. 'पत्र' और 'डायरी' को बेसिकली प्रकाशन-प्रसारण के उद्देश्य से नहीं लिखा जाना चाहिए. लेकिन आजकल ऐसा नहीं रह गया है.....और इसीलिए इन विधाओं की आत्मीयता तथा विश्वसनीयता खतरे में दिखाई देने लगी है. डायरी को बुलेटिन नहीं न होना चाहिए.

    अच्छी पोस्ट के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  38. मुझे तो यह ब्लॉग लेखन भी डायरी जैसा ही कुछ कुछ लगता है.

    ReplyDelete
  39. आपकी डायरी में उपस्थित हूँ,
    आज बस इतना ही !

    ReplyDelete
  40. दिन में कुछ पल सच के बीच बिताने का माध्यम हो सकता है डायरी लेखन। स्वयं को समझाने और मनाने का माध्यम हो सकता है डायरी लेखन।
    लेकिन काफी हिम्मत का काम है. सक्रिय स्तरीय लेखन के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  41. एक जमाना गुजरा जब नियमित डायरी लिखा करते थे...फिर तो डायरी नोटस बनाने के काम आने लगी. आज भी आ रही है, जब कुछ पढ़ता हूँ तो डायरी जरुर रखता हूँ साथ...उम्दा विचार और वाक्य उतारने के लिए...उन्हें बाद में अलग से पढ़ना...बहुत सुखकर लगता है.

    अब तो हम हैं, हमारा ब्लॉग, किताबें और नोटस बनाने के लिए डायरियाँ.....कुछ पंक्तियाँ तो आपकी भी नोट हो गई हैं. :)

    ReplyDelete
  42. स्वयं को स्वयं समझ स्वयं के लिये लिख लेना ही डायरी लेखन है।

    for me, by me, to me...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  43. जीवन के शुरुआती दिनों में डायरी-लेखन मेरा मुख्य शगल रहा.कई कविताएँ,शेर-ओ-शायरी भी लिखकर मन को हल्का किया.आत्म-संतुष्टि खूब मिली.
    अब चार-पाँच डायरियां हैं,उन्हें पलटकर पढ़ना अच्छा लगता है,कभी-कभार वहीँ से उठाकर 'पोस्ट' भी कर देता हूँ.
    आपने सही कहा है कि डायरी-जीवन हमारे सबसे करीब होता है.और हाँ,कोई तूफ़ान या बखेडा न खड़ा हो इसके लिए भाभीजी की नज़रों से ज़रा बचा के रखना !

    ReplyDelete
  44. विचार तो अच्छा लग रहा है भाई

    ReplyDelete
  45. डायरी अपने मन क दर्पण है , एक सच्चा दोस्त भी है । जो डायरी रोज लिखते है वे टेंशन में कम ही रहते हैं।

    ReplyDelete
  46. प्रवीण जी ! बहुत अच्छे विषय चुन कर गहरी मीमांसा कर लेते हैं आप.हिंदी भाषा पर आपका अधिकार देखते ही बनता है.वैसे आप हैं कहाँ के ? आपका विस्तृत परिचय मुझे अप्राप्त है.डायरी लेखन की आदत किसी उम्र में थी.अब डायरियाँ तो बहुत रहती हैं पर बाँट देता हूँ.दो मेरे पास रहती हैं पर उसमे कविताओं के सिवा कुछ लिखा नहीं रहता.Contd......

    ReplyDelete
  47. मूलत : दैनन्दिनी का लेखन अब संभव नहीं लगता.किसी उम्र में निजी जीवन के अवसादों और महत्वपूर्ण घटनाओं को डायरी में कलमबद्ध करने की आदत थी. पर अब निजी जैसा कुछ भी नहीं लगता.सारी गोपनीयता अब ओपनीयता बन चुकी है.इन सबके बावजूद डायरी लेखन की मूल अवधारणा को किसी भी युग में नकारा नहीं जा सकता.पुरानी डायरियाँ किसी "बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन" की तरह लगती हैं.

    ReplyDelete
  48. डायरी लेखन उपयोगी आदत है. लेकिन डायरी यदि निजी बातों को उजागर कर रही हो तो इसे सबसे अधिक खतरा अंतरंग लोगों से होता है.

    ReplyDelete
  49. dairy likhanaa aek bahut achchi aadat hai isme likhne se purani baaten yaad raha jaatin hain .per isme likhi hui secreat baaten agar kisi ko pataa chal jaaye to muskil bhi ho sakati hai,isiliye diary likhne ke baare main log sochten hain.parantu phir bhi diary likhnaa achchi aadat hoti hai.lekin sach likhnaa chahyie.jhoot nahi likhnaa chayie.



    please visit my blog and leave the comments also.

    ReplyDelete
  50. जो घटता है उसे लिख नहीं पाते और जो लिखते है वह घटता नहीं है इसी को तो लेखक कहते है। डायरी लिखो मगर छुपा कर रखो

    ReplyDelete
  51. मेरे लिए बहुत मुश्किल काम है ...शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  52. बहुत हिम्मत का काम है डायरी लिखना और वह भी सच लिखना . मै ऎसी हिम्मत ना जुटा पाया आज तक

    ReplyDelete
  53. Nice Topic n article Praveen bhai..Because of you I again read my old diaries and cleaned it before..The way we think about the past n the way we penned it quire different...

