26.12.12

कोई हो

खड़ा मैं कब से समुन्दर के किनारे,
देखता हूँ अनवरत, सब सुध बिसारे ।
काश लहरों की अनूठी भीड़ में अब,
कोई पहचानी, पुरानी आ रही हो ।
कोई हो जो कह सके, मत जाओ प्यारे,
कोई हो जो मधुर, मन को भा रही हो ।।१।।

कोई कह दे, नहीं अब मैं जाऊँगी,
संग तेरे यहीं पर रह जाऊँगी ।
कोई हो, एकान्त की खुश्की मिटाने,
नीर अपने आश्रय का ला रही हो ।
कोई हो जो बह रहे इन आँसुओं के,
मर्म की पीड़ा समझती जा रही हो ।।२।।        

कोई कह दे, छोड़कर पथ विगत सारा,
तुझे पाया, पा लिया अपना किनारा ।
कोई कह दे, भूल जाओ स्वप्न भीषण,
कोई हो जो हृदय को थपका रही हो ।
कोई कह दे, देखता जो नहीं सपना,
कोई हो जो प्रेयसी बन आ रही हो ।।३।।

53 comments:

  1. ...अब लहरों से ही आस बची है !

    ReplyDelete
  2. शानदार रचना

    ReplyDelete
  3. अभी भी "कोई" हो ?

    ReplyDelete
  4. वाह मन तरंगों का अल्हणपन व सौंदर्य में आत्मसात हो जाने की सुंदर व सजीव अभिव्यक्ति।
    अति सुंदर।
    सादर- देवेंद्र
    मेरी नयी पोस्ट - कुछ डिप्रेसिंग व कुछ इंस्पायरिंग.....

    ReplyDelete
  5. प्रवीण जी, हो सके तो अपना EMail Add. दे दीजिए। आपसे बात करने मेँ अच्छा लगेगा।
    amitbharteey@gmail.com

    ReplyDelete
  6. It is both relaxing and invigorating to occasionally set aside the worries of life, seek the company of a loved and just do nothing :)

    ReplyDelete
  7. वो कोई ही तो होता है, जो ज़िन्दगी को खूबसूरत बनाकर उसे मायने दे देता है...
    :)

    ReplyDelete
  8. Waah waah kya Baat Hai Praveen bhai

    ReplyDelete
  9. पता नहीं,कुल साँसे अपनी
    हम खरीद कर , लाये हैं !
    कल का सूरज नहीं दिखेगा
    आज समझ , ना पाए हैं !
    भरी वेदना, मन में लेकर,कैसे समझ सकोगे प्रीत?
    मूरखमन फिर चैन न पाए,जीवन भर अकुलायें गीत !

    ReplyDelete
  10. सागर की लहरों को देखते रहो तो मन भी वैसा ही होने लगता है-पूर्णिमा की रात में ट्राई कीजियेगा कभी!

    ReplyDelete
  11. कोई कह दे, नहीं अब मैं जाऊँगी,
    संग तेरे यहीं पर रह जाऊँगी ।
    कोई हो, एकान्त की खुश्की मिटाने,
    नीर अपने आश्रय का ला रही हो ।
    कोई हो जो बह रहे इन आँसुओं के,
    मर्म की पीड़ा समझती जा रही हो ..

    बहुत ही शुन्दर भावों से सजी ... कल्पना के पंकों पे सवार रचना ...
    बहुत लाजवाब ...

    ReplyDelete
  12. "काश लहरों की अनूठी भीड़ में अब,
    कोई पहचानी, पुरानी आ रही हो।"

    वाह, सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  13. काश लहरों की अनूठी भीड़ में अब,
    कोई पहचानी, पुरानी आ रही हो ।
    नीर अपने आश्रय का ला रही हो ।
    कोई हो जो प्रेयसी बन आ रही हो।

    आहहहहहहहहहहहहाहाहा....................... भाई साहब, दिल अन्दर तक भीग गया ! :)

    ReplyDelete
  14. शानदार लेखन,
    जारी रहिये,
    बधाई !!!

    ReplyDelete
  15. प्रभाशाली कविता

    ReplyDelete
  16. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...
    सादर

    ReplyDelete
  17. इस 'कोई' की अनवरत तलाश !

