14.5.11

हर दिल जो प्यार करेगा

अब आप बोल उठेंगे कि गाना गायेगा। कैसा विचित्र संयोग है कि पहला कवि तो वियोगी था, कविता लिख गया, अब उस कविता को गाने के लिये वही आगे आयेगा, जो प्यार करेगा। प्रकृति में यह नियम कूट कूट के घुला है कि हर प्रभाव अपने स्रोत के विरोध की दिशा में होता है।

प्रकृति की गति तो अकल्पनीय है पर संगम के राजकपूर के बारे में एक अपनापन सा लगता है, लहराता हुआ उसका एकांगी प्यार, उस प्यार का निश्छल उछाह, उसका उन्मुक्त प्रकटन, अधिकारजनित, नकार दिये जाने के संशय व भय से कोसों दूर, रुदन-युगल के ऊपर बादल सा बरसता और अपनी बात कहता, हर दिल जो प्यार करेगा, वह गाना गायेगा।

राजकपूर की अधिकारपूर्ण प्रेमाभिव्यक्ति इसी गीत के माध्यम से होती है। निश्चय ही हर दिल जो प्यार में डूबता है वह गाना गुगुनाने लगता है। अब दो और प्रश्न उठते हैं। पहलाक्या हर प्यार करने वाला निश्चय ही गाना गाता है? दूसराक्या हर गाना गाने वाला प्यार करता है? मुझे तो दोनों ही प्रश्नों के उत्तर नकारात्मक लगते हैं। बहुत लोग तो ऐसे प्यार करते हैं कि उसको भी नहीं पता चलता है, जिससे वे प्यार कर बैठते हैं, बड़ा चुपचाप सा प्यार होता है वह, गाना तो कभी नहीं गाया जाता है। दूसरी ओर बहुत लोग ऐसे भी होते हैं जो अपनी गाते रहते हैं, अपने मन की बताते रहते हैं, पर प्यार के उपहार से कोसों दूर रहते हैं। मुझे तो इन दोनों प्रश्नों के उत्तर सकारात्मक नहीं मिले जिस पर आधारित गणितीय प्रमेय के आधार पर प्रेम और गाने को एकरूप समझा जा सकता हो।

पारिवारिक परिवेश में सत्य कितना भी स्पष्ट हो पर श्रीमतीजी की सहमति पाने तक त्रिशंकु सा लटका रहता है। श्रीमती जी को राजकपूर के गाने पर चौतरफा विश्वास है और उन्हें यहाँ तक लगता है कि बिना गाना गाये मन में प्यार उत्पन्न ही नहीं हो सकता है। पर यही कारण नहीं है कि मेरी गीत गाने में बहुत रुचि है, बचपन से धुन है गुनगुनाने की। जब रौ में होता हूँ तो कहीं भी गुनगुनाने लगता हूँ। जब तक पता लगता कि कहाँ पर खड़ा होकर गा रहा हूँ तब तक दो तीन पंक्तियाँ सुर में ढलकर निकल भागती हैं। बचपन की लयात्मक लहरियाँ अभी भी जीवित हैंअभी भी घर में सहसा ही गा उठता हूँवृन्दावन का कृष्ण कन्हैयासबकी आँखों का तारा।

पिछले कई दिनों से घर में सुरों के उद्गार नहीं उठ रहे थेकारण मेरी व्यस्तता का थाबंगलोर में ही वाणिज्य के स्थान पर परिचालन का नया दायित्व सम्हालने के कारण भारी भरकम ट्रेनों और इंजनों से आत्मीयता बढ़ गयी थी। घर में टेलीफोन पर पूर्णनिमग्ना हो घंटे भर बतियाने के बाद कण्ठ गाने योग्य बचता ही नहीं है। गाना कम हो गयाघर के वातावरण में स्वर गूँजने कम हो गये,  श्रीमतीजी को लगने लगा कि प्यार कम हो गया। आप कितना भी समझा लें कि न गाने से प्यार कम नहीं होता हैकण्ठ भले ही न कुछ कहे पर मन गुनगुनाता रहता है। श्रीमतीजी तो मानती ही नहीं, अब राजकपूर ने जो इतना जोर जोर से गा दिया है, बिल्कुल स्पष्ट,  हर दिल जो प्यार करेगावो गाना गायेगा।

