5.6.13

वाकू डोकी

कुछ दिन पहले टोयोटा से दो अधिकारी मिलने आये थे, टोयोटा की एक फ़ैक्टरी बंगलोर के पास में ही है। आपसी हित के विषय पर बातचीत थी। जब विषय पर चर्चा समाप्त हो गयी और दोनों अधिकारी चले गये तो उनके विज़िटिंग कार्ड पर ध्यान गया। अंग्रेज़ी में लिखा था 'वाकू डोकी'। उत्सुकता तो उस समय जगी पर व्यस्तता के कारण उन शब्दों का अर्थ नहीं पता लग पाया। जब समय मिला तो गूगल किया, अर्थ था, रोमांच की संभावना में सिहरना और हृदय गति बढ़ जाना।

टोयोटा एक जापानी कम्पनी है और 'वाकू डोकी' एक जापानी शब्द। वाकू डोकी के माध्यम से टोयोटा का प्रयास यह प्रचारित करना है कि उनके उत्पादों में भी यही गुण उपस्थित है। अर्थ यह कि टोयाटो के उत्पादों को उपयोग करते समय आपको सिहरन होगी और हृदय की धड़कन अव्यवस्थित हो जायेगी। जापानी कारें बहुत अच्छी होती हैं और उन्होंने अमेरिका के बड़े कार निर्माताओं को विस्थापित कर, जापान का आर्थिक वर्चस्व सुनिश्चित किया है। यह भी एक सत्य है कि कार के दीवानों की दीवानगी अवर्णनीय होती है। संभव है कि अच्छी कारों और दीवानों का संगम वाकू डोकी का अनुभव कराता हो, पर यह अभी तक मुझे अनुभव नहीं हुआ, न मेरे पास जापानी कार है और न मैं कार का दीवाना हूँ।

तब इस शब्द को कैसे अनुभव किया जाये। कोई आसपास का अनुभव ढूँढा जाये। नये मोबाइल में, नई पुस्तक में, नये नगर में, हाँ एक उत्सुकता अवश्य रहती तो है पर वाकू डोकी जैसी नहीं। लक्ष्यों की पूर्ति में, किसी पुराने परिचित से मिलने में, नवोदित प्रेम में या विवाह की प्रतीक्षा में, हाँ वाकू डोकी सा कुछ कुछ तो रहता है, पर वह भी बहुत अधिक स्थायी नहीं रहता है। वाकू डोकी घटना होने के बाद उस परिमाण में नहीं रहता है जैसा घटना के पहले रहता है। अब जो अनुभव उत्पाद के पहले ही हो और उत्पाद के उपयोग के साथ धीरे धीरे ढल जाये, उस पर अपनी कम्पनी की मूल अवधारणा बनाना विक्रय विभाग का ध्येय तो हो सकता है पर वैसा ही वाकू डोकी सदा ही बना रहेगा, यह कहना बड़ा कठिन है।

वैसे देखा जाये तो कुछ खरीदने के पहले थोड़ा बहुत वाकू डोकी तो होता ही है। एक झोंका सा रहता है जो हमें कोई भी उत्पाद खरीदने के समय होता ही है। यदि मूल्य कम रहे तो कम होता है, यदि मूल्य अधिक रहा तो अधिक होता है। कार तो बहुत अधिक मूल्य की होती है अतः उसमें हुये वाकू डोकी की मात्रा और अन्तराल बहुत अधिक होता है।

किसी भी कम्पनी के विक्रय विभाग का यह लक्ष्य रहता है कि किस तरह से अपनी बिक्री बढ़ायी जाये। उसके लिये वह कुछ भी कर सकती है। मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया का उपयोग किस तरह से प्रचार बनाने में किया जाता है, यह नित प्रचार देखने वालों को सहज ही समझ आ जाता है। प्रचार आदि पर काम करने वाली कम्पनियाँ इस तथ्य को विधिवत समझती हैं कि किस प्रकार मन के भावों को धीरे धीरे उभारते रहने से उस उत्पाद के प्रति वाकू डोकी के भाव निर्मित होते रहते हैं? यही कारण रहता है कि मनोवैज्ञानिक रूप से पहले से ही इतना ऊर्जामग्न होने के कारण, उस उत्पाद के प्रति वाकू डोकी के गहरे और गाढ़े भाव हमारे मन में जाग जाते हैं।