    ReplyDelete
  18. हृदयस्पर्शी सुंदर अभिव्यक्ति ....!!

    ReplyDelete
  19. इन्तजार के सागर में मन की हलचल!!

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब...
    एक अपरिभाषित, अनजाना 'कोई'....

    ReplyDelete
  21. याने, समन्‍दर किनारे प्रतीक्षारत बैठा एक प्‍यासा।

    ReplyDelete
  22. एक प्रतीक्षा,महासागर सी अनंत. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  23. सागर किनारे दीर्घ प्रतीक्षा !!!!

    ReplyDelete
  24. मन को छूती बहुत ही सुंदर प्रस्तुति,,,,

    recent post : नववर्ष की बधाई

    ReplyDelete
  25. बहुत उम्दा !

    ReplyDelete
  26. bahut hi sundar rachna...waah..

    ReplyDelete
  27. उम्दा अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  28. सुध बिसराती हुई रचना.....

    ReplyDelete
  29. http://urvija.parikalpnaa.com/2012/12/blog-post_6742.html

    ReplyDelete
  30. खड़ा मैं कब से समुन्दर के किनारे,
    देखता हूँ अनवरत, सब सुध बिसारे ।
    काश लहरों की अनूठी भीड़ में अब,
    कोई पहचानी, पुरानी आ रही हो ।
    कोई हो जो कह सके, मत जाओ प्यारे,
    कोई हो जो मधुर, मन को भा रही हो ।।१।।
    इधर आओ एक बार फिर प्यार कर लें ,

    निगाहों से रूहों को बे -जार कर लें .

    ये जो मन की गति है बड़ी न्यारी है .बढ़िया रचना है जीवन लहरों में उतराती लहराती .

    ReplyDelete
  31. खड़ा मैं कब से समुन्दर के किनारे,
    देखता हूँ अनवरत, सब सुध बिसारे ।
    काश लहरों की अनूठी भीड़ में अब,
    कोई पहचानी, पुरानी आ रही हो ।
    कोई हो जो कह सके, मत जाओ प्यारे,
    कोई हो जो मधुर, मन को भा रही हो ।।१।।
    इधर आओ एक बार फिर प्यार कर लें ,

    निगाहों से रूहों को बे -जार कर लें .

    ये जो मन की गति है बड़ी न्यारी है .बढ़िया रचना है जीवन लहरों में उतराती लहराती .



    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 दिमागी तौर पर ठस रह सकती गूगल पीढ़ी

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (28-12-2012) के चर्चा मंच-११०७ (आओ नूतन वर्ष मनायें) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
  33. खड़ा मैं कब से समुन्दर के किनारे,
    देखता हूँ अनवरत, सब सुध बिसारे ।
    काश लहरों की अनूठी भीड़ में अब,
    कोई पहचानी, पुरानी आ रही हो ।
    कोई हो जो कह सके, मत जाओ प्यारे,
    कोई हो जो मधुर, मन को भा रही हो ।।१।।
    इधर आओ एक बार फिर प्यार कर लें ,

    निगाहों से रूहों को बे -जार कर लें .

    ये जो मन की गति है बड़ी न्यारी है .बढ़िया रचना है जीवन लहरों में उतराती लहराती .

    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 खबरनामा सेहत का

    ReplyDelete
  34. खड़ा मैं कब से समुन्दर के किनारे,
    देखता हूँ अनवरत, सब सुध बिसारे ।
    काश लहरों की अनूठी भीड़ में अब,
    कोई पहचानी, पुरानी आ रही हो ।
    कोई हो जो कह सके, मत जाओ प्यारे,
    कोई हो जो मधुर, मन को भा रही हो ।।१।।
    इधर आओ एक बार फिर प्यार कर लें ,

    निगाहों से रूहों को बे -जार कर लें .

    ये जो मन की गति है बड़ी न्यारी है .बढ़िया रचना है जीवन लहरों में उतराती लहराती .

    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 खबरनामा सेहत का



    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 दिमागी तौर पर ठस रह सकती गूगल पीढ़ी

    ReplyDelete

  35. स्पेम में गईं हैं टिप्पणियाँ भाई साहब .

    ReplyDelete
  36. प्रिय -प्रतीक्षा!