हमारे तर्क धरे के धरे रह गयेगाना तो गाना ही पड़ेगा। स्वयं नहीं गायेंगे तो गवाया जायेगा। इसी बीच हमारा जन्म दिवस आया। हम तो जीवन को ही उपहार मानते हैं अतः उपहार माँगते नहीं। सहसा सामने एक बड़ा सा उपहार देखकर आश्चर्य हुआ। उत्सुकतावश खोला तो एक करोओके उपकरण निकला। टीवी स्क्रीन से जोड़ामनपसन्द गाना चुना और गाने लगाआनन्द आ गयाएक के बाद गाने गाये।

श्रीमतीजी के चेहरे पर मुस्कान थी। पति गा रहे हैं, अब राजकपूरजी के अनुसार प्यार भी जागेगा।

हर दिल जो प्यार करेगावह गाना गायेगा,
गाना रूखे सूखे दिल में प्यार जगायेगा।

72 comments:

  1. बचपन से धुन है गुनगुनाने की। जब रौ में होता हूँ तो कहीं भी गुनगुनाने लगता हूँ। जब तक पता लगता कि कहाँ पर खड़ा होकर गा रहा हूँ तब तक दो तीन पंक्तियाँ सुर में ढलकर निकल भागती हैं।

    आपके व्यक्तित्व का यह पक्ष जानकर बहुत अच्छा लगा..... पोस्ट बड़ी प्यारी है :)

    जन्मदिन की शुभकामनायें स्वीकारें ....

    ReplyDelete
  2. फिल्‍मी गीतों में एक एक्‍सीलेटर वाला प्‍यार भी होता है- 'धीरे-धीरे प्‍यार को बढ़ाना है...' और अपनी जवानी साबित करने के लिए कहानी गढ़नी होती है, बतर्ज- 'वो जवानी जवानी नहीं, जिसकी कोई कहानी नहीं.'

    ReplyDelete
  3. जन्म दिवस की बधाई लिजिये, मिठाई और पार्टी प्रामिस करिये.

    और हाँ जी....उपहार जो मिला है वो ऐंवें ही नहीं..गाकर रिकार्ड करके पॉडकास्ट करिये जनाब...क्या आप ब्लॉगर्स से प्यार नहीं करते??? करते हैं न...तो फिर गाईये..एक पंत दो काज वाली बात होगी..गायेंगे तो घर में ही न!! श्रीमति जी भी प्रसन्न हो जायेंगी-उन्हें थोड़ी न पता चलेगा कि यह ब्लॉगर प्रेम में गाया जा रहा है :)

    बहुत बधाई और शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  4. लेकिन हमसे का कहता हुई कि हमें इस गाने के श्रवण सुख से वंचित किया गया ....अभी भी ऑडियो क्लिप लगा दें !
    नयी जिम्मेदारी पर पर हमारी बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. न दैन्यं न पलायनम्

    ReplyDelete
  6. जन्मदिन की बहुत शुभकामनायें ...

    गीत गाने वाले हर हाल में गुनगुनाते ही हैं !

    ReplyDelete
  7. गाना गाये या न गाये पर हर दिल प्यार जरूर करता है.
    प्यार के अभिव्यक्ति का माध्यम अगर 'गाना' हो तो अवश्य गाइए, पर शायद प्यार इतना सूक्ष्म है कि उसे अभिव्यक्त होने के लिये किसी गाने-वाने की जरूरत ही नहीं है.

    ReplyDelete
  8. क्या प्रवीण जी,जन्मदिन की बात तो आपने बिना मिठाई विठाई के यूँ ही बता दी है.चलिए अब गाना तो आपको सुना देना ही चाहिये अपने प्यार के खातिर.
    आपको जन्म दिन की हार्दिक शुभ कामनाएँ.