ऐसा नहीं है कि केवल आर्थिक लक्ष्यों की अनुप्राप्ति में हमें वाकू डोकी की अनुभूति होती है। जब भी कोई बड़ा स्वप्न और घटना साकार होने के निकट होती है, हमें वाकू डोकी के अनुभव होते हैं। कोई बड़ा परीक्षाफल निकलने वाला हो, किसी बड़े व्यक्ति से हाथ मिलाने का क्षण हो, कोई बड़ा पुरस्कार मिलने वाला हो, वाकू डोकी के लक्षण हमारे शरीर से टपकने लगते हैं। व्यक्तिगत ही नहीं, समाज और देशगत विषयों में भी यही भाव छिपे रहते हैं।

देखा जाये तो शरीर का क्या दोष? शरीर में त्वचा है तो कंप होगा ही, हृदय है तो धड़केगा ही। शारीरिक रूप से तो वाकू डोकी का मंच तैयार है। यह तो मन है जो इन दोनों को गति देने को तैयार बैठा रहता है। यदि तनिक और सूक्ष्मता से देखा जाये तो मनुष्य के जीवन में यही वाकू डोकी के लघु लक्ष्यों का एक पंथ निर्मित है, एक के आने की प्रतीक्षा में हम श्रमरत रहते हैं और एक के जाने के बाद दूसरे की प्रतीक्षा में लग जाते हैं। यदि वाकू डोकी के क्षण जीवन में न रहें तो जीवन कितना नीरस हो जाये।

जब हम छोटे होते हैं तो छोटी छोटी बातों में हमें वाकू डोकी हो जाता है, थोड़ा बड़ा होने में अनुप्राप्ति के लक्ष्य और बड़े होते जाते हैं। धीरे धीरे श्रम और समय की मात्रा बढ़ती जाती है। जब हमें लगने लगता है कि अगले लक्ष्य के लिये हम अधिक श्रम नहीं कर सकते तो उसे मन से त्याग कर वर्तमान में स्थिर होने लगते हैं, पर औरों को देखकर वाकू डोकी की आस बनी रहती है। जो परमहंस होते हैं, उन्हें इन सांसारिक लक्ष्यों से कोई सारोकार नहीं रहता है, वे शान्त सागर से हो जाते हैं, हलचल भले ही किनारों पर बनी रहे, मन स्थिर हो जाता है, हर प्रकार के वाकू डोकी से।

अहा, अब याद आ रहा है कि कहीं इस तरह से मिलते जुलते भाव पढ़े हैं। साहित्य में कहीं निकटतम पहुँचने का बोध होता है, तो वह इस भजन का एक भाग है जिसमें कहते हैं, रोमांच कंपाश्रु तरंग भाजो, वन्दे गुरो श्री चरणारविन्दमं। रोमांच, कंप और तरंग जैसे शब्द एक साथ पहली बार आते हुये दिखते हैं, इस भजन में। देखा जाये तो भक्तिमार्ग में भी वाकू डोकी की खोज होती है, लोग कहते हैं कि शाश्वत वाकू डोकी की। भक्ति, साधना आदि के भावमयी प्रवाह में वाकू डोकी की मात्रा सांसारिक पक्षों की तुलना में कहीं अधिक होती है। कहते हैं कि सांसारिक वाकू डोकी कृत्रिम और संक्षिप्त है जबकि भक्तिजनित वाकू डोकी स्वस्फूर्त व सतत है।

आपको किससे सर्वाधिक वाकू डोकी होता है, टोयोटा ने कहा है कि उनकी कारों को ख़रीदने से यह भाव सहज आता है। देखते हैं, कब तक आयेगी वह कार और कब होगा वाकू डोकी। कोई और कम्पनी है, कहीं की भी हो, थोड़ी देर के लिये वाकू डोकी दे जाये। कुछ कुछ उस गीत की तरह, पल भर के लिये कोई हमें प्यार कर ले, झूठा ही सही।

40 comments:

  1. शब्द चाहें कुछ भी कहें, भावनाएं सब जगह एक जैसी ही होती हैं.