    Keep writing..

    ReplyDelete
  54. कहीं-कहीं कभी-कभी स्वयं के प्रति पूरी इमानदारी से किया गया यह डायरी लेखन मरणोपरांत परिवार के शेष सदस्यों के जीवन में तूफान भी ला सकता है ।

    ReplyDelete
  55. अब तो जी ब्लॉग ही सब कुछ है।

    राहुल सिंह जी का कमेंट पढ़कर मजा आ गया।

    ReplyDelete
  56. अपने मनोभाव और जीवन का सच दोनों ही डायरी में उजागर होते हैं अगर पूरी तरह से सच है तो समय के साथ बहुत सारे रहस्यों का उद्घाटन होता है....अगर वाकई हमारा जीवन रहस्यमय है....यह खतरा तो बना रहेगा...

    ReplyDelete
  57. डायरियां जिंदगी में तूफ़ान भी ला सकती हैं , यह सोचकर लिखना पड़े तो फिर लिखने का फायदा क्या ...
    डायरी में लिखना और फिर कई वर्षों बाद उसे पढना रोचक लगता है ...कभी कभी लगता है बुरी यादों को डायरी में समेटना ठीक नहीं , जब आप दुबारा उसे पढ़ते हो तो , फिर वही दर्द !
    मगर फिर भी लिखने वाले लिखते ही हैं ...

    ReplyDelete
  58. डायरी लिखना अच्छा है अगर आप में कटुसत्य को भी लिखने की ताकत हो..

    ReplyDelete
  59. डायरी लिखना खुद को भी कटघरे में खड़ा करने वाला काम है. अगर पूरी ईमानदारी से लिखा गया तो फिर प्रश्नचिह्नों के नीचे दब जाएगी सारी अभिव्यक्ति और फिर सोचना होगा कि ऐसा क्यों लिखा? हाँ डायरी स्व-अभिव्यक्ति का अच्छा मध्यम है और दिल और दिमाग के बोझ को हल्का भी कर देती है. ये सोच कर भी डायरी लिखना बेहतर है कि आगे चलकर ये गले का फन्दा न बनजाय.
    --

    ReplyDelete
  60. डायरी इतनी निजी चीज़ है कि उसे ,ईमानदारी से लिखा जाय तो व्यक्त करने में कठिनाई भी है और खतरे भी!

    ReplyDelete
  61. writing a diary is like releasing all ur good and bad in it.
    its a very powerful tool to go bck in good times and come out of bad feelings.

    Nice post !!

    ReplyDelete
  62. डायरी लेखन सा आनंद कही नहीं प्रवीण जी,सच्ची दोस्त वाही है!!
    पर ब्लॉग्गिंग शायद इसकी जगह लेने में किसी के लिए सफल किसी क लिए विफल हो सकता है.....आपना
    अपना नजरिया है......

    ReplyDelete
  63. डायरी लेखन सा आनंद कही नहीं प्रवीण जी,सच्ची दोस्त वाही है!!
    पर ब्लॉग्गिंग शायद इसकी जगह लेने में किसी के लिए सफल किसी क लिए विफल हो सकता है.....आपना
    अपना नजरिया है......

    ReplyDelete
  64. डायरी लिखना अच्छा है अगर आप में कटुसत्य को भी लिखने की ताकत हो..

    ReplyDelete
  65. डायरी लिखने की उत्सुकता तो शायद ही कोई मन ऐसा होगा जिसमे न होगा...क्योंकि कोई मन नहीं जो खुद से नहीं बतियाता और उन एकान्तिक विचारों को किसी के साथ सांझा करने को उत्सुक न होता होगा...पर इसके संभावित खतरे ही लोगों को इसकी हिम्मत नहीं देते....

    ReplyDelete
  66. डायरी लिखने का बहुत फायदा है, एक तरह से देखा जाये तो आत्म-मंथन हो जाता है | दूसरा यह कि जब काफी समय के बाद पुराने पन्ने पढ़े जाते हैं तो एक तरह से पुराने दिन फिर से जीए जाते हैं |खुद को बढ़ते हुए महसूस किया जा सकता है डायरी से |:)
    .
    .
    .
    शिल्पा

    ReplyDelete
  67. सर डायरी लेखन पारदर्शी होनी चाहिए !

    ReplyDelete
  68. जीवन में विवशताओं का विष न चढ़े इसके लिये आवश्यक है कि वह निकलता रहे किसी न किसी माध्यम से। इस कार्य के लिये डायरी से अधिक आत्मीय क्या और हो सकता है भला
    bahut gahri aur sachchi baat kahi .dairy likhne ke kai fayde hai ,meri aadat bhi hai

    ReplyDelete
  69. सच में डायरी का जीवन हृदय के निकटतम होता है .... बहुत सुन्दर लेख

    ReplyDelete
  70. dayeri lekhan shayad aab kam hota ja raha hai aab to blog ,per hi sabh apne bhav prakat kar dete hai

    ReplyDelete
  71. उम्दा लेखन ..........

    ReplyDelete