    ReplyDelete
  9. जन्मदिन की बधाई ... कराओके है, गाते जाइये

    ReplyDelete
  10. गाने वाला मौन हो जाएगा तो शंका तो होगी ही ना। चलिए श्रीमती जी ने आपसे गाना गवा ही लिया। जन्‍मदिन की आपको बधाई।

    ReplyDelete
  11. "कराओके" के माध्यम से आपकी मधुर आवाज़ में आपके अभी तक अव्यक्त प्यार को जन्मदिन के शुभ अवसर पर बडी चतुराई से "ओके करा" लिया गया ।

    बहुत खूब । बहुत बहुत बधाईयां आपको एवं आपके परिवार को आपके उपहार स्वरूप "जीवन" के जन्म के अवसर पे ।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया! :D गाते रहिये, गुनगुनाते रहिये, और जीवन को सुखमय बनाते रहिये|
    .
    .
    .
    शिल्पा

    ReplyDelete
  13. जन्मदिन की बहुत शुभकामनायें ...

    हँसते रहिये, गाते रहिये
    प्रेम के गीत गुनगुनाते रहिये

    ReplyDelete
  14. अगर करावके से आपको प्यार है तो माईवे आईपीटीवी कनेक्शन ले लें. उसमें एक उम्दा करावके चैनल है जिसमें आप पसंदीदा हजारों गानों में से चुनकर साथ साथ गा सकते हैं.

    ReplyDelete
  15. जन्म दिन की हार्दिक शुभकामना... अपने स्वर में एक गीत पोस्ट पर भी लगा देते तो अच्छा रहता...

    ReplyDelete
  16. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    सुरेन्दर शर्मा से उनकी पत्नी भी कभी पिक्चर देखकर ये बोली थी कि देखो वो हीरो कैसे चिपक-चिपक के अपनो प्यार जता रियो है तुम क्यों नी जताओ । तो सुरेन्दर शर्मा बोल्यो के भाग्यवान उके तो यो चिपक-चिपक के प्यार जताने का लाखों रुपया मिल रिया है म्हारे कंई मिलनो है ।

    ReplyDelete
  17. अब करिओके लिया तो गाना पड़ेगा . आप तो गा लेते है मै तो बिस्वास करता हूँ की गाने आये या ना आये गाना चाहिए . जन्म दिन की शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  18. पांडे जी कभी हमें भी सुना दीजिए |

    ReplyDelete
  19. दर-असल गाने क सीधा सम्बन्ध आपकी मानसिकता से है,यदि आप बिलकुल बिंदास-सा महसूस करेंगे,अंदर कोई तनाव नहीं होगा,तो गाना चल पड़ता है.
    जब भी बस की खिडकी पर बैठो,सुरीली हवा चल रही हो या साइकल चलाते हुए या गाँव की पगडंडियों में घूमते हुए अचानक दिल से आवाज निकलती है.प्यार तो वहीँ है जहाँ से ये आवाज़ आती है.
    अब इसीलिये शहरों में हमारे अंदर से आवाज़ नहीं निकलती क्योंकि वैसी परिस्थितियां नहीं हैं यहाँ पर !

    ReplyDelete
  20. --सुन्दर पोस्ट...

    दर असल....कवि होना और सिर्फ़ गायक होना अलग अलग बातें है.... सामाजिक-अर्थार्थ में कवि वियोगी धुन ही लिखता-गाता है.....पर अकथ कहानी प्रेम की... हर दिल जो प्यार करेगा वह गाना अवश्य गायेगा.... हां हर दिल जो गाना गाये वो .प्यार या वियोगी कुछ भी हो सकता है...

    ---तू गाता चल ए यार कोई कायदा न देख....

    ReplyDelete
  21. गाना आये या न आये गाना पड़ेगा जन्म दिन शुभकामनाये

    ReplyDelete
  22. बधाई...जन्मदिन की...गाने की...और एक बात ये जो नीचे लगा रखे हैं न -"अर्चना चावजी के पॉडकास्ट" उसे हटा कर(या चाहें तो उसके साथ) लगाईये-"प्रवीण पाण्डेय जी के पॉडकास्ट"...
    अच्छा लगेगा...

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया| गाते रहिये|
    जन्मदिन की बहुत बधाई और शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  24. अब तो गाना सुनाना ही पड़ेगा...

    ReplyDelete
  25. अब तो गाना सुनाना ही पड़ेगा...