    ReplyDelete
  2. वाकू डोकी - मुझे तो इसके पहले शब्द के तुकान्त शब्द के ध्यान आते ही धड़कनें बढ़ गयीं. अगर दोनों शब्दों के अक्षर गड्ड-मड्ड हो गये तो.. :)

    ReplyDelete
  3. सत्संग या ईश स्मरण से पहले की वाकू डोकी की स्थिति तदनंतर 'गूँगे को मिश्री का स्वाद' में परिणित हो जाती है

    ReplyDelete
  4. हमें आपकी रचना का इंतजार वाकू डोकी की तारतम्यता का अस्फुर्तन पैदा करता है। सुन्दर विश्लेषण।।

    ReplyDelete
  5. जापानी शब्द "वाकू डोकी" से परिचय अच्छा लगा और उसका सारगर्भित विवरण भी.

    ReplyDelete
  6. शुरू में एकदम से मैं इसे 'डाकू वोकी' पढ़ गई पर प्रतिक्रिया "वाकू डोकी" वाली हुई ,वही रोमांच आदि लक्षण उदित हो गए.
    हमारे यहाँ यह शब्द चलते देर नहीं लगेगी - आपने बताया श्रेय आपको !

    ReplyDelete
  7. आपकी यह पोस्ट पढ़ कर हमें वाकू डोकी होने लगा... :)

    ReplyDelete
  8. जो परमहंस होते हैं, उन्हें इन सांसारिक लक्ष्यों से कोई सारोकार नहीं रहता है, वे शान्त सागर से हो जाते हैं, हलचल भले ही किनारों पर बनी रहे, मन स्थिर हो जाता है, हर प्रकार के वाकू डोकी से।

    sarthak sakaratmak ...vaku-doki si post ...!!

    ReplyDelete
  9. feel waku-doki before exam :P

    ReplyDelete
  10. वाकू डोकी जैसी स्थिति छोटी छोटी इच्छाएं पूर्ण होने पर भी हो जाती है .... नए शब्द से परिचित कराने का आभार

    ReplyDelete
  11. हमने तो कुछ लिखने से पहले वाकू डोकी होता है ..और पूरे लिखते समय बना रहता है :).

    ReplyDelete
  12. विजिटिेंग कार्ड पर एक शब्द पढ़ने मात्र से आप स्वयं इतने वाकू डोकी हो गये कि इतना लम्बा लिख गये।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अजीब शह है यह वाकू डोकी।

      Delete
  13. जो परमहंस होते हैं, उन्हें इन सांसारिक लक्ष्यों से कोई सारोकार नहीं रहता है, वे शान्त सागर से हो जाते हैं, हलचल भले ही किनारों पर बनी रहे, मन स्थिर हो जाता है, हर प्रकार के वाकू डोकी से........................अच्‍छा आलेख। शिखा वार्ष्‍णेय के टिप्‍पणी रुप में लिखे शब्‍दों के अनुभवों से मैं भी गुजरता हूँ।

    ReplyDelete
  14. अतिश्योक्ति नहीं होगी यदि कहा जाए कि आपके हर पोस्ट पर भी वही होती है मतलब... वाकू डोकी

    ReplyDelete
  15. सही कहा आपने, सांसारिक वाकू डोकी क्षणिक ही होती है, प्राप्त होते ही उसका चार्म खत्म हो जाता है पर भक्ति से प्राप्त वाकूडोकी एक बोध दे जाता है जो उतरोतर वाकूडोकी को बढाने में सहायक होता है और जीवन उत्साह मय बना रहता है, बहुत ही सुंदर विचार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. दो जापानी शब्दों के बहाने आपने पूरा जीवन-दर्शन ही उतार दिया हमेशा की तरह । शायद यही जीवन्तता की निशानी है ।

    ReplyDelete
  17. वाह जी वाह आपके इस आलेख से इतना तो स्पष्ट है कि इंसान में जज्बा होना चाहिए वह अच्छी बातों के लिए स्कोप ढूंड ही लेता है, बहुत ही रोचक, प्रवाहपूर्ण और सार्थक रचना.