    ReplyDelete
  37. बहुत बढ़िया प्रस्तुति |

    मेरी नई पोस्ट:-ख्वाब क्या अपनाओगे ?

    ReplyDelete
  38. बहुत ही सुंदर रचना |

    ReplyDelete
  39. खूबसूरत ख्याल ...

    ReplyDelete
  40. Sir ji .deep expression like sea.

    ReplyDelete
  41. पूर्णिमा की चांदनी रात जैसा एहसास हो रहा है, बहुत ही सुमधुर रचना.

    रामराम

    ReplyDelete
  42. ,मन पे काबू रखो ,निर्भया बनो ! वर्ष 2012 ने जो चिंगारी छेड़ी है अन्ना जी से निर्भया तक ,जब अकेली जान आधी दुनिया की पूरी तथा इंसानियत की लड़ाई लड़ सकती है मौत को

    धता बता सकती है तब एक फर्ज़ हमारा

    भी है सेकुलर वोट की बात करने वालों को हम भी मुंह की चखाएं .

    ,शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .

    सागर का किनारा हो और साथ तुम्हारा हो ,

    शरमाई सी हंसी हो और प्यार हमारा हो .

    साहिल पे लहरों को सर पटकते देखा ,

    इश्क में गफलत का बाज़ार गर्म देखा .

    एक साहिल और हजार लहरें ,

    किस किस की सुने .


    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    शुक्रवार, 28 दिसम्बर 2012
    एक ही निर्भया भारी है , इस सेकुलर सरकार पर , गर सभी निर्भया बाहर आ गईं , तब न जाने क्या होगा ?

    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    ReplyDelete
  43. क्‍या लिखा है यार! बहुत ही बढ़िया पद्य है।

    ReplyDelete
  44. कोई हो जो बह रहे इन आँसुओं के,
    मर्म की पीड़ा समझती जा रही हो ।।

    भावों में डूबी सुंदर रचना....

    ReplyDelete


  45. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥नव वर्ष मंगबलमय हो !♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥




    खड़ा मैं कब से समुन्दर के किनारे,
    देखता हूँ अनवरत, सब सुध बिसारे ।

    कोई कह दे, छोड़कर पथ विगत सारा,
    तुझे पाया, पा लिया अपना किनारा ।
    कोई कह दे, भूल जाओ स्वप्न भीषण,
    कोई हो जो हृदय को थपका रही हो ।
    कोई कह दे, देखता जो नहीं सपना,
    कोई हो जो प्रेयसी बन आ रही हो ।।

    देखिए, सचमुच कोई आ गई तो गृहयुद्ध की स्थिति बन सकती है
    ;)

    आदरणीय प्रवीण पाण्डेय जी
    आपकी छवि हमारे मनों में कवि/गीतकार की नहीं है ...
    लेकिन आपकी पद्य रचनाएँ पढ़ने पर स्वतः ही मन बोल उठता है -
    वाऽह ! क्या बात है !
    सुंदर भाव !
    सुंदर शब्द !
    खूबसूरत रचना !
    आपकी लेखनी से और भी सुंदर , श्रेष्ठ गीत निसृत हों …
    अस्तु !

    नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    ReplyDelete
  46. मन की कोमल सी ख़्वाहिश लहरों को संबोधित करते हुये .... बहुत सुंदर भाव ।

    ReplyDelete
  47. कोई हो, एकान्त की खुश्की मिटाने,
    नीर अपने आश्रय का ला रही हो ।
    कोई हो जो बह रहे इन आँसुओं के,
    मर्म की पीड़ा समझती जा रही हो

    सुमधुर, सुंदर, खूबसूरत रचना.

    ReplyDelete
  48. कोई हो, एकान्त की खुश्की मिटाने,
    नीर अपने आश्रय का ला रही हो ।
    कोई हो जो बह रहे इन आँसुओं के,
    मर्म की पीड़ा समझती जा रही हो

    सुमधुर, सुंदर, खूबसूरत रचना.

    ReplyDelete
  49. कुछ भावनाएं गाहे बगाहे कवि होने का प्रमाण दे ही डालती हैं । खूबसूरत से भाव ।

    ReplyDelete
  50. यह अनन्त की ही तलाश है

    ReplyDelete