    ReplyDelete
  26. जन्म दिवस की बधाई, और आप सच में खुशनसीब हैं कि आपके गाने को पसंद करने वाली पत्नी मिली हैं।
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  27. जन्मदिन पर तो पत्नी के साथ रहिए,,, छोडिये ये ट्रेन-इंजन से प्रेम... खुल कर गायिए और खाइये बड्डे केक :)

    ReplyDelete
  28. जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएँ...इंतज़ार है कब आप अपना गीत सुनाते हैं...

    ReplyDelete
  29. "पारिवारिक परिवेश में सत्य कितना भी स्पष्ट हो पर श्रीमतीजी की सहमति पाने तक त्रिशंकु सा लटका रहता है।"

    लगता है आज कल आप को सच बोलने की बीमारी कुछ ज्यादा ही हो गई है| हा हा हा हा हा

    जन्म दिन की बहुत बहुत शुभ कामनाएँ

    ReplyDelete
  30. बहुत बढिया.
    मुबारक हो जन्मदिन

    ReplyDelete
  31. वृंदावन का कृष्ण कन्हैया, सब की आंखों का तारा...

    ये गाना अब बदल कर ऐसे हो गया है...

    बैंगलूरू का प्रवीण पण्डैया, ब्लॉगिंग की दुनिया का दुलारा...

    जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं...

    दीदी के 'बंगाल का दादा' बनने की भी बधाई...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  32. बधाई बन्धुवर - देर से सही!

    ReplyDelete
  33. जन्मदिन की बधाई और शुभकामनायें ...

    प्यार जताना है तो गाना तो पड़ेगा ...

    इंतज़ार है पोडकास्ट का ..

    ReplyDelete
  34. व्यक्तित्व का एक और पहलू उजागर किया ...बधाई !

    ReplyDelete
  35. जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई...
    गुनगुनाने वाला दिल हमेशा खुश रहता है...सो प्यार हो या ना हो...गीत गाता चल....
    अब तो गाना सुनवा ही दीजिए....

    ReplyDelete
  36. बहुत अच्छा लगा आपके व्यक्तित्व के इस पक्ष को जानकर।
    अब तो यही कहूंगा कि सिर्फ़ बतियाते नहीं कुछ सुनते-सुनाते भी।

    ReplyDelete
  37. हैप्पी बर्थ डे टू यू......

    ReplyDelete
  38. praveen ji
    bahut hi badhiya post .
    sangeet hi to sabse bada madhyam hai jovan me hansne -hansane ke liye .
    log kahte hai ki jab kabhi aapka man ashant ya na ho to bhi gaana gane v sunne se bada aur koi udaharan nahi hai jo man ko bilkul hi laybaddh kar deta hai aur thodi der ke liye insaan sabkuchh bhul jaata hai.jaruri to nahi ki har gaana gane wala hi pyaar karta hai .
    koi moun rah kar bhi apne pyaar ko prkat nahi karta.kyon ki uski abhivykti muk hi hothai jo har dil nahi samajh sakta

    chaliye ab fatafat apne gaane ki aawaz bhi ham tak pahunchayen .aapke janam din ki subh kamna dete hue aapse ham bhi yahi uphaar mangte hain
    aur han!jivan ke path par aap yun hi agrasar hote rahen isi shubh -kamnao ke saath
    hardik badhai
    poonam

    ReplyDelete
  39. जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें....
    गुनगुनाते रहिये खुशिया आती रहेगी

    ReplyDelete
  40. हैप्पी बर्थडे अंकल

    ReplyDelete
  41. आप और आपके श्रीमती जी के चेहरे की मुस्कान हमेशा कायम रहे....आप निश्चय ही एक मेहनती रेल अधिकारी और संवेदनशील इंसान हैं....

    ReplyDelete
  42. बड़ा प्यारा गाना याद दिला दिया ...फिलहाल इसी को सुन रहे हैं शुभकामनायें प्रवीण भाई !!

    ReplyDelete
  43. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें! गाना आये न आये, प्यार करना ज़रूर आना चाहिए..

    ReplyDelete
  44. janmdin ki hardik shubhkamnayen. is avasar par to gana gane na aaye to bhi ga lena chahiye........... shrimati ji agle sal bhar na tokengi.