    ReplyDelete

  18. नई जानकारी।
    हम तो इस वक्त वाकू डोकी का ही अनुभव कर रहे हैं पहाड़ों में।

    ReplyDelete
  19. वाकू डोकी जैसी नए शब्द और नए अहसास से परिचित कराने का आभार.सार्थक रचना..

    ReplyDelete
  20. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  21. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  22. मुझे तो आपकी यह पोस्‍ट पढकर ही वाकू डोकी होने लगी।

    ReplyDelete
  23. वाकू डोकी बे'कार' वाले के लिए भी ! कितने अवसर तो हैं आपने सही बखाना -मुझे भी कारों में तनिक भी रूचि नहीं है !

    ReplyDelete
  24. .
    .
    .
    खेल देखने में अक्सर होता है 'वाकू डोकी'...


    ...

    ReplyDelete
  25. waku-doki... kai baar hua, par Hindi ya English... ab Japanese mei bhi hoga... sansarik waku-doki aur bahkti ki waku-doki mei fark to hai, par ye wahi samajh sakta hai jisne bhakti ki us seema ko chhua ho...
    rahi toyota ki baat to wo apna advertisement karna bakhoobi jante hai... par, bas us cas ki price itni na ho ki khareede bina hi logo ka waku-doki hone lage... :P

    ReplyDelete
  26. वाह निकल गया मुख से इस पोस्ट को पढ़ते है सच में शब्दों में कितनी ताकत है की सभी पाठकों को वाकू डोकी का एहसास करा दिया आपका लेखन हमेशा ही आनंदित करता है ---हल्द्वानी में काव्य गोष्ठी में जाने वाली हूँ उसी वाकू डोकी की अनुभूति हो रही है हाहाहा बहरहाल ह्रदय से बधाइयां इस पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  27. जापानी शब्द "वाकू डोकी" से परिचय अच्छा लगा .रोचक प्रस्तुति हेतु आभार .. हम हिंदी चिट्ठाकार हैं.
    BHARTIY NARI .

    एक छोटी पहल -मासिक हिंदी पत्रिका की योजना

    ReplyDelete
  28. अनुपम, अद़भुद, अतुलनीय, अद्वितीय, निपुण, दक्ष, बढ़िया रचना
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें
    टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें
    MY BIG GUIDE
    नई पोस्‍ट
    अब 2D वीडियो को देखें 3D में

    ReplyDelete
  29. अर्थ जाने बिना मुख-सुख ही लगते हैं ऐसे जापानी शब्‍द.

    ReplyDelete
  30. बड़ी ही रोचक पोस्ट है..एक नए शब्द का परिचय कराती हुई...वाकू-डोकी ...
    मनोविज्ञान का सहर तो अरसे से कम्पनियाँ अपना प्रोडक्ट बेचने के लिए करती ही रही हैं.

    ReplyDelete
  31. हमें तो पहले 'ईलू ईलू' होता है और जब 'वह' आसपास न दिखें तो 'वाकू डोकी' होने लगता है ।

    ReplyDelete
  32. ध्यान के समय कभी कभी एक सिहरन सी होती है. मैं नहीं जानता, इसे वाकू डोकी कहा जाये या नहीं।

    ReplyDelete
  33. I get Waku doki, when look at Political leadership ;-)

    ReplyDelete
  34. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा आज मंगलवार ११ /६ /१ ३ के विशेष चर्चा मंच में शाम को राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी वहां आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  35. चलिए इसी बहाने एक नया शब्द तो मिला ....
    और कुछ कुछ रोमांच भी ... लेख पढ़ने के बाद ...

    ReplyDelete