    ReplyDelete
  45. सर्वप्रथम, जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं

    पोस्ट पढ़ते हुए हमें लगा.....अंत में जरूर किसी गीत का ऑडियो डाला होगा आपने...
    अब ये तो नाइंसाफी है, गीत गुनगुनाने का जिक्र.... पर गीत नदारद

    ReplyDelete
  46. यह गाना आपका मनपसंद है, जानते थे। जन्मदिन की बधाईयां स्वीकार करें।

    ReplyDelete
  47. प्यार और गाने का बहुत गहरा सम्बन्ध है इसमें कोई शक नहीं .....!!
    गाना आपके अन्दर बहुत स्वाभाविक है ये समझ में आ रहा है ...फिर तो आपके लिए गाने से अच्छी कोई और चीज़ है ही नहीं |अब तो करिओके है खूब गाइए |
    जन्म दिन की ढेर सारी शुभकामनायें ...!!!

    ReplyDelete
  48. बचपन की लयात्मक लहरियाँ अभी भी जीवित हैं, अभी भी घर में सहसा ही गा उठता हूँ, वृन्दावन का कृष्ण कन्हैया, सबकी आँखों का तारा।
    pravin ji aesi aadat to hamme bhi hai bina sangeet ke kaam me ruchi utpann nahi hoti isliye gungunaye baigar raha hi nahi jaata hai ,maja aa gaya padhkar .janm din ki dhero badhai aapko .

    ReplyDelete
  49. आप को जन्म दिवस की बधाई शुभकामनायें ...
    गीत बहुत अच्छा लगा, धन्यवाद

    ReplyDelete
  50. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई ......

    आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा ...

    ReplyDelete
  51. ब्रिजेश कुमार मिश्र, अल्लाहाबाद15/5/11 21:33

    बहुत खूब...लगे रहो...

    ReplyDelete
  52. Are aap gana bhee gate hain, har samvedan sheel wyakti gata nahee to gungunata awashy hai pyar ka nahee maloom. humare jamane men to pyar ka arth thoda bahut samazte na samazte byah ho jata tha . Par janm din par aapne geet gaya aur shrimatijee ko ashwast kiya. Badhaee, janmdin kee pyar laut aane ki bhee.

    ReplyDelete
  53. Belated Happy B day Praveen bhai....Gungunate rahiye!!!

    ReplyDelete
  54. अच्छा लगा पढ़कर.

    'संगम' के राजकपूर साहब का खिलंदड़ापन पता नहीं क्यों बचपन में अच्छा नहीं लगा कभी. लगता रहा जैसे कोई आत्म-मुग्ध चरित्र सामने है जो सच को बर्दाश्त करने की ताकत नहीं रखता, या आँखों आगे के सच को भी नहीं देखता, या फिर अपने अलावा किसी की भी भावनाओं को समझना नहीं चाहता. खैर ,जाने दीजिए मेरी इस अप्रासंगिक टिप्पणी को.

    प्रासंगिक है आपका जन्मदिन और उपहार.
    प्रसन्न रहें! प्रफुल्ल रहें!!

    ReplyDelete
  55. बेहतरीन भावपूर्ण अभिव्यक्ति ....आभार

    ReplyDelete
  56. साथ ही जन्मदिन पर बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं /....

    ReplyDelete
  57. behatareen post Praveen Ji..behad khubsoorat blog hai apka..

    Prem aur sangeet to ek doosre ke poorak hain..koi pyaar karne vaala gana gaye ya na gaye..sangeet ke taar hamesha hi uske dil-o-dimaag mai bajte rahte hain.. :)

    ReplyDelete
  58. Aapkee gift to hum jaise besuro ko gaa sakte hai bhramit karne ke liye hai jee.......
    aap to sur wale hai .
    Belated happy birthday .

    :)

    ReplyDelete
  59. Janm Din ka hardik Shubkamnaye!

    aur bhaiye "Life is a Song, sing it"

    ab chahe filmy ho ya julmy , bas gate rahiye, aur apne padosion ko dhoke me rakhe rahiye!, shandar prastuti! ke liye bhi badhai!

    ReplyDelete
  60. जन्म-दिवस पर हार्दिक संगल-कामनाएँ स्वीकारें !
    जब जानती हैं वे कि आप अच्छा गाते हैं तो सुनने का चाव तो स्वाभाविक है.
    उनका बनाया अच्छा-अच्छा खाते रहें ,
    मगन मन हो गाते रहें !

    ReplyDelete
  61. जो प्यार करता है उसके दिल में सितार तो गींजता है ... मन से तो वो भी गाता है ... फिर अभिव्यक्ति किसी न किसी माध्यम से तो हो ही जाती है ... उस अभिव्यक्ति को श्रीमती जी को समझाना होता है बस ...

    ReplyDelete
  62. जन्म दिवस की बधाई ...

    ReplyDelete
  63. जन्‍मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं .... मधुर गीतों के साथ यह गुनगुनाहट हमेशा बनी रहे .. इस बेहतरीन प्रस्‍तुति का आभार ।

    ReplyDelete
  64. सर .. देर से ही सही जन्म दिन की शुभकामनाये स्वीकार करें ! ब्यस्त था ! नए उत्तरदायित्व के साथ ..अब नए गाने गाने पड़ेंगे !

    ReplyDelete
  65. गीत गाता हूँ मैं, गुनगुनाता हूँ मैं!!

    ReplyDelete
  66. jab se aai ho tum her cheez pyara lagne laga hai. her chiz ko pyar karne ko jee chahta hai. pyar vo cheez hai. ati sunder

    ReplyDelete
  67. जन्मदिन की बहुत शुभकामनायें
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  68. आपने हमारे पारिवारिक ब्लाग्स में पधार कर हमारा उत्साहवर्धन किया है,धन्यवाद.इसी तरह आते-जाते रहिएगा.आपकी कलम से शब्द बहुत ही सधे हुए निकलते हैं.आपकी हर पोस्ट लाजवाब होती है.राजकपूर जी की फिल्मों का हर गीत जीवन से जुड़ा हुआ होता था.गीत के एक वाक्यांश पर आपने बड़ी ही सुन्दर पोस्ट लिखी है.

    ReplyDelete
  69. हर दिल जो प्यार करेगा ...इस गीत के फिल्मांकन में राजकपूर जी की आँखों के भावों का मैं कायल हूँ.आँखों में नैसर्गिक अभिनय ,कोई मामूली बात नहीं है.मैं तो सोचता था कि इस गीत की इस गहराई को सिर्फ मैंने ही महसूस किया है .contd....

    ReplyDelete
  70. मैं अक्सर अपने दोस्तों के बीच हिंदी फिल्म के दो गानों में नायक की आँखों के अभिनय के बारे में जरूर चर्चा करते रहता हूँ.एक तो 'हर दिल जो प्यार करेगा "...में कहानी की सिचुएशन के अनुसार राज कपूर साहब की आँखों की और दूसरा गीत है राजेश खन्ना जी का .....वो शाम कुछ अजीब थी (ख़ामोशी) इस गीत में राजेश खन्ना की आँखों और मुस्कराहट में जो बात है वो कुछ खास है.फिल्म संगीत की बारीकियों का प्रेमी हूँ,आपने अपनी पोस्ट से मेरे दिल को छेड़ दिया है.बेहतरीन पोस्ट ..

    ReplyDelete
  71. जी हाँ, दिल जब प्यार से आपूरित हो जाता है तो होठों पर गीत आ जाते हैं, पांव थिरकने लगते हैं लेकिन इसे ही कसौटी मानना उचित नहीं. प्यार बेशर्त होता है, किसी सीमा, किसी तर्क में नहीं बंधता.यदि गीत ही प्यार की कसौटी बन गए तो ख़ामोशी निर्थक हो जाएगी. कांपते होठों पर तडपती अनकही बातों का क्या होगा? सच तो यह है कि प्यार यदि होता है तो प्रमाण क़ी आवश्यकता नहीं होती. जैसे दिन है तो किसी मुनादी क़ी जरूरत कहाँ पड़ती है. इसलिए जरूरी नहीं कि हर दिल जो प्यार करे वह गाना गए ही. देर से सही, जन्मदिन की बधाई

    ReplyDelete